300 साल पहले ही बन चुका था दुनिया का पहला ‘Quarantine Center’, लोगों को किया जाता था आइसोलेट

कोरोना महामारी ने केवल किसी एक देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में तबाही मचाई हुई है, कोरोना से बचाव के लिए कोरोना वैक्सीनेशन और सामाजिक दूरी को प्राथमिकता दी जा रही है। कोरोना महामारी आने के बाद हमें कुछ ऐसी चीजों के बारे में जानकारी प्राप्त हुई जिसके बारे में हम पहले नहीं जानते थे जैसे कि लॉकडाउन, सोशल डिस्टेन्सिंग, क्वारंटाइन इत्यादि। जब किसी भी व्यक्ति मे कोरोना महामारी के लक्षण दिखाई देते हैं तो या तो वो व्यक्ति खुद को क्वारंटाइन कर लेता है या फिर डॉक्टर के द्वारा उन्हें क्वारंटाइन होने की सलाह दी जाती हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं हैं कि दुनिया मे क्वारंटाइन शब्द केवल कोरोना काल में ही आया हैं बल्कि आज हम आपको एक ऐसे क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine Center) के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका निर्माण आज से लगभग 300 साल पहले हुआ था।

3 दशक पुराना है दुनिया का पहला Quarantine Center

Lazareti - Medieval Quarantine in Dubrovnik- Croatia

Antibody Cocktail: कोरोना की कॉकटेल वैक्सीन ने भारत को दी खुशखबरी! 1 ही दिन में ठीक हुआ मरीज

क्वारंटाइन सेंटर में उन लोगों को रखा जाता हैं जिनमे महामारी के कोई लक्षण दिखाई देते हैं जिस प्रकार कोरोना महामारी के लक्षण होने पर दुनिया भर के हॉस्पिटल और डॉक्टरों द्वारा कोरोना से पीड़ित लोगों को घर पर क्वारंटाइन होने की सलाह दी जा रही हैं जिससे कि महामारी और लोगों में ना फैल सके। क्या आप जानते हैं कि दुनिया का पहला क्वारंटाइन सेंटर आज से लगभग 300 साल पहले शुरू हो चुका था।

जी हां हम बात कर रहे है इटली देश के Dubrovnik शहर में बने हुए ऐतिहासिक क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine Center) की, इस सेंटर का निर्माण 17वीं शताब्दी में करवाया गया था और जिस जगह ये क्वारंटाइन सेंटर स्थित हैं उस बिल्डिंग को Lazareti कॉम्प्लेक्स के नाम से जाना जाता है।

आबादी को संक्रमण से दूर रखने के लिए हुआ था निर्माण

इटली में स्थित इस क्वारंटाइन सेंटर का निर्माण 300 वर्ष पूर्व हुआ था, इसका निर्माण इसलिए करवाया गया था कि जो भी लोग खतरनाक संक्रामक बीमारी से पीड़ित हो उन्हें घनी आबादी से दूर रखा जा सके। उस समय प्लेग, हैजा, कुष्ठ जैसी बीमारियों को महामारी माना जाता था। जानकारी के अनुसार उस समय इटली के इस शहर Dubrovnik में काफी प्रकार की बीमारियां फैली हुई थी जो जानलेवा साबित हो रही थी।

जिसके बाद स्थानीय प्रशासन ने ये फैसला लिया कि शहर में एक ऐसे क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine Center) का निर्माण करवाया जाए जहां महामारियों से पीड़ित लोगों को रखा जा सके और बाकी लोग इससे संक्रमित ना हो सके।

कितने दिन का होता था क्वारंटाइन पीरियड

Quarantine Center

भारत के इस गांव में अब तक एक भी व्यक्ति नहीं है कोरोना संक्रमित

कोरोना काल में क्वारंटाइन की अवधि 14 दिन से लेकर 28 दिन की होती हैं, Dubrovnik शहर में बने पहले क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine Center) में लोगों को 30 दिनों की अवधि के लिए वहां रखा जाता था जिसे बाद में बढ़ाकर 40 दिन कर दिया गया था। इटेलियन भाषा के अनुसार इस शब्द को क्वारनटीनो कहा जाता हैं। इसी से क्वारंटाइन शब्द प्रचलन में आया हैं, अब इस स्थान को एक पर्यटन स्थल बना दिया गया हैं जिसे देखने के लिए काफी दूर-दूर से लोग आते हैं।

%d bloggers like this: