Unique Village of India : एक गांव ऐसा भी जहां जूता-चप्पल पहनने पर मिलती है कठोर सजा

Unique Village Of India : हम जब भी घर से बाहर जाते है पैर में जूते-चप्पल (Footwear) डालकर ही निकलते है, क्योंकि हमारे पैर (Feet) इससे सुरक्षित रहते हैं। लेकिन अगर हम आपसे यह पूछें कि आप क्या बिना जूते और चप्पल पहने पूरे दिन इधर-उधर घूम सकते हैं? तो यकीनन आपका जवाब ना में ही होगा। आजकल के समय में लोग बिना जूता या चप्पल पहने एक कदम भी नहीं चल सकते हैं। लेकिन आज हम आपको भारत (INDIA) के एक ऐसे अनोखे गांव (Unique Village of India) के बारे में बताएंगे, जिसके बारे में जानकर आप हैरान (shocked) हो जाएंगे, क्योंकि इस गांव (Village) में लोगों के जूते–चप्पल पहनने पर पाबंदी (Ban) है। यहां सभी लोग नंगे पांव (Barefoot) घूमते हैं।

यहीं नहीं अगर कोई भी गावं के भीतर जूते या चप्पल पहनकर घूमते दिखता है तो उसे सजा (Punishment) दी जाती है। जी हां हैरान हो गए न, लोकिन ऐसा ही है इसके पीछे की वजह जानकर आप और भी दंग हो जाएंगे। तो चलिए जानते है आखिर इसके पीछे का कारण क्या हैं…

Unique Village of India : तमिलनाडु में है ये गांव

Unique Village

अब आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि भला ऐसा कौन सा अनोखा गांव (Unique Village of India) है जहां पर जूते-चप्पल (Footwear) पहनने पर पूरी तरह से रोक है और आप उस गांव का नाम जानने के लिए भी बेहद उत्सुक हो रहे होंगे, तो आपको बता दें कि भारत (India) के तमिलनाडु (Tamil Nadu) प्रदेश की राजधानी चेन्नई (Chennai) से करीब 450 किलोमीटर दूर अंडमान (Andaman) नाम का एक गांव है। जहां करीब 130 परिवार निवास करते हैं और इनमें से अधिकतर किसान हैं। गांव के एंट्री पॉइंट पर एक बड़ा पेड़ है जिसकी पूजा की जाती है। इससे आगे किसी को भी जूते या चप्पल पहनकर जाने की इजाजत नहीं है। अगर कोई बाहर से गांव में आ रहा है तो उसे यहीं पर अपने जूते-चप्पल उतारने होते हैं। इसके अलावा गांव में भी लोग नंगे पांव ही चलते हैं।

पूरा गावं है भगवान का घर

इस अनोखे गावं में नंगे पावन चलने की प्रथा के पीछे धार्मिक मान्यताओ की वजह है। दरअसल, यहां के लोग गांव की पूरी जमीन को ही पवित्र मानते हैं और इसे भगवान का घर (House Of God) मानते हैं। इस गांव की सबसे अनोखी (Unique) बात यह है कि लोग अपने बच्चों को भी जूते-चप्पल पहने नहीं देते हैं। यही वजह है कि वो रोड पर भी नंगे पांव चलते हैं, फिर चाहे कितनी भी धूप ही क्यों न हो। गांव वालों का कहना है कि अगर जूते-चप्पल पहनकर हम रोड पर चलेंगे तो भगवान (God) रूठ जाएंगे।

Unique Village

इस परिस्थिति में मिलती है छूट

इस गांव (Unique Village of India) में निवास करने वालों का कहना है कि यहां रहने वाले करीब 500 लोगों में सिर्फ अधिक बुजुर्ग लोगों को ही अधिक गर्मी होने पर दोपहर के समय जूते-चप्पल पहनकर चलने की इजाजत दी जाती है। इनके अलावा कोई भी अगर नियम (Rule) तोड़ता है तो उन्हें पंचायत सजा (Punishment) देती है।

Unique Village

सच मायने में देखा जाए तो इस गांव (Unique Village of India) की परंपरा बहुत अनोखी और हैरान (Shocked) कर देने वाली है। आपको यह जानकर और अधिक हैरानी होगी कि इस गांव में रहने वाले लोग सदियों से इस अजीबो गरीब परंपरा को निभाते हुए आ रहे हैं। इस गांव के लोगों को अगर किसी काम से बाहर जाना होता है तो ऐसी स्थिति में वह जूते-चप्पल (Footwear) अपने हाथ में लेकर जाते हैं और जब वह गांव की सीमा को पार कर लेते हैं, तब वह जूते-चप्पल पहन लेते हैं और जब वह वापस लौट कर आते हैं तो गांव की सीमा से पहले ही जूते-चप्पल उतार कर अपने हाथ में लेकर गांव की सीमा के अंदर आते हैं।