Covishield Vaccine: बदल गया डोज का गैप, अब 28 दिनों में लगेगी कोविशील्ड

Covishield Vaccine | कोरोना वायरस ने देश मे बुरी तरह तबाही मचाई हुई है, फिलहाल देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर से प्रभावित होने के बाद अब रिकवरी की तरफ है, पिछले साल ही कोरोना वायरस से बचाव हेतु वैक्सीन के निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो गई थी और इस वर्ष 16 जनवरी से देश में कोरोना वैक्सीनेशन कार्यक्रम की शुरुआत की गई थी। फिलहाल देश में भारत बॉयोटेक द्वारा निर्मित कॉवेक्सीन और सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield) लगाई जा रही है।

इन दोनों वैक्सीन के अलावा रूस से स्पूतनिक वी वैक्सीन भी भारत पहुंच चुकी है, इसके अलावा और भी वैक्सीन तैयार की जा रही है, वैक्सीनेशन कार्यक्रम को दो चरणों मे बांटा गया है इसके अनुसार हर व्यक्ति को वैक्सीन की दो डोज दी जाएगी। हर डोज के बीच में गैप रखना जरूरी है, अभी हाल में ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कोविशील्ड (Covishield) वैक्सीन की दोनों डोज के बीच गैप को लेकर बदलाव किया है। आइये जानते है कि अब कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों डोज के बीच कितने दिन का इंतजार करना होगा।

Covishield की दूसरी डोज के समय में किया बदलाव

Covishield Vaccine

Antibody Cocktail: कोरोना की कॉकटेल वैक्सीन ने भारत को दी खुशखबरी! 1 ही दिन में ठीक हुआ मरीज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज के बीच गैप को लेकर एक बार फिर बदलाव किए है, देश में जब से कोरोना वैक्सीनेशन शुरू हुआ है तब से अब तक कोरोना वैक्सीन के गैप में तीन बार बदलाव किया जा चुका है। शुरुआत में वैक्सीन की डोज के बीच 28 दिन से लेकर 42 दिन तक का गैप रखा गया था जिसे 22 मार्च को बढ़ा कर 6 से 8 सप्ताह कर दिया गया था और उसके बाद 13 मई को इस अंतराल को 12 से 16 हफ्ते कर दिया गया था।

इस बार स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन की डोज के बीच बदलाव कुछ कैटेगरी के लिए ही किया गया है, जबकि कॉवेक्सीन की दोनों डोज के बीच गैप पहले की तरह ही 28 दिन रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये गए इस बदलाव से अब कोविशील्ड की दूसरी डोज के लिए 84 दिनों का इंतजार करना जरूरी नहीं होगा बल्कि 28 दिन बाद दूसरी डोज ली जा सकती है।

Covishield की दूसरी डोज जल्दी कौन लगवा सकता है

देश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच बदलाव ऐसे लोगों के लिए किया है जिन्हें विदेश यात्रा पर जाना है, ये बदलाव ऐसे लोगों के ही मान्य होगा जो विदेश जाना चाहते है और वैक्सीन की पहली डोज ले चुके है तो अब उन्हें दूसरी डोज के लिए 84 दिन यानी 12 से 16 सप्ताह का इंतजार नहीं करना होगा और केवल 28 दिनों बाद ही दूसरी डोज ले सकते है।

जो लोग आने वाले समय में किसी विदेशी यात्रा पर जाने वाले है, ये यात्रा पढ़ाई को लेकर, रोजगार को लेकर या ओलंपिक टीम के हिस्से के रूप में करनी पड़ सकती है, तो ऐसे लोग अपनी यात्रा के अनुरूप कोविशील्ड की दूसरी डोज पहले ले सकते है।

Covishield की डोज के गैप में क्यों किया गया बदलाव

Corona Vaccination

Methylene Blue: ब्लैक फंगस और कोरोना संक्रमण में कितनी कारगर है यह दवा? जानें सब कुछ

सरकार द्वारा ये बदलाव देश से बाहर किसी अन्य देश की यात्रा करने जा रहे लोगों के लिए बनाए गए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर के तहत किया गया है, कोविशील्ड वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा मंजूरी मिल चुकी है। कोविशील्ड की दो डोज लगने के बाद कोई भी भारत के बाहर किसी भी देश की यात्रा कर सकता है, इसके साथ ही वैक्सीन की दोनों डोज लगने के बाद इंफेक्शन होने का खतरा बेहद ही कम हो जाता है और ऐसे व्यक्ति तेजी से फैलने वाले वायरस के नए स्ट्रेन से बचे रहेंगे।

ये बदलाव सिर्फ ऐसे लोगों की लिए किया गया है जिन्हें विदेश यात्रा पर जाना है बाकी लोगों के लिए कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच पहले की तरह 84 दिनों का रहेगा, उनके लिए वैक्सीन नियमों में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया गया है।

वैक्सीन की दोनों डोज के बीच 84 दिन के गैप का क्या फायदा है

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 13 मई को नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑफ इम्यूनाइजेशन (NTAGI) के द्वारा की गई सिफारिश के अनुसार ही कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच गैप को बढ़ाकर 12 से 16 हफ्ते यानी 84 दिन किया गया था। सिफारिश में कहा गया था कि इतने गैप की वजह दे ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन की पहली डोज लेकर कोरोना के खिलाफ सुरक्षा घेरे में आ जाएंगे।

इसके अलावा इस बारे में हुई कुछ रिसर्च के द्वारा भी डोज के गैप का समर्थन किया गया है, रिसर्च के अनुसार कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच 12 से 16 सप्ताह का गैप होने से ये ज्यादा असरकारी होती है और शरीर में ज्यादा मात्रा में एंटीबॉडी रेस्पॉन्स को जन्म देती है। भारत ही नहीं बल्कि विदेशों के क्लीनिकल डेटा भी इस बात की पुष्टि करते है।

%d bloggers like this: