इधर चुनावी परिणाम में जीते रहे थें मोदी उधर आतंकी ज़ाकिर मूसा का हुआ अंत

23 मई को लोकसभा चुनाव के रिजल्ट के साथ ही कश्मीर से एक बहुत बड़ी खबर आयी हैं, जहां एक ओर पूरा देश मोदी सरकार के दोबारा बनने पर जश्न मना रहा था| दरअसल न्यूज एजेंसी के मुताबिक त्राल में भारतीय सुरक्षाबलों ने आतंकी जाकिर मूसा को मार गिराया हैं, जाकिर मूसा के मारे जाने के बाद इलाके में इन्टरनेट सेवा कुछ दिनों के लिए बंद कर दी गयी हैं ताकि किसी प्रकार की कोई अराजकता ना उत्पन्न हो सके| इन्टरनेट के अलावा घाटी के सभी स्कूल और कॉलेजों को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया हैं|

बताया जा रहा हैं कि आतंकी जाकिर मूसा को पुलवामा के उसकी इलाके में मार गिराया गया हैं जहां पर कुछ सालों पहले बुरहान वानी को ढेर किया गया था| सूत्रो से मिली जानकारी के मुताबिक सेना को कश्मीर के त्राल इलाके में मूसा के होने की खबर मिली थी, इसके बाद ही सेना ने उस पूरे इलाके को घेर लिया और एक सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया, सर्च ऑपरेशन के दौरान ही मूसा ने सुरक्षाबलों के ऊपर हमला कर भागने की कोशिश कि लेकिन व भागने में सफल नहीं हो पाया| बता दें कि जाकिर मूसा काफी लंबे समय से कश्मीर घाटी में आतंक समर्थकों का पोस्टर बॉय था।

जाकिर मूसा काफी लंबे समय से सेना के मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल था| दरअसल जाकिर मूसा के अंदर जिहाद की भावना कूट-कूट भरा था और वह आए दिन खुलेआम हथियार के साथ अपनी वीडियो जारी करता था| जाकिर हिज्बुल के साथ जुड़ा था और ऐसा माना जाता हैं कि वह बुरहान वानी का उत्तराधिकारी था|

यह भी पढ़ें : सेना को धमकी देने वाले हिज्बुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर, समीर टाइगर को भारतीय सेना ने पुलवामा में किया ढेर

जाकिर, कश्मीर के आजादी की दुहाई देते हुये अपनी वीडियो सोशल मीडिया पर खूब प्रचारित करता था और इस लड़ाई को वो धर्म के साथ जोड़ता था| इतना ही नहीं उसने अपने अभियान को शरीयत-ए-शहादत यानी कि शरीयत के लिए शहादत का नाम से जोड़ा था| जाकिर मूसा ने अपनी पढ़ाई चंडीगढ़ में एक इंजीनियरिंग कॉलेज से की थी, लेकिन इंजीनियरिंग पूरा करने से पहले वो कॉलेज से लापता हो गया| लेकिन कुछ दिनों बाद जब वह वापस आया तो वह एक इंजीनियरिंग स्टूडेंट नहीं बल्कि एक खूंखार आतंकी बन चुका था|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on