जानेें, आपको राशी के अनुसार कौन से भगवान की करनी चाहिए पूजा

अक्सर हमारे साथ ऐसा होता है की हमरी कड़ी मेहनत करने के बावजूद भी वो सफलता नहीं मिल पाती  है जिसकी हम चाहत रखते है और इसीलिए जीवन में हर कोई किसी न किसी कारण से कभी न कभी कोई न कोई पूजा पाठ या अनुष्ठान अवश्य ही करता है। कुछ लोग ऐसे होते है जो सामान्य पूजा पाठ के माध्यम से ही अपने ईस्ट को प्रसन्न कर लेते है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जो कठिन से कठिन अनुष्ठान करने के बावजूद भी उनकी मनोकामना पूर्ण नहीं होती है इसका क्या कारण हो सकता है चलिए हम आपको बताते है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमें अपनी राशी के अनुसार ही देवी देवताओ की पूजा करना चाहिए ऐसा करने से हमें मनवांछित फल की प्राप्ती हो सकती है इसीलिए आज हम आपको बतायेगे कौन से राशी वाला व्यक्ति किस देवी देवता की पूजा कर सकता है।

मेष राशि

मेष राशि का स्‍वामी मंगल ग्रह है इसलिए इस राशि के लोगों को कुंडली में मंगल की स्थिति मज़बूत करने और उन्‍हें प्रसन्‍न करने के लिए भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए और हनुमान जी की भी उपासना करनी चाहिए।

वृषभ राशि

वृषभ राशि का स्‍वामी ग्रह शुक्र है. शुक्र ग्रह को शुक्रवार का दिन समर्पित है और इस दिन विशेष रूप से मां लक्ष्‍मी की आराधना की जाती है अर्थात् वृषभ राशि के लोगों को भी मां लक्ष्‍मी की पूजा करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें : आइए जानते हैं हिन्दू धर्म में क्‍या है रुद्राक्ष का वास्तविक महत्व

मिथुन राशि

मिथुन राशि का स्‍वामी बुध ग्रह है. इस ग्रह की अधिष्‍ठाता देवता श्रीमननारायण हैं इसलिए मिथुन राशि के लोगों को श्रीमननारायण की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है।

कर्क राशि

कर्क राशि का स्‍वामी ग्रह चंदमा है इस राशि के जातकों को मां गौरी की उपासना करनी चाहिए।

सिंह राशि

सिंह राशि का स्‍वामी ग्रह सूर्य है, सूर्य ग्रह के अधिष्‍ठाता देव भगवान शिव हैं अर्थात् सिंह राशि के लोगों को भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

कन्‍या राशि

कन्‍या राशि का स्‍वामी बुध ग्रह है. कन्‍या राशि के लोगों को भगवान विष्‍णु के अवतार श्रीमननारायण की आराधना करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें : ये 6 पाप करने पर भगवान शिव देते है भयंकर दंड

तुला राशि

शुक्र ग्रह तुला राशि का स्‍वामी है और शुक्र ग्रह की स्‍वामी मां लक्ष्‍मी हैं इसलिए तुला राशि के लेागों को अपनी इच्‍छा की पूर्ति के लिए देवी लक्ष्‍मी की आराधना करनी चाहिए।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि का स्‍वामी ग्रह मंगल है, मंगल को मज़बूत करने के लिए वृश्चिक राशि के लोगों को भोलेनाथ का पूजन करना चाहिए।

धनु राशि

बृहस्‍पति, धनु राशि का स्‍वामी ग्रह है. बृहस्‍पति के अधिष्‍ठाता देव हैं भगवान शिव, इसलिए धनु राशि के लोगों को भगवान शिव के श्री दक्षिणामूर्ति अवतार की पूजा करनी चाहिए।

मकर

मकर राशि का स्‍वामी मंगल ग्रह है इसलिए मकर राशि के लोगों को मंगल के अधिष्‍ठाता देव भगवान शंकर की पूजा करनी चाहिए।

कुंभ

मकर की तरह ही कुंभ राशि का स्‍वामी भी मंगल ही है. इसलिए कुंभ राशि के लोगों को भी अपने जीवन को सुखी और समृद्ध बनाने के लिए भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

मीन

मीन राशि का स्‍वामी ग्रह बृहस्‍पति है, बृहस्‍पति के अधिष्‍ठाता देव श्री दक्षिणामूर्ति हैं। श्री दक्षिणामूर्ति भगवान शिव का ही अवतार हैं, इसलिए मीन राशि के लोगों को ज्ञान, सुख और ऐश्‍वर्य की प्राप्‍ति के लिए भगवान शंकर के इस अवतार की पूजा करनी चाहिए।

Share this on

Leave a Reply