देश की सबसे बड़ी अदालत का ऐतिहासिक फैसला, इन शर्तों के साथ इच्छामृत्यु होगी मान्‍य

देश की सबसे बड़ी अदालत का ऐतिहासिक फैसला, इन शर्तों के साथ इच्छामृत्यु होगी मान्‍य

लंबे समय से चला आ रहे अब तक का सबसे विवादित विषय इच्छामृत्यु (लिविंग विल) पर सुप्रीम कोर्ट ने आखिरकार कुछ जरूरी निर्देशों के साथ इजाजत दे ही दिया है लेकिन अभी भी इसे “निष्क्रिय (पैसिव)” की श्रेणी में ही रखा जायेगा। आज शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने ऐतिहासिक फैसले में यह कहा कि किसी भी इंसानों को इज्जत के साथ मरने का पूरा हक है, और इसके साथ ही पाँच जजों की बेंच ने जिसकी अगुवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा कर रहे थे ने इस मामले पर अपना फैसला सुनाया जो यकीनन लंबे समय तक याद किया जाएगा।

देश की सबसे बड़ी अदालत का ऐतिहासिक फैसला, इन शर्तों के साथ इच्छामृत्यु होगी मान्‍य

क्या है लिविंग विल ?

लिविंग विल जिसका यह मतलब होता है जब कोई व्यक्ति जब अतिगंभीर बीमारी से पीड़ित हो और उसे लाइफ सपोर्ट की अति आवश्यकता हो जिसके बिना वो एक पल भी जीवित ना रह सके तब इस स्थिति को लिविंग विल की चरम स्थिति माना जाता हैं। यह उस वक़्त चरम पर माना जाता है जब बीमार व्यक्ति खुद से अपनी इच्छा व्यकत नहीं कर पाता है।

यह भी पढ़े : बॉलीवुड के इस दिग्‍गज अभिनेता को हुई ये गंभीर बीमारी, फैंस इनके लिए कर रहे हैं दुआ

देश की सबसे बड़ी अदालत का ऐतिहासिक फैसला, इन शर्तों के साथ इच्छामृत्यु होगी मान्‍य

क्या है निष्क्रिय इच्छामृत्यु

जब किसी व्यक्ति की ऐसी हालत हो जाये की जिंदगी से अच्छी मौत बन जाये तब ऐसे में उसके  मौत के लिए उसके लाइफ सपोर्ट को हटा दिया जाए है या उसे ऐसा कुछ दिया जाए जिससे वह मृत्यु को प्राप्त हो सके।

बता दे आज शुक्रवार के दिन सुप्रीम कोर्ट ने इस अहम मामले की सुनवाई पर कहा कि इस धरती पर हर मनुष्य को सम्मान के साथ जितना जीने का हक है उतना ही मौत का भी हक है। बताना चाहेंगे की इस बेंच में चीफ़ जस्टिस के अलावा इस फैसले के दौरान जस्टिस एके सिकरी, जस्टिस एएम खनविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस अशोक भूषण शामिल भी शामिल रहे।

देश की सबसे बड़ी अदालत का ऐतिहासिक फैसला, इन शर्तों के साथ इच्छामृत्यु होगी मान्‍य

पिछले साल अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट से इस मामले की याचिका में कोर्ट से गुहार लगाई गई थी कि शांति से मरने का अधिकार भारतीय संविधान की धारा 21 के तहत राइट टू लिव में आता है और इसलिए लोगों को इच्छामृत्यु का अधिकार मिलना चाहिए लेकिन इस आदेश का दुरूपयोग ना हो इसके लिए  सुप्रीम कोर्ट ने इच्छा मृत्यु के लिए कुछ शर्तें भी रखी हैं। कोर्ट ने कहा कि इच्छा मृत्यु चाहने वाले शख्स के परिजनों की इजाज़त के बाद ही इसकी अनुमति दी जाएगी, साथ ही डॉक्टरों की एक टीम यह तय करेगी जिसे लगे कि उस व्यक्ति को ठीक करना नामुमकिन है।

Youth Trend

YouthTrend is a Trending Hindi Web Portal in India and Continuously Growing Day by Day with support of all our Genuine Readers. You can Follow us on Various Social Platforms for Latest News of Different Segments in Hindi.

%d bloggers like this: