आज मोक्षदा एकादशी के दिन करें 1 रोटी का यह उपाय, दुर्भाग्य दूर होकर बढ़ता है सौभाग्य

एकादशी का व्रत सभी लोग करते हैं। ये अपने आप में एक खास व्रत इसलिए है क्योंकि इसका संबंध भगवान विष्णु से है। एकादशी के बराबर कोई व्रत नहीं ऐसा विज्ञान का भी कहना है। साल में 14 एकादशी होती है और एक एकादशी आती है मोक्षदा एकादशी। इस एकादशी को बहुत खास माना गया है। कहा जाता है कि जिसने इस एकादशी का व्रत कर लिया उसे 14 एकादशियों के फल की प्राप्ति एक साथ हो जाती है। इस दिन आपके तरफ की गई गलती बहुत खतरनाक भी साबित हो सकती है। इसलिए इस दिन आप कोई भी काम बहुत ज्यादा ध्यान से करें।

इस दिन व्रत रखने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। एकादशी के व्रत के लिए आपको सावधानियां दशमी के दिन से ही रखनी होती है। आपको दशमी से लेकर द्वादशी के दिन तक कीर्तन भजन करना चाहिए। एकादशी के दिन व्रत का संकल्प रखकर व्रत करना चाहिए। इस व्रत की महिमा का वर्णन वेद और पुराणों में भी है। मोक्षदा एकादशी को पापों से आपको छुटकारा मिल जाता है। ऐसा बताया गया है।

रोटी का चमत्कारिक उपाय

इस दिन आपको भोजन को लेकर भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि इस दिन खाए गए खाने का आपके जीवन में बहुत फर्क पड़ता है। इस दिन क्या खाएं क्या नहीं खाएं ये बात शास्त्रों में लिखी है। आपको एकादशी के इस दिन चावल भूलकर भी नहीं खाना चाहिए। चावल इसलिए नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से आपका मन कमजोर होता है। जितनी भी गंधयुक्त वस्तु है इसका सेवन आपको इस दिन नहीं करना चाहिए। आपको इस दिन भगवान श्रीकृष्ण के दामोदर रूप की पूजा करनी है। उनको धूप, दीप, नैवेद्य देना है। साथ ही भजन कीर्तन भी करना है।

यह भी पढ़ें : अगर बार-बार होती है अनहोनी या फिर दुर्घटनाएं, तो इनमें से कर लें कोई भी एक उपाय

अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में सुख-शांति हो तो इस दिन दूसरों को आटे की रोटी जरूर ख़िलाएं। चाहे वो अमीर हो या गरीब अगर वो आपके घर आया है तो उसे रोटी जरूर खिलाएं। आपको इस दिन रक और उपाय करना है अगर आपके घर में लोगों के बीच झगड़े हो रहे हैं। आपको अपनी तरफ से बनाई गई पहली रोटी को सेककर उसमें घी लगाना है। उसके ऊपर थोड़ा दूध या खीर डालना है। और इसके ऊपर थोड़ा सा गुड़। ध्यान रहे रोटी के चार टुकड़े आप जरूर कर लें।

इसके बाद आप एक टुकड़ा गाय को दूसरा टुकड़ा कौए को तीसरा कुत्ते को और चौथा किसी भिखारी को खिलाना चाहिए। क्योंकि गाय को रोटी खिलाने से पितृदोष दूर होता है। वहीं कुत्ते को रोटी खिलाने से शत्रुदोष दूर होता है और कौवे को रोटी खिलाने से आपके कुंडली का पितृदोष दूर होता है। भिखारी को रोटी खिलाने से आपका आर्थिक कष्ट दूर होता है।

Share this on