मात्र 500 रुपये ले मुंबई भागे थे रवि किशन, पिता की पिटाई से आज इस मुकाम पर पहुँच पाए

 

भोजपुरी स्टार रवि किशन का आज 51वां जन्मदिन है, रवि का जन्म 1969 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर में हुआ था। रवि किशन का असली नाम रविंद्र श्यामनारायण शुक्ला है। रवि ने भोजपुरी से बॉलीवुड का सफर अपने ही दम पर तय किया है। भोजपुरी को मुख्यधारा में लाने का श्रेय रवि किशन को ही जाता है। आइए किस्सा-कहानी में उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनकी जिंदगी से जुड़ा ये बड़ा वाक्या..

अभिनय की ओर रवि का बचपन से ही झुकाव था। रवि के पिता चाहते थे कि वह दूध का व्यापार करें लेकिन रवि पर अभिनेता बनने का भूत सवार था। इस कारण उन्होंने पिता से कई बार मार भी खाई। 17 साल की उम्र में मां से 500 रुपये लेकर रवि मुंबई भाग गए। मुंबई में चॉल में रहकर काम तलाशने लगे। रवि एक इंटरव्यू में खुलासा किया था कि पिता उनकी पिटाई नहीं करते तो वह आज इस मुकाम पर नहीं होते।

मुंबई में रवि को काम मिलना शुरू हुआ। सलमान खान की ब्लॉकबस्टर फिल्म तेरे नाम से रवि ने सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार जीता था। वहीं, साल 2005 में रवि को भोजपुरी फिल्म ‘कब होई गवनवा हमार’ में देखा गया। इस फिल्म से उन्हें क्षेत्रीय फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था। वे इकलौते ऐसे अभिनेता बने जिन्हें एक साथ हिंदी और भोजपुरी की राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त फिल्मों का हिस्सा होने का गौरव मिला।

संघर्ष के दिनों में रवि ने शादी ही कर ली थी। उन्होंने एक इंटरव्यू में खुलासा किया था कि जब उनके घर बेटी पैदा हुई थी तो उनके पास अस्पताल का बिल भरने के लिए पैसे नहीं थे। ऐसे में उन्होंने ब्याज पर पैसे लेकर अस्पताल का बिल चुकता किया था। बता दें कि रवि किशन आज गोरखपुर सीट से लोकसभा सासंद हैं। रवि ने बिग बॉस में अपना नाम चमकाया था। वहीं, बाथरूम सिंगर में बतौर होस्ट काम किया था।

रवि की जिदंगी से जुड़े कई ऐसे किस्से हैं जो किसी को भी भावुक होने पर मजबूर कर देंगे। ऐसा ही एक किस्सा है जब रवि बारिश में भीगते हुए रिकॉर्डिंग स्टूडियों गए थे। वहां, उन्होंने 7 से 8 घंटे तक रिकॉर्डिंग की और जब उन्होंने इस काम के पैसे मांगे तो प्रोड्यूसर ने पैसे देने से इनकार दिया। प्रोड्यूसर ने रवि से कहा कि फिल्म में काम दे रहे हैं यह कम बड़ी बात है। यह बात सुन रवि घर वापस चल दिए और रास्ते में बहुत फूट-फूट कर रोए।

From around the web