Tag: solution

निर्जला एकादशी के दिन एक साथ करें ये छोटा सा काम, 24 एकादशी के बराबर मिलेगा फल

निर्जला एकादशी के दिन एक साथ करें ये छोटा सा काम, 24 एकादशी के बराबर मिलेगा फल

Interesting, News, Religion
हिन्दू धर्म मानने वाले लोगों को इस एकादशी का खास इंतजार रहता है| ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला या भीमसेनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस एकादशी का व्रत करने से 24 एकादशियों के व्रत के समान फल मिलता है| इस एकादशी का व्रत करके आप साल भर का पुण्य एक साथ पा सकते हैं| इस साल यह व्रत 23 जून को है। एकादशी व्रत का आरम्भ सूर्योदय से अगले दिन सूर्योदय तक चलता है। ब्रम्हमुहूर्त में श्री विष्णुसहस्त्रनाम से व्रत का आरम्भ कीजिये और 'ॐ नमो भगवते वासुदेवाय महामंत्र, का जाप करे| निर्जला एकादशी थोड़ा कठिन होता हैं क्योंकि इस व्रत में एक दिन तक पानी नहीं पीना रहता हैं| मान्यता हैं की निर्जला एकादशी का व्रत करने से मनुष्य के कई जन्मों के पापों का नाश होता है। इस व्रत का आरम्भ सूर्योदय से ही शुरू होता हैं| इस एकादशी का फल पाने के लिए, जहां तक हो सके निर्जला व्रत ही रहें परंतु अ
16 जून बड़ा शनिवार को नमक से करें ये उपाय, माता लक्ष्मी दोनों हाथों से लुटाएंगी धन

16 जून बड़ा शनिवार को नमक से करें ये उपाय, माता लक्ष्मी दोनों हाथों से लुटाएंगी धन

Interesting, Religion
हमारे जीवन में नमक का बहुत उपयोग है। खाने में नमक ना हो तो खाना स्वाद रहित हो जाता हैं और ज्यादा हो तो भी वह खाने लायक नहीं होता हैं| नमक हमारे स्वास्थय के लिए लाभदायक होता हैं परंतु सीमित मात्रा में| यदि ज्यादा नमक का सेवन करते हैं तो आपको स्वास्थय संबन्धित समस्या हो सकती हैं| इसलिए नमक का प्रयोग एक सीमित मात्रा में करनी चाहिए| नमक के कई प्रकार होते हैं| सेंधा नमक जिसे हम पहाड़ी नमक भी कहते हैं, समुद्री नमक, काला नमक, सामान्य नमक इत्यादि। परंतु आज हम आपको यहां खाद्य पदार्थों से संबन्धित नमक के प्रयोग के बारे में नहीं बताने जा रहे हैं। वैसे तो देखें तो नमक के ढेरों उपाय हैं, लेकिन आज हम आपको नमक के ऐसे चमत्कारिक उपाय के बारे में बताएंगे जिन्हें जानकर आप शायद हैरान रह जाएंगे। आइए जानते हैं नमक के उपाय के बारे में... (1) इस उपाय को करने के लिए काला नमक ले उसके बाद एक लाल कपड़ा ले| अब
सालभर में बस एक बार लगा लें ये एक चीज, पुराने से पुराना दाद जड़ से हो जाएगा खत्म

