पेप्‍सिको इंडिया ने वाराणसी में सीमांत समुदायों को 4.5 लाख से अधिक भोजन पैकेट वितरित किया

 वैश्विक स्‍तर पर सक्रिय खाद्य और पेय कंपनी पेप्‍सिको इंडिया ने अपनी परोपकारी संस्‍था, पेप्‍सिको फाउंडेशन के साथ मिलकर अक्षय पात्र फाउंडेशन के साथ वैश्‍विक महामारी कोरोनो वायरस के खिलाफ लड़ाई के लिए एक साझेदारी की । इस साझेदारी के अंतर्गत पेप्‍सिको इंडिया ने आज वाराणसी में कोरोनो वायरस से प्रभावित सीमांत समुदायों को 4.5 लाख से अधिक भोजन पैकेट उपलब्‍ध कराने के लिए भोजन वितरण कार्यक्रम शुरू किया। भोजन वितरण कार्यक्रम को उत्तर प्रदेश के एमएलसी श्री अशोक धवन; श्री कौशल राज शर्मा, जिलाधिकारी, वाराणसी; श्री हर्ष पाल कपूर – सदस्य व्यापारी कल्याण बोर्ड, उत्तर प्रदेश और श्री वैभव कपूर, महासचिव, सेवा भारती ने संयुक्त रूप से झंडी दिखाई।

भोजन वितरण की पहल पेप्सिको के वैश्विक कार्यक्रम #GiveMealsGiveHopeका एक हिस्सा है, जिसके अंतर्गत पेप्सिकोकोविड-19 के प्रकोप से प्रभावित समुदायों को 10 मिलियन से अधिक भोजन वितरित करने के लिए प्रतिबद्ध है। ये भोजन पूरे भारत में अक्षय पात्र फाउंडेशन, स्माइल फाउंडेशन और सीआईआई फाउंडेशन के साथ साझेदारी में वितरित किए जा रहे हैं।

वाराणसी के जिलाधिकारी श्री कौशल राज शर्मा ने बताया कि “हम इस कठिन समय में पेप्सिको इंडिया के प्रयासों और हमारे जिले के जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध कराने में मदद की सराहना करते हैं। कोविड19ने सीमांत समुदायों की आजीविका पर काफी अधिक प्रभाव डाला है और इसलिए ऐसे प्रयास न केवल महत्वपूर्ण हैं, बल्कि लोगों की मदद करने में काफी मददगार साबित होंगे। हम समर्थन देने के लिए कंपनी को दिल से धन्यवाद देते हैं और हमें खुशी होगी कि अधिक से अधिक कंपनियां पेप्‍सिको इंडिया से सीख लेते हुए इस अभूतपूर्व समय में मदद के लिए आगे आने का प्रयास करेंगी।’’

पेप्सिको इंडिया के प्रेसिडेंट, अहमद अलशेख ने कहा कि “वैश्‍विक महामारी कोरोनोवायरस से प्रभावित समुदायों को भोजन उपलब्ध कराना सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता है। पेप्सिको इंडिया अपनी पहल को समर्थन देने के लिए सभी स्‍टेकहोल्‍डर्सको धन्यवाद देना चाहता है जिसने हमें वाराणसी के वंचित परिवारों और समुदायों तक पहुंचने में सक्षम बनाया है। हम इस प्रयास में एक साथ हैं और इस  चुनौतीपूर्ण दौर में राष्ट्र की सेवा करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास जारी रखेंगे।’’ 

अक्षय पात्र फाउंडेशन के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर सुदीप तलवारने कहा कि ‘‘कोविड-19 के प्रकोप ने जमीनी स्‍तर पर एक अभूतपूर्व स्थिति पैदा कर दी है और हम पेप्सिको इंडिया और जिला प्रशासन जैसे अपने दाता सहयोगियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि सर्वाधिक प्रभावित परिवारों की मदद की जा सके।’’

