24 सितंबर से शुरू हो रहा है श्राद्ध, इस बार बन रहा है ये दुर्लभ योग मिलेगा अनंत गुना फल

पितृ पक्ष शुरू होने वाला हैं| इस महीने में लोग अपने पितरों के मुक्ति के लिए पुजा-अर्चना कराते हैं| ताकि उन्हे मुक्ति मिल सके| इस साल श्राद्ध दुर्लभ योग में आ रहे हैं| जिसकी वजह से पितरों की पुजा-अर्चना करने से अनंत गुना फल मिलने वाला हैं| इस साल श्राद्ध पक्ष 24 सितंबर से प्रारम्भ होकर 8 अक्तूबर को सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न होगा|

यह भी पढ़ें : हनुमान जी चढ़ा दें बस ये एक चीज, हमेशा के लिए दूर हो जाएगी दरिद्रता

सालों बाद बन रहा हैं ऐसा योग

ज्योतिषचार्यों के मुताबिक आश्विन कृष्ण पक्ष तथा कनागत नाम से जाने वाले इस पक्ष को कन्या राशि गत सूर्य में सर्वश्रेस्थ माना जाता हैं| जो इस बार सालों बाद बन रहा हैं| शास्त्रों के मुताबिक और तर्पण का अनंत गुना फल देने वाला हैं|

पितरों के कारक ये भी माने जाते हैं

सूर्य के तथा ननिहाल पक्ष को पितरों का कारक माना जाता हैं| राहू ये दोनों साथ में कुंडली में आ जाए तब चतुर्थी तथा दशम भाव में बैठते हैं| जिसकी वजह से दोष उत्पन्न हो जाता हैं और यही पितृ दोष कहा जाता हैं|

एक साथ ये ग्रह आ रहे हैं

ज्योतिषचार्यों के मुताबिक ऐसा पहली बार योग बन रहा हैं जब श्राद्ध पक्ष में सूर्य, बुध, राहू, उच्च कन्या राशि में एक साथ हैं| जो इस योग में श्राद्ध करेगा उसे कई गुना फल मिलेगा|

ग्रहण योग 16 दिनों तक रहेगा

सूर्य और राहू की युति होने से ग्रहण का प्रभाव 16 दिनों तक रहेगा| 19 साल बाद श्राद्ध पक्ष में सूर्य व राहू की युति गजछाया योग बन रहा हैं| ऐसे योग में पिंडदान करने से कई गुना फल मिलता हैं| इस योग में श्राद्ध करने से पितरों तृप्त होते हैं और श्राद्ध करने वाले को धन-धान्य, पुत्र-पौत्र, सुख-संपत्ति इत्यादि का सुख प्राप्त होता हैं| इस दिन अनंत चतुर्दर्शी भी होने से योग विद्वान पंडित से विशेष पूजन, तर्पण, पितृ शांति करवाएँ| ऐसा करने से आपको कई गुना लाभ मिलेगा|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on