तुलसी के सामने 3 बार बोले 2 अक्षर का ये मन्त्र फिर तुरंत होगा चमत्कार

हमारे हिन्दू धर्म में तुलसी का पौधा बहतु ही पूजनीय माना जाता है और कहा जाता है की इस धरा पर तुलसी केवल एक पौधा नहीं बल्कि इस धरा के लिए वरदान है | तुलसी को दैवी गुणों से परिपूर्ण मानते हुए इसके बारे में अध्यात्म ग्रंथों में बहुत कुछ लिखा गया है। तुलसी को औषधियों का खान कहा जाता हैं।यही कारण है की तुलसी को  अर्थदेव औषधि की संज्ञा भी  दी गई हैं।

संस्कृत भासा में तुलसी को  हरिप्रिया  के नाम से भी जाना जाता है । पौराणिक कथा के अनुसार कहा जाता है की इस औषधि की उत्पत्ति से भगवान् विष्णु का मनः संताप दूर हुआ इसी कारण से तुलसी को हरिप्रिया की संज्ञा दी गयी है ।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये कहा जाता है की तुलसी की जड़ में सभी तीर्थ, मध्य में सभी देवि-देवियाँ और ऊपरी शाखाओं में सभी वेद स्थित हैं।इसीलिए यदि प्रतिदिन  तुलसी का दर्शन भी हो जाये तो व्यक्ति के जीवन से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं इसके अलावा तुलसी पूजन करना मोक्षदायक भी माना जाता है| देवपूजन  और श्राद्धकर्म में तुलसी को अतिआवश्यक माना गया  है।

यह भी पढ़े :महाशिवरात्रि के महापर्व पर बन रहा है ये महासंयोग, इन 5 राशियों की सारी इच्‍छाएं होगी पूरी

तुलसी पत्र से पूजा करने से व्रत, यज्ञ, जप, होम, हवन करने का पुण्य प्राप्त होता है। प्राणी के अंत समय में मृत शैया पर पड़े रोगी को तुलसी दलयुक्त जल सेवन कराये जाने के विधान में तुलसी की शुद्धता ही मानी जाती है और उस व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त हो, ऐसा माना जाता है।

आज हम आपको इसी तुलसी से जुड़ा एक ऐसा उपाय बताने वाले हैं जिसे करके आप अपने जीवन के सभी कष्टों को दूर कर सकते हैं और आपके जीवन में धन समृद्धि का भी आगमन हो जायेगा |

जैसा की हम सभी जानते हैं की तुलसी का पूजन हमे प्रतिदिन करना चाहिए और जल देना चाहिए लेकिन यदि आप तुलसी को जल देते समय ये दो अक्षर का मन्त्र जाप करते हैं तो आपको इसका बहुत ही शुभ फल प्राप्त होता है

तुलसी के पत्ते तोड़ते समय आपको ये मन्त्र बोलना है

ॐ सुभद्राय नमः
ॐ सुप्रभाय नमः

मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।

जब भी तुलसी को जल दे इस मन्त्र का जाप करें

महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी
आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।।

Share this on

Leave a Reply