आज की रात 70 साल बाद दिखेगा सावन की पूर्णिमा का चांद, बोल दें बस 2 शब्द हर मनोकामना होगी पूरी

15 अगस्त 2019, गुरुवार यानि आज सावन पुर्णिमा हैं और आज के दिन यदि आप देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करना चाहते हैं तो छोटे-छोटे उपाय जरूर करे, ऐसा करने से आपके जीवन में कभी भी किसी चीज की कमी नहीं होगी| ऐसे में आज हम आपको एक मंत्र बताने वाले हैं, जिसे चंद्रमा को देखकर बोलना हैं| ऐसा करने से आपकी हर मनोकामना पूरी होगी| दरअसल प्राचीन समय से ही पुर्णिमा को बहुत महत्वपूर्ण रूप से देखते हैं| ऐसा माना जाता हैं कि इस दिन माता लक्ष्मी धन वर्षा करती हैं| वहीं विशेष उपाय करके आप अपने जीवन की कई परेशानियों को दूर कर सकते हैं|

साल में आने वाली 12 पुर्णिमा में कार्तिक पुर्णिमा के बाद सर्वश्रेष्ठ पुर्णिमा सावन की पुर्णिमा मानी जाती हैं| पुर्णिमा माता लक्ष्मी को बेहद प्रिय हैं और इस दिन आप कोई भी कार्य करते हैं तो बहुत जल्दी सफल होती हैं, इसके साथ ही आपकी सभी मनोकामना पूरी होती हैं| इसलिए आप सावन पुर्णिमा के दिन कौड़ियाँ जो की सवा लाख मंत्रो से सिद्ध की हुयी हो, उसे देवी लक्ष्मी के सामने रखे| ऐसा करने से आपके घर में धन की कभी कमी नहीं होगी, आप चाहे तो 11 कौड़ियाँ या फिर 11 गोमती चक्र रख सकते हैं| इन्हें हल्दी से तिलक करके लाल कपड़े में बांधकर अपने तिजोरी में रखे, ऐसा करने से आपका धन में वृद्धि होगी|

सावन पुर्णिमा की रात चाँद को देखकर बोले ये दो शब्द

एक लोटे में थोड़ा सा जल ले, अब इसमें थोड़ा सा कच्चा दूध, शक्कर, एक चुटकी चावल डाल दे| अब इन तीन मंत्रों में से “ॐ स्त्रां स्त्रीं स्त्रौं सः चंद्रमासे नमः” “ॐ ऐं क्लीं सोमाय नमः” “ॐ सोम सोमाय नमः” कोई एक मंत्र का जाप करे, इस मंत्र को कम से कम 21 बार बोले और फिर अपनी मनोकामना बोले| अब लोटे में लिए हुये जल को किसी पात्र में चंद्रमा को देखते हुये डाल दे| जल डाल देने के बाद आप अपने स्थान पर चार बार परिक्रमा करे| अब नीचे अन्य पात्र मे गिराए गए जल को थोड़ा सा अपने हाथों में लेकर अपने आँखों में लगाए| लेकिन एक बात का ध्यान दें कि जो आपने जल गिराया हैं वो आपके पैरों से ना लगे|

अब फिर पुर्णिमा की रात में 15 से 20 मिनट तक चंद्रमा को लगातार देखें| ऐसा करने से आंखो को रोशनी तेज होती हैं| इतना ही नहीं ऐसा माना जाता हैं कि पुर्णिमा की रात में सुई में धागा पिरोने से नेत्र की ज्योति बढ़ती हैं| इसके अलावा यदि किसी गर्भवती महिला के गर्भ पर चंद्रमा की रोशनी पड़ती हैं तो उस महिला का नवजात शिशु बहुत ही स्वस्थ्य होता है| इसलिए हर किसी को पुर्णिमा की रात में कुछ ना कुछ समय बिताना चाहिए, ऐसा करने से मानसिक के साथ शारीरिक लाभ भी होता हैं|

यह भी पढ़ें :

रक्षाबंधन पर भूलकर भी अपनी बहन को ना दें ये गिफ्ट, शास्त्रों में भी माना गया है अशुभ

आखिर क्यों रूठ जाती हैं माता लक्ष्मी, किस गलती के कारण होता है दरिद्रा का निवास, कैसे होंगी प्रसन्न

Share this on