सालभर में बस एक बार लगा लें ये एक चीज, पुराने से पुराना दाद जड़ से हो जाएगा खत्म

Health & Fitness, Lifestyle
हमें गर्मियों के मौसम में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं| चाहे वह असहनीय गर्मी हो या उससे जुड़ी समस्या| अक्सर हमें गर्मियों में त्वचा संबन्धित कई समस्याएँ देखने को मिलती हैं, जिसमें से एक दाद और खुजली होती है। दाद और खुजली शरीर के ऐसी भागो में होते हैं जिसको की दूसरों से कहने में भी लोग शरमाते हैं। परंतु यह ऐसी बीमारी हैं जिसका इलाज सही समय पर न किया जाए तो यह आपके लिए एक बड़ी समस्या बन सकती हैं| दाद और खुजली भले ही देखने में छोटी सी समस्या लगे, परंतु जिसको होती है, उसकी हालत खराब हो जाती है। चर्म रोगों में दाद खुजली सबसे बड़ी समस्या है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपने बहुत सारे उपाय भी कर लिया हैं तथा बहुत सारी दवाइयाँ भी करके आप थक गए हैं फिर भी यह बीमारी आपका पीछा नहीं छोड़ रही हैं तो आइए हम आपको इस बीमारी से छुटकारा पाने का रामबाण उपाय बताते है। वैसे भी दाद और खुजली
आज के दिन करें ये एक उपाय, बढ़ जाएगी आपकी आय

आज के दिन करें ये एक उपाय, बढ़ जाएगी आपकी आय

Religion
13 जून बुधवार को अधिकमास की समाप्ति हो रही है| 13 जून से पहले 11 जून सोमवार को ज्येष्ठ के अधिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि है| इस तिथि को बहुत विशेष माना जाता है क्योंकि अधिक मास में प्रदोष व्रत और सोमवार का शुभ योग बन रहा है| अधिकमास 3 साल में एक ही बार आता है| अधिकमास को पुरुषोत्तम मास भी कहते हैं| इस मास में सोम प्रदोष का योग बनना बहुत ही शुभ माना जाता है| इस शुभ योग में आप भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए निम्न उपाय कर सकते हैं क्योंकि भगवान शिव दुखो के हरता हैं| इस शुभ योग में आप भगवान शिव को खुश करने के लिए निम्न उपाय करेंगे तो इससे आपकी आय बढ़ेगी.. यह भी पढ़ें : अपनी लम्बाई का धागा लेकर चुपचाप करें ये उपाय फिर होगा गजब का चमत्‍कार आय बढ़ाने के उपाय 11 जून सोमवार को ज्येष्ठ के अधिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि है| इस सोम प्रदोष के दिन घर में पारद शिवलिंग स्थाप
पहली नजर में चुने एक आकृति और जानेंं अपनी समस्याएं और उसका क्‍या है हल

पहली नजर में चुने एक आकृति और जानेंं अपनी समस्याएं और उसका क्‍या है हल

Interesting, News, Religion
कीमिया दर्शन के अनुसार हर मनुष्य में एक छिपी हुई प्रकृति होती हैं जिन्हें कुछ चिन्हों के रूप में दिखाया जाता हैं| इन चिन्हों के अनुसार आप अपने वर्तमान और भविष्य में होने वाली घटनाओं का संकेत अनुभव कर सकते हैं| ऐसे ही हम आपको कुछ चिन्हों को दिखाएंगे उन आकृति में जो भी चिन्ह आपको पहली नजर में पसंद आती हैं उसको आप चुने फिर हम आपको बताएँगे की उनका क्या संकेत हैं आपके लिए तो आइए जानते हैं वो कौन से चिन्ह हैं। (1) शेर शेर शौर्य का प्रतीक हैं वैदिक और ज्योतिष में इसे सूर्य के समान माना जाता हैं| और शौर्य से प्रभावित राशि को इसे प्रतिकात्मक रूप में दिखाया जाता हैं| इसे चुनने का अर्थ हैं की आप को अपने भाग्य के साथ थोड़े समझौते करने की जरूरत हैं| इस चिन्ह से पता चलता हैं की जिस भी रास्ते पर आप चल रहें हैं उसमें कुछ सुधारो की आवश्यकता हैं| क्योंकि हो सकता हैं वह रास्ता या निर्णय आपके लिए गलत हो|
29 मई मंगलवार पुर्णिमा बस एक माचिस से करें ये उपाय, आएगा इतना पैसा की संभाल नहीं पाओगे आप

29 मई मंगलवार पुर्णिमा बस एक माचिस से करें ये उपाय, आएगा इतना पैसा की संभाल नहीं पाओगे आप

