ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जिसे देखकर काँप जाएगी आपकी रूह

फिलीपींस की राजधानी मनीला स्थित क्विजोन सिटी जेल को केवल 800 कैदियो को रखने की क्षमता के हिसाब से बनाया गया हैं। आज के दौर में यह इस देश की सबसे भीड़भाड़ वाली जेल हैं। इस जेल की क्षमता से 5 गुना ज्यादा कैदियो को रखा जाता हैं। लगभग 4000 कैदियो को यहाँ रखा जाता हैं। इस जेल में इतनी बदहाली है की यहाँ पर कैदियो को जीते-जी मरने से भी परिस्थितियां झेलनी पड़ रही हैं। बताया जाता हैं की 60 साल पहले जब इस जेल का निर्माण हुआ था, तब इसे 800 कैदियो की क्षमता के हिसाब से बनाया गया था।

इस जेल में बंद 4000 कैदियो की उन रोज़मर्रा की परेशानियों को दिखाती हैं। जिनके साथ उन्हे हर मिनट जूझना पड़ता हैं, केवल जगह की कमी ही नहीं, बल्कि जेल के अंदर खाने और रहने की स्थितियां भी काफी बदहाल हैं। खाने में पड़े गंदे नाखून और मेरे हुये झिंगूर हो या फिर हवा और रोशनी की बेहद कमी के कारण उनके शरीर पर होने वाले खुजली, कुल मिलाकर इन कैदियों की हालत बेहद खराब हैं।

 

यह भी पढ़ें : भारतीय वायुसेना का अब तक का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास ‘गगन शक्ति’ हुआ शुरू, ये विमान भी हुए शामिल

यहाँ के कैदियो को बैठने और सोने की जगह के लिए ही नहीं, बल्कि पानी और खाने के लिए भी लगातार लड़ना-झगड़ना पड़ता हैं, जेल के अंदर इतनी गंदगी हैं की कैदियो का जीना दूभर हैं। इस जेल में इतने ज्यादा कैदियो के होने के बावजूद यहाँ और कैदियो के भेजे जाने की संभावना हैं, जेल की एक कोठरी में जहां 20 कैदियो के लिए जगह हैं वहाँ 160 से 200 के करीब कैदियो को रखा जाता हैं। जेल के अंदर बने एक खुले बास्केटबॉल कोर्ट में बनी सीमेंट का फर्श दरारों से भरी और खुरदुरी हैं। यहाँ भी इन कैदियो को सोने और लेटने के लिए बारी लगानी पड़ती हैं।

जगह की बेहद कमी के कारण कैदी सीढ़ियों पर और बिस्तर के नीचे भी सोने के लिए मजबूर हैं। यहाँ तक की कई कैदियो को तो पुराने कंबलों को झूले की तरह लटका कर उनपर सोना पड़ता हैं। यहाँ के गंदगी को देखकर और हवा-रोशनी की कमी के कारण उन्हें कई तरह की बीमारियाँ भी हो जाती हैं। इस जेल में ऐसे कैदियों को बंद किया जाता हैं, जिनके मामले लंबित पड़े हैं।

जेल की स्थिति है बेहद बदहाल

कैदियो को अपना खाना खुद बनाना पड़ता हैं यहाँ बंद एक पूर्व कैदी रेमंड नारग ने इस जेल की बदहाली स्थिति पर एक किताब ‘फ़्रीडम एंड डेथ इनसाइड द जेल’ लिखी हैं। रेमंड के अनुसार जब उन्हे इस जेल में बंद किया गाय था तब वे मात्र 20 साल के थे। वह यहाँ 7 साल बंद रहें। खाने के नाम पर केवल सुखी मछली खाकर उन्हे किसी भी प्रकार जिंदा रहना पड़ा। अपनी किताब में उन्होने इस जेल में बंद कैदियो की दुर्दशा के बारे में विस्तार से लिखा हैं, वह बताते हैं, पूरे 7 साल तक मैं खुले पलकों से हर पल इस जेल के अंदर मौत का अनुभव करता रहा।

वर्तमान में इसके हालात और भी ज्याद बदहाल होने वाले हैं, फिलीपींस के नवनियुक्त राष्ट्रपति द्वारा ड्रग्स के खिलाफ बेहद सख्ती से मोर्चा खोलने के बाद एक महीने के अंदर ही करीब 4300 लोगों को गिरफ्तार किया गया हैं। उनमे से कई इस जेल के अंदर भी भेजे जाएंगे। क्विजोन सिटी जेल में पहले से ही जगह को लेकर मारामारी मची हैं। ऐसे में नए कैदियो के आने से हालात इतने बदतर हो जाएंगे की इसका अंदाजा हम शायद लगा भी नहीं सकते हैं।

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on

Leave a Reply