अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पीएम मोदी प्रवासी भारतीयों के साथ बनारसी कचौड़ी और जलेबी का चखेंगे स्वाद

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बारे में तो पिछले कई दिनों से आपको ख़बरें मिल रही हैं। क्यूंकि वहां पर मोदी जी ने बहुत सारे बदलाव किए हैं। आपको बता दें कि वाराणसी में प्रवासी भारतीय सम्मेलन का आयोजन 21 से 23 जनवरी को होने जा रहा है जिसकी तैयारी काफी जोरो शोर से चल रही है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मोदी जी 22 जनवरी के दिन प्रवासी भारतीयों के साथ दोपहर में लंच करने वाले हैं।

अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पीएम मोदी प्रवासी भारतीयों के साथ बनारसी कचौड़ी और जलेबी का चखेंगे स्वाद

दोपहर के इस लंच में बनारसी व्यंजन शामिल होंगे जैसे की कचौड़ी, सब्जी, जलेबी, रबड़ी आदि। सूत्रों के मुताबिक पता चला है कि पीएम मोदी के लिए हेक्सागोन डायनिंग टेबल बनवाया जा रहा है। बता दें कि फूड कोर्ट एरिया में जर्मन हैंगर निर्माण का काम 17 जनवरी तक पूरा कर लिया जाएगा। वाराणसी को प्रवासी भारतीय निर्माण के लिए और भी ज्यादा भव्यता की तैयारी की जा रही है।

यह भी पढ़ें-पीएम मोदी के वाराणसी दौरे पर आने से पहले मिला परियोजनाओं को पूरा करने का टारगेट, विभागों ने झोंक दी अपनी पूरी ताकत

अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पीएम मोदी प्रवासी भारतीयों के साथ बनारसी कचौड़ी और जलेबी का चखेंगे स्वाद

घाटों के भी रंग – रोगन और साफ – सफाई तथा और भी आकर्षण दिखने के लिए काम किया जा रहा है। जानकारी के लिए बता दें कि इस आयोजन में सात हजार से अधिक प्रवासी भारतीय शामिल होने वाले हैं। सूत्रों के अनुसार 23 जनवरी को देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी इस आयोजन में शिरकत करते हुए नजर आएंगे। अहमदाबाद के तर्ज पर ही यहां भी छह स्थानों पर फूड स्ट्रीट लगने जा रहा है। प्रवासियों के लिए खास तौर पर 42 एकड़ एरिया में 3000 खूबसूरत कॉटेज बन रहे हैं, वहां पर फाइव स्टार होटल के जैसी सारी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

इस सम्मेलन में लगभग 12 हजार जवान वीआईपी सुरक्षा के लिए लगाए जाएंगे। इसमें 10 आईपीएस, 45 डीएसपी, 4000 दरोगा तथा इंस्पेक्टर्स सुरक्षा के लिए तैनात किए जाएंगे। बता दें कि ऐढ़ें गांव टेंट सिटी और टीएफसी में 20 वाच टावर भी बनाए जा रहे हैं। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के फर्स्ट फेज में इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम, सिटी कमांड कंट्रोल सेंटर, सर्विलांस सिस्टम के साथ साथ और भी कई सारे कार्यों को सम्पन्न किया जा रहा है।

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on