पेप्सिको इंडिया: 1989 में भारत आने वाली कंपनी पेप्सिको आज भारत के सबसे बड़े एमएनसी खाद्य और पेय व्यवसायों में से एक बन गई है। पेप्सिको इंडिया के विविध पोर्टफोलियो में पेप्सी, लेज, कुरकुरे, ट्रॉपिकाना 100%, गेटोरेड और क्वेकर जैसे प्रतिष्ठित ब्रांड शामिल हैं।

पेप्‍सिको के मार्गदर्शन के लिए हमारा दृष्‍टिकोण एक उद्देश्य के साथ जीत हासिल करते हुए सुविधाजनक खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ में ग्लोबल लीडर बनना है। “उद्देश्य के साथ जीतना” बाजार में स्थायी रूप से जीतने और व्यवसाय के सभी पहलुओं में उद्देश्य को शामिल करने की हमारी महत्वाकांक्षा को दर्शाता है। हमारा मानना ​​है कि हम जिन उत्पादों को बेचते हैं, उनमें लगातार सुधार करते रहते हैं। अपनी पृथ्‍वी की रक्षा के लिए जिम्मेदारी से काम करना और दुनिया भर के लोगों को सशक्त बनाना ही वह कारण है जो पेप्सिको को समाज और हमारे शेयरधारकों के लिए दीर्घकालिक वैल्‍यू बनाते हुए, एक सफल वैश्विक कंपनी चलाने में सक्षम बनाता है। 2009 में, पेप्‍सिको इंडिया ने पेय पदार्थ की दुनिया में ‘पॉजिटिव वाटर बैलेंस’ हासिल करने वाला पहला बिजनेस बनकर एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की, जो डेलॉइट टचे तोहमात्सू इंडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा सत्यापित है। यह कंपनी तब से वाटर पॉजिटिव बनी रही है। अधिक जानकारी के लिए, कृपयावेबसाइट www.pepsicoindia.co.inदेखें। 

पेप्सिको फाउंडेशन: पेप्सिको की परोपकारी संस्‍था, पेप्सिको फाउंडेशन, की स्‍थापना 1962 में हुई थी। यह संस्‍था जरूरतमंद समुदायों की सहायता में एक मिशन के साथ एक स्थायी खाद्य प्रणाली के लिए आवश्यक क्षेत्रों में निवेश करता है। दुनिया भर की गैर-लाभकारी संस्‍थाओं और विशेषज्ञों के साथ काम करते हुए, हम भूख को कम करने, पानी और कचरे का जिम्मेदारी पूर्वक प्रबंधन करने और महिलाओं को खेत से परिवार तक पोषण के चैंपियन के रूप में देखते हुए उनका समर्थन करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। उद्योग के साथियों, स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और हमारे कर्मचारियों के साथ सहयोग करते हुए, हम उन स्थानों पर सार्थक असर डालने के लिए प्रयास करते हैं जहां हम रहते हैं और काम करते हैं, क्‍योंकि हम हमारे लिए महत्वपूर्ण और वैश्विक महत्व के मुद्दों पर बड़े पैमाने पर परिवर्तन लाना चाहते हैं। अधिक जानकारी के www.pepsico.com/sustainability/philanthropyदेखें। 

अक्षय पात्र फाउंडेशन: अक्षय पात्र फाउंडेशन एक गैर-लाभकारी संगठन है, जिसका मुख्यालय भारत के बेंगलुरू में है।  यह फाउंडेशन वंचित समुदाय के बच्चों के लिए शिक्षा और पोषण तक पहुंच बनाने के लिए काम करता है। भारत के केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के साथ साझेदारी करते हुए, यह फाउंडेशन दुनिया में गैर सरकारी संगठन द्वारा निर्देशित के सबसे बड़स स्कूल भोजन कार्यक्रम संचालित करता है, जो भारत के 13 राज्यों के लगभग 18 हजार सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में नामांकित 1.8 मिलियन बच्चों को मिड-डे मील प्रदान करता है। अब तक कुल मिलाकर 3 बिलियन से अधिक परोसे जा चुके भोजन के साथ, अक्षय पात्र ‘पोषित भारत, शिक्षित भारत’ के निर्माण की दिशा में काम कर रहा है।

Share this on