आखिर क्या दर्शाती हैं अशोक चक्र की 24 तीलियां ?

भारत का तिरंगा झंडा हमारी शान है। जब भी यह झंडा फहराया जाता है तो हमें गौरव का एहसास होता है। इस झंडे में तीन तरह के रंग है जो कि देश की एकता का प्रतिक हैं वहीं झंडे के बीच में अशोक चक्र बना हुआ है। इस चक्र में 24 तीलियां हैं। इन तीलियों का अपना महत्व है। कहा जाता है कि ये अशोक चक्र का निशान सम्राट अशोक के बहुत से शिलालेखों पर प्रायः एक चक्र है, यह चक्र धर्म चक्र का प्रतीक माना जाता है। उदाहरण के तौर पर सारनाथ स्थित सिंह-चतुर्मुख जिसे लॉयन कैपिटल भी कहते हैं और अशोक स्तम्भ पर अशोक चक्र विद्यमान है, भारत के राष्ट्रीय ध्वज में अशोक चक्र को स्थान दिया गया है। आइए अब आपको बताते हैं कि आखिर अशोक चक्र पर बनी 24 तीलियां क्या दर्शाती हैं।

क्या दर्शाती हैं तीलियां

दरअसल अशोक चक्र को दूसरे शब्दों में कर्तव्य का पहिया कहा जाता है। ये 24 तीलियां मनुष्य के अंदर के 24 गुणों को दर्शाने का काम करती हैं। इन्हें मनुष्य के लिए बनाए गए 24 मार्ग भी हम कह सकते हैं। अशोक चक्र में बताये गए सभी धर्मं मार्ग किसी भी देश को उन्नति के पथ पर पहुंचा देंगे। शायद यही कारण भी है कि हमारे रष्ट्र ध्वज के निर्माताओं ने जब इसका अंतिम रूप फाइनल किया तो उन्होंने झंडे के बीच में चरखे को हटाकर इस अशोक चक्र को रखा।

अशोक चक्र की पहली तीली संयम को दर्शाती है। वहीं इसकी दूसरी तीली मनुष्य के जीवन को निरोगी रूप से जीने की प्रेरणा देती है। अशोक चक्र की तीसरी तीली शांति व्यवस्था के लिए प्रेरित करती हैं। वहीं इसकी चौथी तीली त्याग का प्रतीक है। अगर हम अशोक चक्र की पांचवी तीली की बात करें तो ये हमें व्यक्तिगत स्वभाव में शीलता की शिक्षा देती है। वहीं छठवीं तीली सेवा के लिए मनुष्य को प्रेरित करती है। अशोक चक्र की 7वीं तीली क्षमा का प्रतीक है।

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी की नई टोयोटा कार पर लोग क्यों खा रहे धोखा, देखें विडियो

ये भी है महत्त्व

वहीं इसकी आठवीं तीली हमें प्रेम का संदेश देती है। अशोक चक्र की नवीं तीली हम लोगों को समाज में मैत्री भावना रखने के लिए प्रेरित करती है। वहीं इसकी दसवीं तीली बंधुत्व का प्रतीक है। अशोक चक्र की 11वीं तीली संगठन का प्रतीक है। 12वीं तीली कल्याण की भावना, कल्याणकारी कार्यों में भाग लेने की बात दर्शाती है। 13वीं तीली दर्शाती है कि हम देश और समाज में समृद्धि के लिए अपना योगदान करें। वहीं 14वीं तीली उद्योग का प्रतीक है। अशोक चक्र की 15वीं तली सुरक्षा वहीं 16वीं तीली नियम का प्रतीक है। वहीं 17वीं तीली समता और 18वीं तीली धन का सदुपयोग करने का संदेश देती है।

19वीं तीली नीति और 20वीं तीली न्याय को दर्शाती है। वहीं 21वीं तीली सहकार्य के लिए मनुष्य को प्रेरित करती है। अशोक चक्र की 22वीं तीली कर्तव्य और 23वीं तीली अधिकार को दर्शाती है। वहीं 24वीं तीली बुद्धिमता का प्रतीक है।

Share this on