सावन 2019: यहां जानें भगवान शिव के प्रिय माह से जुड़ी सारी जानकारी

कालो के काल महाकाल भगवान शिव का प्रिय माह नजदीक आ रहा है जिसे श्रावण मास कहा जाता है। शिव भगवान का प्रिय श्रावण मास अपने आप में एक विशिष्ट महत्व रखता है। हमारे शास्त्रों में भी इसके महत्व के बारे में कहा गया है। श्रावण मास बहुत ही पवित्र माना जाता है। यह माह अपने हर एक दिन में एक नया सवेरा लाता है और इससे जुड़े सारे दिन भोलेनाथ के रंग और आस्था में डूबे होते हैं। इस पवित्र महीनें में गायत्री मंत्र, महामृत्युंजय मंत्र, पंचाक्षर मंत्र इत्यादि शिव मंत्रों का जाप कर भोलेनाथ की अराधना की जाती है। श्रावण मास का हर दिन व्रत और पूजा पाठ के लिए महत्वपूर्ण होता है। 2019 में सावन का महीना 17 जुलाई से आरंभ होगा और दिन बुधवार है।

सावन सोमवार कब

श्रावण मास में सोमवार का बहुत महत्व है और यह माना जाता है कि जो भी इस महीने में सोमवार का व्रत करता है भगवान शिव उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी करते है। साल 2019 में सावन का पहला सोमवार 22 जुलाई को, दूसरा सोमवार 29 जुलाई को, तीसरा सोमवार 05 अगस्त को और सावन का आखिरी सोमवार 12 अगस्त को पड़ रहा है। इस पवित्र माह में सभी भगवान शिव की पूजा कर उन्हें प्रसन्न करते नजर आते हैं। इस महिने में भोले बाबा की पूजा कर हमें समस्त लोकों के देवताओं का आर्शिर्वाद प्रदान होता है। सावन के सोमवार में सभी व्रत रखकर भोलेनाथ की पूजा अर्चना कर करते हैं। इस दिन मंदिरों में भोले के भक्तों का भारी जमावड़ा लगता है।

सावन पूर्णिमा कब

श्रावण मास में आने वाली पूर्णिमा श्रावण पूर्णिमा कहलाती है और भारत में इसे अनेक नामों से भी जाना जाता है। हिन्दू ग्रंथो में इस दिन किये गए तप और दान का विशेष महत्व होेता है। उत्तर भारत में इस दिन रक्षा बंधन का पर्व मनाया जाता है और मध्य भारत में कजरी पूर्णिमा का पर्व भी श्रावण पूर्णिमा के दिन ही मनाया जाता है। इस साल 2019 में श्रावण पूर्णिमा दिन गुरुवार 15 अगस्त को पड़ रही है और यह श्रावण मास का अंतिम दिन भी होगा। बता दें कि इस दिन कुछ क्षेत्रों में यज्ञोपवीत पूजन एवं उपनयन संस्कार करने का विधान भी है। सारे देवों में शिव ही ऐसे देव हैं जो अपने भक्‍तों की भक्ति-पूजा से बहुत जल्‍दी ही प्रसन्‍न हो जाते हैं।

सावन शिवरात्रि कब

भगवान शिव की पूजा का बड़ा ही महत्व है। पवित्र श्रावण मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहा जाता है और इस साल सावन शिवरात्रि 30 जुलाई को मनाई जाएगी। इस दिन सभी भगवान शिव की पूजा और शिवलिंग का जलाभिषेक करते हैं। सावन शिवरात्रि के दिन भगवान शिव पर बेलपत्र, धतूरा चढ़ाया जाता है और अपने मंगल जीवन के लिए सभी प्रार्थना करते हैं। इस माह में भगवान शिव शंकर की विधि विधान से पूजा करने से सभी कष्ट दूर होकर जीवन में खुशियों का आगमन होता है और हर इच्छा पूरी हो जाती है।

Share this on