Interesting, Religion
29 मई 2018, मंगलवार को पुर्णिमा हैं| इस तरह की पुर्णिमा ज्येष्ठ मास में 3 साल में एक बार आती हैं| यह 28 मई को सायं 8 बजकर 40 मिनट से शुरू होकर 29 मई को सायं 7 बजकर 29 मिनट तक रहेगी| इस मास का महत्व धार्मिक कर्मों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इस मास को स्वयं कृष्ण नाम देकर वरदान दिया गया था| पुर्णिमा और एकादशी पर पुजा-पाठ और उपायों का फल अत्यंत बढ़ जाता हैं| जहां तक हो सके दिन में एक बार किसी भी बेजुबान जानवर को खाना अवश्य दे| उस जानवर के आशीर्वाद से आप हमेशा सुखी रहेंगे| आइए जानते हैं की माचिस का उपाय करने से आपको क्या लाभ मिलेगा.... बाजार से एक माचिस खरीद ले या फिर अपने घर का ही माचिस लें परंतु इस बात का ध्यान रखें की वह माचिस इस्तेमाल ना की गयी हो| उस माचिस को लेकर अपने पुजा घर में आयें फिर आप एक दीपक ले वह दीपक मिट्टी का भी हो सकता हैं| क्योंकि माँ लक्ष्मी देवलोक में दी
माईग्रेन, सोराइसिस से लेकर किडनी इंफेक्शन जैसी गंभीर बीमारियों को दूर करने के लिए रामबाण है यह बीज

माईग्रेन, सोराइसिस से लेकर किडनी इंफेक्शन जैसी गंभीर बीमारियों को दूर करने के लिए रामबाण है यह बीज

Health & Fitness, Lifestyle
आज देखा जाए तो हर कोई अपने अपने काम मे इतना ज्यादा व्यस्त हो गया है की अपने स्वास्थ्य पर जरा भी ध्यान ही नहीं दे पाते और जब तक ध्यान देते है तक काफी देर हो चुकी होती है। कुछ बीमारियाँ जो होती तो बहुत हिमामूली सी हैं लेकिन अगर इनपर समय पर ध्यान नही दिया गया और उचित इलाज नहीं किया गया तो यकीनन ये काफी घातक साबित हो सकती हैं। आज हम आपको एक ऐसे बीज के बारे में बताने वाले हैं जो समस्याओं को दूर करने वाली एक बेहद अचूक औषधि है। यह भी पढ़ें : मटके का पानी पीने वाले 99 % लोग नहीं जानते होंगे इसके फायदे, एक बार जरूर पढ़ लें आपको बता दें की यह बीज हमारे शरीर के लिए काफी गुणकारी होने के साथ ही साथ काफी ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक भी है, असल में हम जिस चीज के बारे में बात कर रहे हैं वह है सब्जा बीज। बताना चाहेंगे की इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, विटामिन ए, विटामिन के जैसे कई खनिज तत्व पाए जाते ह
अगर आपके भी हर काम में आ रही है रूकावट तो गुरुवार को करें बस ये छोटा-सा उपाय

अगर आपके भी हर काम में आ रही है रूकावट तो गुरुवार को करें बस ये छोटा-सा उपाय

Religion
आज गुरुवार का दिन हैं, जैसा नाम से ही पता चल रहा हैं की गुरु का दिन| वैसे हमारे भारतीय सभ्यता में तो हर एक दिन का महत्व हैं परंतु गुरुवार का दिन काफी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि इस दिन हम किसी और की नहीं बल्कि अपने गुरु की पूजा करते हैं| गुरुवार के दिन गुरु की पुजा करने से घर में सुख शांति में वृद्धि होती हैं| हमारे यहाँ ऐसी मान्यता है कि गुरु बृहस्पति देवताओं की गुरु है| हमारे ज्योतिष शास्त्र में उल्लेखित भी हैं की सुखी दांपत्य जीवन और जीवन में सफलता के लिए गुरु की पूजा बहुत ही आवश्यक है। माना जाता हैं की स्त्रियों के विवाह और पुरुषों में आजीविका के लिए गुरुवार के दिन पूजा अवश्य ही करनी चाहिए। आज हम आपको कुछ ऐसे काम बता रहे हैं जो की सिर्फ गुरुवार के ही दिन करना चाहिए, आइए जानते हैं। यह भी पढ़ें : आज से शुरू हो गया है मलमास, पूरी दुनिया में होगा नई ऊर्जा का संचार, जरूर करें ये
अमावस्या के दिन घर में इनमें से किसी भी एक जगह रख दें फिटकरी का 1 टुकड़ा, दुखों का होगा नाश

अमावस्या के दिन घर में इनमें से किसी भी एक जगह रख दें फिटकरी का 1 टुकड़ा, दुखों का होगा नाश

Religion
15 मई को मंगलवारी अमावस्या और शनि जयंती दोनों एक साथ हैं| यह बहुत अदभूत दिन हैं और अदभूत संयोग बन रहा हैं। इस दिन आप जो भी उपाय करते हैं उसका दोगुना फल मिलता हैं| यदि आपके कुंडली में पित्र दोष हैं, शनि दोष या फिर कोई ग्रह दोष हैं इन सबसे आपको मुक्ति मिलती हैं। हमारे घर में बहुत सारी ऐसी चीजें होती हैं जिनसे हम अंजान रहते हैं, जैसे की फिटकरी। फिटकरी का आयुर्वेद में इसके लाभ के बारे में बताया गया हैं। फिटकरी हर किसी के घर में मिल जाती हैं| खास कर छोटे-मोटे नाई के दुकान पर फिटकरी जहां पसीने की बदबू को मिटाता हैं, वही त्वचा के कटने या खून को बहने से रोकने के लिए हम फिटकरी का इस्तेमाल करते हैं| गांवों में अक्सर पानी को साफ करने में इस्तेमाल किया जाता हैं। यह भी पढ़ें : अमावस्या को सुबह उठकर पुरानी झाड़ू से करें ये उपाय, मां लक्ष्मी दोनों हाथों से आपके घर बरसाएंगी धन फिटकरी का उल्लेख केव
अमावस्या को सुबह उठकर पुरानी झाड़ू से करें ये उपाय, मां लक्ष्मी दोनों हाथों से आपके घर बरसाएंगी धन

अमावस्या को सुबह उठकर पुरानी झाड़ू से करें ये उपाय, मां लक्ष्मी दोनों हाथों से आपके घर बरसाएंगी धन

Religion
15 मई मंगलवार बहुत विशेष दिन हैं| इस दिन एक झाड़ू अपने घर जरूर लेकर आयें| इस दिन शनि जयंती और मंगलवारी अमावस्या हैं| इस दिन पित्रदोष से मिलती हैं मुक्ति, यदि आपके कुंडली में पित्रदोष, शनिदेव की साढ़ेसाती हो या फिर किसी भी ग्रह का दोष हो इस दिन कई राशि वालो की किस्मत बदलने वाली हैं| जेठ का महिना हैं और मलमास भी हैं। इस दिन आप जल्दी स्नान करे हो सके तो आप गंगा में स्नान करें इससे आपको ज्यादा लाभ मिलेगा| इसदिन भगवान शिव की पुजा करे साथ ही शिवलिंग के ऊपर जल, दूध फिर तिल जरूर चढ़ाएँ| इस दिन एक झाड़ू का दान मंदिर में या किसी गरीब को जरूर करे| इसके साथ ही उनको भोजन का भी दान करें। यह भी पढ़ें : 200 साल बाद आयी ऐसी महाअमावस्या, जरा-सा सरसों का तेल रातोंरात चमका देगा किस्मत विष्णुपुराण के अनुसार अमावस्या के दिन उपवास रखना चाहिए, पित्रगड़ के साथ-साथ सूर्य देवता, वायु देवता, इंद्र देवता और अश्वनी