भारत के इस गांव में अब तक एक भी व्यक्ति नहीं है कोरोना संक्रमित

देश में कोरोना महामारी के कारण हर जगह हालात खराब हैं, देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के चलते कोरोना पीड़ितों की संख्या तेजी से बड़ी और बहुत से लोगों ने इसके चलते अपनी जान गंवाई। शायद ही देश का कोई ऐसा हिस्सा बचा हो जो कोरोना की मार से बचा हो, शहर से लेकर गांव तक कोरोना के मारे हालात खराब हैं। क्या आप जानते हैं कि देश मे एक ऐसा भी गांव मौजूद हैं जहां अभी तक कोरोना महामारी का एक भी केस नहीं मिला हैं, आप भी सुनकर चौंक गए होंगे लेकिन सच में ऐसा एक गांव हैं जहां अभी तक कोरोना पांव पसार नहीं पाया हैं। आज हम आपको उसी गांव के बारे में बताने जा रहे हैं और जानेंगे कि क्यों इस गांव में कोई भी कोरोना संक्रमित नहीं हैं।

इस गांव में नहीं है एक भी कोरोना संक्रमित

lanka

Covid-19 Third Wave: बच्चों पर मंडरा रहा कोरोना का खतरा, जाने क्या करें क्या नहीं

हम जिस गांव की बात कर रहे हैं उसका नाम लंका हैं, ये गांव मध्यप्रदेश के रायसेन जिले के गौहरगंज तहसील क्षेत्र में स्थित हैं, रायसेन के डॉक्टरों के अनुसार सिर्फ कोरोना ही नहीं बल्कि कोई भी संक्रमण इस गांव में संक्रमण नही फैल पाया हैं। ये लंका गांव अपने चारों तरफ हरियाली और नदी से घिरा हुआ हैं, जिस प्रकार रावण की लंका चारों तरफ से हरियाली और पानी से घिरी हुई थी उसी प्रकार ये गांव भी ऐसा ही बसा हुआ हैं।

चारों तरफ हरियाली ही हरियाली

रायसेन क्षेत्र में बसे इस गांव में लगभग 1000 से ज्यादा पेड़ मौजूद होने के कारण इस गांव में हरियाली फैली हुई हैं, इन पेड़ों की वजह से पूरे गांव में शुद्ध हवा रहती हैं, इसके अलावा जब गांव में वर्षा आती हैं तो गांव के चारों तरफ नदी पानी से लबालब हो जाती हैं। लंका गांव के निवासियों के अनुसार गांव में शुद्व वातावरण होने के कारण यहां के निवासी कभी बीमार नहीं पड़ते हैं और इस गाँव का कोई भी व्यक्ति कोरोना संक्रमित नही हुआ है जो अपने आप में बहुत ही बड़ी बात है.

गांव के लोगों के अनुसार गांव में हर तरफ शुद्ध वातावरण बनाने के लिए चारों तरफ पेड़ लगाए गए हैं, ये गांव चारो तरफ नदी से घिरा हुआ हैं और एक टापू के आकार में हैं इसलिए इस गांव को लंका नाम दिया गया हैं, बारिश के दिनों में ग्रामीणों को लकड़ी के पुल से गुजर कर गांव में आना जाना पड़ता हैं।

50 वर्षों से भी ज्यादा समय से बीमारी से दूर है गांव

msid 65119010width 96height 65.cms

Antibody Cocktail: कोरोना की कॉकटेल वैक्सीन ने भारत को दी खुशखबरी! 1 ही दिन में ठीक हुआ मरीज

यहां के ग्रामीण वासियों के मुताबिक इस गांव में लोग पिछले 50 वर्षों से भी ज्यादा समय से रह रहे हैं उनके मुताबिक पिछले 50 सालों में इस गांव के निवासी शायद ही किसी भी बीमारी से पीड़ित हुए हैं। भले ही पूरा प्रदेश कोरोना की चपेट में आने के बाद बुरी तरह सँघर्ष कर रहा हैं लेकिन इस गांव में कोरोना महामारी प्रवेश नहीं कर पाया हैं जिसका नतीजा ये है कि कोई भी कोरोना संक्रमित नहीं हुआ है।

गांव की एक बुजुर्ग महिला लक्ष्मी के अनुसार गांव में मौजूद हरियाली की वजह से ना केवल कोरोना जैसी बीमारी गांव में आई हैं इसके अलावा गांव के शुद्ध वातावरण के कारण ही गांव में खुशहाली का आलम हैं और इसी वजह से गांव में गर्मी का एहसास भी नहीं होता हैं।

%d bloggers like this: