देश में शुरू हुई प्रधानमंत्री किसान मान-धन योजना, आज ही जान लें कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन

मोदी सरकार 2.0 ने सत्ता में आते ही बहुत अहम फैसले लेना शुरू कर दिया है और इन फैसलों में किसानों के हित के लिए भी सोचा है जिसके चलते प्रधानमंत्री किसान मान-धन योजना के लिए पंजीकरण का काम शुरू कर दिया गया है। बता दें कि इसकी औपचारिक शुरुआत कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने नौ अगस्त से कर दी है। यह योजना सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) द्वारा देश भर में शुरू कर दी गयी है। निर्मला सीतारमण द्वारा बजट में इस योजना के बारे में भी बताया गया था। इस योजना में पंजीकरण कराने से किसान बहुत सारे तरीकों से लाभान्वित होंगे।

प्रधानमंत्री किसान मान-धन योजना

प्रधानमंत्री किसान मान-धन योजना के लाभ

दरअसल सीएससी के सीईओ डॉ. दिनेश त्यागी ने इस योजना के बारे में बताते हुए कहा कि ‘देश में कुल दो लाख गावों में सीएससी सेंटर हैं। सभी सेंटरों को किसानों के पंजीकरण को प्राथमिकता के साथ पूरा करने का निर्देश भेजा गया है। वैसे तो कृषि मंत्रालय ने पंजीकरण के लिए सालभर में एक करोड़ किसानों का लक्ष्य निर्धारित किया है। लेकिन हमारे सेंटर इसे समय से पहले पूरा कर सकते हैं।’ प्रधानमंत्री किसान मान-धन योजना के जरिए अब किसानों को भी पेंशन मिलाेगी। इस बारे में डॉ. त्यागी ने बताया कि ”कंप्यूटर आधारित पंजीकरण बहुत आसान है।

किसानों को केवल आधार कार्ड और बैंक खाते का विवरण लाना होगा। इसी से उनका किसान पेंशन यूनिक नंबर के साथ पेंशन कार्ड बनाया जाएगा। यह योजना जम्मू कश्मीर और लद्दाख में भी लागू होगी।’ केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी इस योजना का लाभ 18-40 वर्ष का कोई भी किसान उठा सकता है। इस योजना के तहत किसान को अपनी उम्र के मुताबिक 18 वर्ष के उम्र में आने वाले किसानों को 55 रुपये और 40 की उम्र में आने वाले किसान को 200 रुपये की मासिक किस्त देनी होगी जिसके चलते सरकार के द्वारा उतनी ही राशि किसान के खाते में जमा की जाएगी। सरकार के राशि खाते में डालने से किसान की पेंसन राशि जमा होती रहेगी।

प्रधानमंत्री किसान मान-धन योजना

किसानों को इस योजना से जुड़ने के लिए आधार कार्ड, जनधन खाते की डिटेल, मोबाइल नंबर और अपनी खेती से जुड़ी सारी जानकारी देनी पड़ेगी। पीएम किसान मान-धन योजना के तहत पति-पत्नी दोनों इस योजना में शामिल हो सकते हैं लेकिन दोनों को अलग-अलग ही अपने खाते में राशि डालनी पड़ेगी। इस योजना के तहत मिलने वाली पेंशन को हासिल करने से पहले ही अगर पति या पत्नी दोनों में से किसी की मौत हो जाती हैे या वह इस योजना को जारी नहीं रखना चाहता है तो उसकी पेंशन उसके पति या पत्नी को ब्याज के साथ मिल जाती है।

बता दें कि इस पीएम किसान मान-धन योजना में 3000 रुपये तक प्रति माह पेंशन 60 साल से ऊपर के किसानों को दी जाएगी और इस योजना से जुड़ने के लिए हर एक किसान को हर महीने 100 रुपये का योगदान देना होगा। अगर किसी की मौत हो जाती है तो उसके परिवार के लिए भी सोचते हुए उन्हें 50 फीसद रकम का भुगतान मिलता रहेगा। यानी परिवार को 1500 रुपये मिल सकते हैं। जीवन बीमा निगम को इसकी जिम्‍मेदारी दी गयी है। केंद्र सरकार द्वारा चलाई गयी इस योजना में सरकार पर 10,774.5 करोड़ सालाना बोझ पड़ेगा।

यह भी पढ़ें :

क्या है ये CDS, जिसका पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर किया ऐलान

Share this on