Thursday, January 18

ये होती हैं चरित्रहीन महिला कुछ ख़ास निशानियां, इस तरह से करेंगे पहचान तो कभी न खाएंगे धोखा

हर मनुष्य को उसके चरित्र व सोच-विचार से जाना जाता है। अपने सोच के कारण ही हम लोग समाज में जाने जाते है व समाज का निर्माण भी करते है। जो हम सभी पर ही निर्भित है, हमारे चरित्र व सोच के कारण ही देश का भला या बुरा हो सकता है। इसलिए हम सभी को शुरू से अपने चरित्र का व सोच का ध्यान रखना चाहिए। हम जो भी कार्य करते हैं अथवा हमारे मन के प्रत्येक विचार जिसका हम चिंतन करते हैं। वे सभी हमारे चित्त पर अपना प्रभाव डालते हैं।

प्रत्येक मनुष्य का चरित्र इन सारे प्रभावों के आधार पर तय किया जाता है। यदि प्रभाव अच्छे होंते है तो चरित्र भी अच्छा होता है और यदि प्रभाव अच्छे ना हों तो उसका चरित्र बुरा होता है। चरित्र निर्माण की इस प्रक्रिया से जहां यह निश्चित होता है कि आप आगे चलकर कैसा बनेगे, वहीं यह भी तय होता है कि इससे आप अपने समाज और संसार का निर्माण कैसा करेंगे।

भारत एक ऐसा देश जहाँ महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। प्रकृति ने स्त्री के भीतर कोमलता, सौम्यता और ममत्व के भाव कूट-कूटकर भरे हुए हैं, लेकिन जिस तरह से हाथों की सभी अंगुलियां सामान न होकर भिन्न-भिन्न होतीं है। ठीक उसी प्रकार सारी स्त्री ऐसी ही हो ऐसा संभव नही है। स्त्रीयो पर जन्म से ही अपनी व अपने परिवार की इज्ज़त पर कभी आंच न आने देने की जिमेदारिया होती है। जिस तरह से स्त्रीयां अपने कुल की गरिमा बनायीं रखती हैं वही अपने नैतिकता और आचरण से  सामाजिक आचरण को भी पवित्र बनायीं रखती हैं।

यह भी देखे: नेपाल की इस लड़की को लेकर सोशल मीडिया पर मचा है हल्ला, आखिर क्या है वजह

वहीं कुछ स्त्रियां ऐसी होती हैं, जिनके कर्म कुल के सर्वनाश कर देती है। ऐसी स्त्रियों को सामाज कुलक्षिणी  कह कर बुलाता है। ज्योतिषानुसार, स्त्री के चेहरे और उनके शरीर पर कुछ ऐसे लक्षण होते हैं। जो उन्हें लक्ष्मी का रुप नहीं बल्कि कुलक्ष्मी का रूप दे देती हैं। आज हम आपको कुछ ऐसी ही स्त्रियों के शारीरिक संरचना के बारे में बतायेगे जिससे आप उस महिला के चरित्र की पहचान कर सकते है।

इन तरीको से पता लगाये स्त्रीओं का चरित्र-

ज्योतिष की माने तो यदि किसी महिला की कनिष्‍ठ उंगली या उसके साथ वाली उंगली जमीन को न छूती हो या फिर अंगूठे के साथ वाली उंगली ज्‍यादा लंबी हो तो यह महिलाएं समय के अनुसार स्वयं को परिवर्तित कर लेती हैं।

ज्योतिष की माने तो किसी महिला को बात-बात पर गुस्सा आता और उनका स्वभाव गुस्से वाला है, तो उसके चरित्र पर विश्वास नहीं किया जा सकता है।

ज्योतिष की माने तो जिन महिलाओं के पैर के पीछे का हिस्सा मोटा और उठा हुआ हो और उस भाग की नसें उभरी हुई हो, तो ऐसी महिलाओ से दूरी बनाकर रखें तो अच्छा हो होगा. यह घर के लिए शुभ नहीं मानी जाता है।

ज्योतिष की माने तो जिन महिलाओं का पेट घड़े के आकार की तरह होता है उन महिलाओं की पूरी उम्र गरीबी और दरिद्रता में व्यतीत होती है, यदि महिला का पेट अधिक लंबा और गड्ढेदार हो तो यह अशुभता की निशानी है।

ज्योतिष की माने तो जिन महिलाओं का कद लंबा है और उसके होंठो के ऊपरी हिस्‍से पर अधिक बाल आते हो तो ऐसी महिला पति के लिए अशुभ मानी जाती है।

ज्योतिषानुसार जिन महिलाओ में कानों के पास अत्यधिक बाल होती है वो घर में लड़ाई-झगड़े की वजह बनती हैं।

जिन महिलाओ के दांत मोटे – चौड़े, दांत मुंह से बाहर निकलते हुए दिखते हो, तो वह महिला बहुत दुखी और परेशान रहती है,  महिलाओं के मसूड़ों का काला होना भी दुर्भाग्य की निशानी होती है।

जिन महिलाओं के हाथों की नसों में उभार आता हो और हथेलियां चपटी हों, तो ऐसी महिलाएं को सुख और धन नसीब नहीं होता है।

जिन महिलाओं की गर्दन छोटी होती है वो अपने निर्णय स्वयं न करके दूसरों पर निर्भर रहती हैं। चार अंगुलियों से ज़्यादा लंबी गर्दन होने पर वह माहिला अपने ही वंश का विनाश करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *