जन्म से ही शापित होते हैं ये लोग, चैन की जीना तो दूर सांस लेना भी हो जाता है दुश्वार

क्या आपने कभी ऐसे व्यक्ति को देखा है, जो हमेशा किसी न किसी वजह से डाट सुनता रहता है। कभी कुछ अच्छा करने जाये तो उसके साथ बुरा ही होता है। जी हाँ, ऐसे कई लोग होते है जिनकी वजह से उनका ही नही उनके आस पास के लोगो का भी बुरा होता है। कुछ लोग इन्हें शापित व ऐसे ही अन्य नामो से बुलाते है। कभी कभी शापित लोगो की उनके आस-पास के लोग कुटाई भी कर देते है।

ऐसा मानना है कि शापों की वजह से उस व्यक्ति की कभी प्रगति नही हो पाती है और ना ही उसके पुरुषार्थ की। इनके संतानों ज्यदा उम्र तक जीवित नही रह पाते है ऐसी ही और भी काफी बाते कही जाती है।     

इनके बुरे प्रभावों के कारण इनकी शापित कुंडलियां होती है। ज्योतिष में इन शापित कुंडलियों में त्रिशूल योग के आधार पर कालसर्प योग बताया है। इन कुंडलियों में राहु अष्टम स्थान में और केतु द्वितीय स्थान में हो तो ज्योतिष के अनुशार ऐसी स्थिति में ‘कालसर्प योग’ बने तो यह ‘योग’ बेहद ही कष्टकारक होता है।

यह भी पढ़े:- बुधवार के दिन करेंगे ये टोटके, तो गणेश जी सारी मनोकामनाएं करेंगे पूरी

‘कालसर्प योग’ वृषभ, मिथुन, कन्या एवं तुला इन राशि के लोगो को विशेष रूप से प्रभावित करता है। कुंडली में शास्त्रों के अनुसार ऐसे लोगो को सपने में अक्सर सांप दिखाई देते हैं। जिससे वो गहरी नींद में होने के बावजूद डर के मारे जाग जाते है।

जिस भी व्यक्ति की कुंडली में ऐसे लक्षण होते है। उस व्यक्ति को अशुभ फल भोगने पड़ते हैं। शास्त्रों मे बताया गया है की राहु-केतु के साथ रहने वाले चंद्र या रवि के अंश से 7 अंश में अधिक हो तो उस जातक की कुंडली में अशुभ फलों की तीव्रता क्षीण हो जाती है।

अगर किसी व्यक्ति के जन्म से ही कालसर्प योग हो तो उस व्यक्ति को अपने जीवनकाल में अनेक दुखो का सामना करना पड़ता हैं। जिससे उसका जीवन सुखों से वंचित रह जाता है। उसके जीवनकाल में इतने कष्ट आते है कि उसे काफी परेशानियों का सामना करने बावजूद सुख व चैन नही मिल है।

Share this on

Leave a Reply