लंबे समय तक कंप्यूटर पर करते हैं काम जरूर करें दंडासन, मिलेगा आराम

आजकल के दौर पर लगभग हर काम कंप्यूटर पर ही होता है और कई बार लोग ऐसे पदों पर नौकरी कर रहे होते हैं जहाँ पर उन्हें पूरे समय कंप्यूटर पर ही काम करना होता है। इसलिए यदि आप हर रोज़ घंटों बैठकर ऑफिस में काम करते हैं तो सावधान हो जाइये क्योंकि इसका आपके शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। रोजमर्रा के जीवन में 7-8 घंटे बैठे रहने की वजह से शरीर में कई बीमारियां हो जाती हैं जैसे- पीठ दर्द, कमर दर्द और गर्दन दर्द जैसी समस्याएं कड़ी हो सकती हैं।

लंबे समय तक कंप्यूटर पर करते हैं काम जरूर करें दंडासन, मिलेगा आराम

अत्याधिक बैठने के साथ कम से कम 24 अलग-अलग तरह की बीमारियां हो सकती हैं। बैठने की एक प्राकृतिक स्वस्थ मात्रा दिन में लगभग तीन घंटे होती है, लेकिन एक औसत व्यक्ति प्रतिदिन 15 घंटे तक बैठता है जो सही नहीं है। अगर आप लम्बे समय तक इसी तरह काम करते रहे तो आपको सरवाईकल जैसी गंभीर समस्या भी हो सकती है। आइये आपको बताते हैं कि आप कैसे इस समस्या से बच सकते हैं।

दंडासन कर पाएं इन बिमारियों से मुक्ति

योग स्वास्थ्य से जुड़ी असंख्य समस्याओं के लिए एक सदियों पुराना विश्वसनीय शारीरिक विज्ञान है। दंडासन एक संस्कृत शब्द है। “डंडा” शब्द का अर्थ है – छड़ी और “आसन” का अर्थ है मुद्रा। दंडासन योग आपके आसन को बेहतर बनाने, आपकी पेट, छाती, कंधे और पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए सरल और प्रभावी आसन मुद्रा है। यह अभ्यासी की कार्य क्षमता को बढ़ाने की एक उत्कृष्ट योगासन है। इस योगाभ्यास से व्यक्तियों को आलस्य और थकान से छुटकारा पाने में मदद मिलती है।

लंबे समय तक कंप्यूटर पर करते हैं काम जरूर करें दंडासन, मिलेगा आराम

जानिए कैसे करें दंडासन

1. फर्श पर एक स्तंभ के सामान बैठें और अपने पैरों को अपने सामने फैलाएं। पैर एक दूसरे को छूना चाहिए।
2. अपनी पीठ और सिर को न मोड़ें बिलकुल सीधा देखें।
3. अपनी दोनों हथेलियों को जमीन पर रखें।
4. अब अपने पैरों की अंगुलियों को अंदर की ओर झुकाने की कोशिश करें।
5. 30-60 सेकंड के लिए इस स्थिति में बैठे रहें और गहरी सांस लेते रहें।
6. उसके बाद अपना पोज़ रिलीज़ करें और आराम करें।
7. इस प्रक्रिया को आप 7-8 बार दोहराएं।

दंडासन से लाभ

यह आसन आपकी छाती, पीठ की मांसपेशियों, रीढ़ और कंधों को मजबूत करता है। साथ ही आपकी छाती और पैरों को स्ट्रेच करता है। आपकी मुद्रा में सुधार करता है। आपके पेट को मजबूत बनाता है।आपके शरीर में लचीलापन बढ़ाता है और अपने मन को शांत रखकर फोकस और एकाग्रता बढ़ाता है।

Share this on