Varanasi: महिला दरोगा को ‘सिंग्हम’ बनाना पड़ा भारी, जानें पूरा मामला

Varanasi | देश में हालात कोरोना महामारी की दूसरी लहर की चपेट में आने के बाद धीरे-धीरे सुधर रहे है, प्रतिदिन मिलने वाले नए मरीजों की संख्या कम होने लगी है, दूसरी लहर की वजह से देश के अधिकांश हिस्सों में लॉकडाउन लगाया गया था लेकिन अब केस कम होने की वजह से पूरे देश में धीरे-धीरे अनलॉक की प्रक्रिया जारी है। भोलेनाथ की नगरी काशी में भी नए केस कम होने से धीरे-धीरे शहर में लॉकडाउन हटाया जा रहा है, वाराणसी (Varanasi) में बीते सोमवार से लॉकडाउन हटने के साथ रोजमर्रा की गतिविधियों में थोड़ी बंदिश दी गई है।

लॉकडाउन खुलते ही बाजारों में एक बार फिर से भीड़ उमड़ने लगी है, भले ही लॉकडाउन को हटे हुए केवल 48 घंटे ही बीते हो लेकिन बाजारों की हालत देखकर तो ऐसा लगता है कि काशी में कभी लॉकडाउन लगा ही नहीं था। इसके अलावा इन दिनों लॉकडाउन के दौरान का एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक पुलिस अधिकारी एक व्यापारी को थप्पड़ मारती हुई नजर आ रही है, आइये जानते है कि क्या है ये पूरा मामला और आखिरकार क्यों बेपरवाह हो रहे है वाराणसी के लोग।

महिला दरोगा ने जड़ा जोरदार थप्पड़

Varanasi News

वाराणसी: यहां के भगवान भी होते हैं Quarantine, 200 वर्षों से निभाई जा रही हैं ये प्रथा

Varanasi में इन दिनों लॉकडाउन के दौरान एक व्यापारी को लगाया गए थप्पड़ की खूब चर्चा हो रही है, दरअसल ये घटना अप्रैल की है जब कोरोना की दूसरी लहर के चलते वाराणसी में लॉकडाउन लगा दिया गया था। बताया जा रहा है कि वाराणसी की दरोगा सुमन यादव एक सर्राफा व्यापारी की दुकान पहुंची थी और उन्होंने व्यापारी से पूछताछ के बाद उन्होंने व्यापारी के गाल पर जोरदार तमाचा जड़ दिया था।

ये तो कोई नहीं जानता कि दरोगा ने व्यापारी को थप्पड़ क्यों मारा लेकिन दरोगा की इस हरकत की वजह से उन्हें लाइन हाजिर होना पड़ गया, अप्रैल में लगे कोरोना कर्फ्यू की वजह से तो ये मामला दब गया था लेकिन अब कोरोना लॉकडाउन हटने के बाद व्यापारी संघ के एक समूह ने दरोगा के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है जिसके बाद दरोगा को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

बाजारों में उमड़ रहीं है भीड़ हो रहे है लोग बेपरवाह

सोमवार से वाराणसी (Varanasi) में लॉकडाउन हटा दिया गया है लेकिन सरकार द्वारा बंदिशों में छूट मिलते ही लोग फिर से बेपरवाह होने लगे है, बाजारों में खासकर सब्जी मंडियों में बेहद ज्यादा भीड़ उमड़ रही है। बाजारों में भीड़ उमड़ने के साथ ही लोग सरकार के द्वारा जारी की गई गाइडलाइन्स का पालन करना भूल गए है, सब्जी मंडियों में लोग ना तो सामाजिक दूरी का पालन किया जा रहा है और ना ही लोग मास्क लगा रहे है।

बाजारों में लोगों ने नियमो को ताक पर रख दिया है, बाजारों में इतनी भीड़ उमड़ रही है कि लोग एक-दूसरे से टकरा कर चल रहे है, जरा कल्पना कीजिये कि अगर कोई व्यक्ति संक्रमित हुआ तो वो अपने साथ कितने और लोगो को संक्रमित करेगा। लोगों का कहना है कि बाजार काफी लंबे समय बाद खुले है इसलिए बाजार में इतनी भीड़ उमड़ रही है, वैसे लोगों को पता है कि मास्क लगाना और सामाजिक दूरी का पालन करना जरूरी है फिर भी लोग मान नहीं रहे है।

कुछ समय पहले मचा हुआ था कोरोना से हाहाकार

Varanasi News

Corona Vaccine की पहली डोज के बाद हुए पाज़िटिव तो कब ले सकते हैं दूसरी डोज, यहाँ जानें

कुछ समय पहले तक वाराणसी में कोरोना की वजह से हाहाकार मचा हुआ था, दिन-प्रतिदिन कोरोना के केसों में बढ़ोतरी होती जा रही थी लेकिन उसके उलट अब लॉकडाउन हटने के बाद तो ऐसा लग रहा है कि वाराणसी में कोरोना कभी नहीं था। बाजारों की हालात देखकर यहीं कहा जा सकता है कि सरकार के द्वारा बनाये गए नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है।

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में बाजारों को खोलने के लिए कुछ नियम बनाये गए है जिनमें बाजारों को सुबह 7 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक खोलने की इजाजत है, शनिवार और रविवार के दिन शहर में कोरोना कर्फ्यू रहेगा, दुकानदारों और उनके स्टाफ को हर समय मास्क लगाना होगा। दुकान मालिकों को दुकान में सामाजिक दूरी का ध्यान रखना होगा और दुकान में सैनिटाइजेशन के लिए वो जिम्मेदार होंगे, अगर इनमें से कोई भी नियम टूटता है तो व्यक्ति पर महामारी अधिनियम के तहत कानूनी कार्यवाही की जाएगी।