Did You Know : भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती है और कौन-कौन से देश जाती है?

हमारे देश की सबसे बड़ी लाइफलाइन ‘रेलवे’ को ही कहा जाता है क्योंकि रेल मार्ग से प्रतिदिन कारोड़ो की संख्या
 
Did You Know : भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती है और कौन-कौन से देश जाती है?

हमारे देश की सबसे बड़ी लाइफलाइन ‘रेलवे’ को ही कहा जाता है क्योंकि रेल मार्ग से प्रतिदिन कारोड़ो की संख्या में लोग यात्रा करते हैं। कोई अपने काम से, कोई किसी से मिलने तो कोई अपनी नौकरी पर जाने के लिए रेल मार्ग का इस्तेमाल करता है। रेलवे का ज्यादातर इस्तेमाल इसलिए भी किया जाता है क्योंकि यह सस्ता और आसन सफ़र भी माना जाता है। निश्चित रूप से हमारे देश के तकरीबन सभी हिस्सों में रेल मार्ग से जाने की सुविधा उपलब्ध है मगर क्या आप जानते हैं कि क्या कोई ट्रेन भारत से विदेश के लिए भी जाती है?

यक़ीनन इसके जवाब में आप में से 90 प्रतिशत से भी ज्यादा लोगों के मुंह से ‘ना’ ही निकलेगा। मगर आज हम आपको बताने जा रहे है की भारत से कई ट्रेनें ऐसी भी हैं जो विदेश के लिए जाती है और आपको ये भी बताएँगे की वो किस किस देश जाती हैं।

Did You Know : भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती है और कौन-कौन से देश जाती है?

भारत से पकिस्तान जाने वाली ट्रेन

सबसे पहले तो आप ये जान लिजिय कि भारत से पकिस्तान के बीच भी दो ट्रेनें चलतीं है और ये काफी लोकप्रिय भीं है क्योंकि भारत पकिस्तान बॉर्डर को दुनिया के सबसे खतरनाक बॉर्डर में गिना जाता है।

1. समझौता एक्सप्रेस (Samjhauta Express)

समझौता एक्सप्रेस भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली ट्रेन है। भारत में यह ट्रेन दिल्ली से पंजाब के अटारी श्यामसिंह रेलवे स्टेशन तक जाती है। अटारी से इस ट्रेन को पाकिस्तान रेलवे का इंजन वाघा होते हुए लाहौर तक ले जाता है। इस दौरान सीमा सुरक्षा बल के जवान घोड़ागाड़ी से इसकी निगरानी करते हैं। आगे-आगे चलकर इसी भी तरह की आतंकी घटना या घुसपैठ को ध्यान में रखते हुए पटरियों की पड़ताल भी करते रहते है।

भारत से यह ट्रेन सप्ताह में दो बार बुधवार व रविवार को पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन से रात 11.10 बजे चलती थी। इस ट्रेन में दाखिल होने से पहले मुसाफिरों की गहन सुरक्षा जांच की जाती है। इसके बाद ही यात्री ट्रेन में बैठ पाते हैं। समझौता एक्सप्रेस में कुल छह शयनयान (Sleeper Coach) और एक वातानुकूलित तृतीय श्रेणी (3rd AC) कोच है। फिलहाल अगस्त 2019 में इस ट्रेन को पहले पाकिस्तान की तरफ से और फिर भारत की तरफ से भी बंद कर दिया गया है।

ध्यान देने वाली बता ये है की दिल्ली से निकलने के बाद अटारी तक इस ट्रेन का कोई स्टॉपेज नहीं है। आपको यह भी बता दें कि इसे भारतीय रेल की राजधानी एक्सप्रेस, शताब्दी एक्सप्रेस व अन्य प्रमुख ट्रेनों के ऊपर तरजीह दी जाती है ताकि इसमें कोई देर ना हो। लाहौर से वापसी के समय समझौता एक्सप्रेस भारत में सोमवार और गुरुवार को पहुंचती है। इस दौरान इस ट्रेन के लोको पायलट और गार्ड भी नहीं बदले जाते हैं।

यह भी पढ़ें : IRCTC लाया है दुबई घूमने का जबरदस्त मौका, 5 दिन के लिए देने होंगे इतने पैसे

Did You Know : भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती है और कौन-कौन से देश जाती है?

2. थार एक्सप्रेस (Thar Express)

भारत पाकिस्तान के बीच चलने वाली यह एक व्यापक रेल सेवा थी, दोनों देशों के बीच चलने वाली यह सबसे पुरानी रेल सेवा है। ये ट्रेन आजादी से पहले अविभाज्य हिन्दुस्तान के समय चलती आ रही है। पहले इसका नाम ‘सिंध मेल’ हुआ करता था, साल 1892 में हैदराबाद-जोधपुर रेलवे के तहत इसे शुरू किया गया था। हैदराबाद जोधपुर रेलवे लाइन को पाकिस्तान के करांची पेशावर रेलवे लाइन से जोड़ती है। दोनों देशों में आखिरी सीमाई स्टेशन मुनाबाओ और खोखरापार हैं, इस बीच ट्रेन करीब छह कीलोमीटर दोनों सीमाओं के मध्य चलती है।

बता दें कि साल 1965 के भारत-पाक युद्ध के बाद इसकी पटरियां क्षतिग्रस्त हो गई थीं, इसके बाद इसका संचालन रोक दिया गया था। लेकिन 41 साल दोनों देशों ने इस ट्रेन की अहमियत को फिर समझा और एक बार फिर से आपसी सहमति के बाद 18 फरवरी 2006 को इसे फिर से शुरू कर दिया गया। जमराव, सैंदद, पिथारू ढोरो नारो, छोरे एवं खोखरापार आदि इसे प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं। दोनों देशों में क्रमशः बाड़मेर और मीरपुर खास स्टेशनों पर हर यात्रा में इसकी विशेष जांच की जाती है।

भारत से बांग्लादेश जाने वाली ट्रेन

Did You Know : भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती है और कौन-कौन से देश जाती है?

1. मेत्री एक्सप्रेस (Maitree Express)

भारत से बांग्लादेश दो ट्रेनें चलती है जो भारत के कोलकत्ता से बांग्लादेश के ढाका तक चलतीं है. इसे 2008 में शुभारंभ किया गया।

Did You Know : भारत से कितनी ट्रेन विदेश जाती है और कौन-कौन से देश जाती है?

2. बंधन एक्सप्रेस (Bandhan Express)

इसका शुभारंभ 2017में किया गया। ये ट्रेन सप्ताह में छ: दिन चलती है जो कोलकात्ता शहर से 375km दूर ढाका शहर तक जाती है।

From around the web