घर में नहीं रखनी चाहिए ये पांच प्रकार की तुलसी, लक्ष्मी हो जाती हैं दूर गरीबी आती है पास

हिंदु धर्म में तुलसी के पौधे की बहुत मान्यता है और यही कारण है कि यह पौधा लगभग आपको लगभग सभी के घर में मिल जाएगा। तुलसी को देवी का दर्जा दिया गया है। माता तुलसी को माँ लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। पूजा में भगवान विष्णु को तुलसी पत्र अर्पित करने से भगवान प्रसन्न होते हैं। वहीँ दूसरी और तुलसी के पत्तों में रोग नाश की क्षमता भी पाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि इसे घर के अदरं रखने से पॉजिटिव एनर्जी आती है। बहुत कम लोगों इस बात तो जानते है कि घर में रखा तुसली का पौधा आपको किसी अनहोनी होने का संकेत भी दे सकता है। क्या है ये बातें आइए बताते हैं

सूखी तुलसी का घर पर असर

वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में यदि तुलसी का पौधा सूख जाता है तो ये दरिद्रता का संकेत होता है। सूखा हुआ तुसली का पौधा शुभ नहीं माना जाता। इससे घर में लक्ष्मी नहीं आती। इसलिए आप अपने घर कि तुलसी को सूखने ना दें। यदि किसी कारण तुलसी सूख जाती है तो उसे घर में ना रखे। उसे आप किसी नदी में प्रवाहित कर सकते है।

पिली तुलसी का असर

कई बार तुलसी के पत्ते पीले या काले पड़ जाते है। ऐसा होना अशुभ माना जाता है। इससे घर में नकारात्मक उर्जा बढ़ने लगती है। इसलिए यदि आपके घर की तुलसी के पत्ते भी पीले पड़ने लगे तो उसे या तो हटा दे या पिले पत्ते को निकाल दें।

अधिक मंजरी वाल तुलसी

यदि आपके घर में तुलसी में मंजरी ज्यादा है तो आपको उसे हटा दूसरी तुलसी लगा देना चाहिए। वास्तुशास्त्र के अनुसार अधिक मंजरी वाल तुलसी कष्ट में होती है। तुलसी को कष्ट में नही रखना चाहिए। बस यही वजह है कि आपको अपने घर में ज्यादा मंजरी वाली तुलसी नहीं रखनी चाहिए।

ऐसी तुलसी भी घर में ना रखे

ऐसा माना जाता है कि अगर घर में किसी का निधन होता है तो उसके आस पास कि सभी वस्तुओ को साथ में वसिर्जित कर दिया जाता है। ठीक ऐसे ही अगर तुलसी के पास किसी की जान गई किसी का निधन हुआ है तो उस तुलसी को वसिर्जित कर देना चाहिए और घर में नई तुलसी लगानी चाहिए।

तुलसी के पत्तो का झड़ना

तुलसी के पत्ते अगर पीले होकर या किसी कारण की वजह से लगातार झड़ रहे है तो ऐसी तुलसी को घर में नहीं रखना चाहिए। अगर आप झड़ते पत्त का निवारण नही कर पा रहे तो तुलसी के पौधे को बदल दें। तुलसी के झड़ते पत्ते घर में अड़चन और अशांति की वजह बनते हैं। इससे परिवार की सकारात्मक एनर्जी कम होती है।

Share this on