जानें, दुनिया के उस पहले व्यक्ति के बारे में जिसे हुआ था एड्स, इस जानवर की वजह से हुई थी खतरनाक बिमारी की शुरुवात

जैसा की हम सभी जानते है कि आज 1 दिसम्बर है और आज के दिन वर्ल्ड एड्स भी दिवस मनाया जाता है। आज के दिन हम लोगो को इस खतरनाक बीमारी से लोगो को सावधान करते है। इस दिन की शुरुवात सन् 1988 से हुई, इस दिन से लोगों को एड्स के प्रति जागरूक किया जाने लगा और इससे जुड़े कई अभियान भी चलाए जाने लगे। यह तो हम में ज्यादातर लोग यह बात जानते है लेकिन आप यह नहीं जानते होंगे कि किस इंसान को सबसे पहले एड्स हुआ था और उसका क्या कारण था? तो चलिए आपको बताते है इसके बारे में।

यह भी पढ़े : सोशल मीडिया पर छाई धोनी की बेटी जीवा, रोटी बेलते हुए वीडियो हुआ वायरल

आज हम आपको बता दें कि रिसर्च में यह पाया गया है कि एड्स की शुरुवात चिम्पैंजी की वजह से हुआ था। वैज्ञानिको के अनुसार सन् 1908 में एक घायल चिम्पैंजी ने एक इंसान को खरोंचा या काटा था। जिसके कारण चिम्पैंजी का खून उस इंसान के अंदर चला गया था। उस खून के कारण उस इंसान को इंफेक्शन हो गया और ऐसा कहा जाता है कि वह इंसान शिकारी था जो कैमरून के जंगलों में चिम्पैंजी का पीछा कर रहा था। इसी कारण से एड्स जैसे खतरनाक बीमारी की शुरुवात हुई।

यह भी पढ़े : पुरुषों की छाती पर अधिक बाल होने के पीछे छिपे है कई राज

सन् 1980 में गैटन डूगस नाम का एक गे व्यक्ति था, जिसे एड्स फैलाने का दोषी माना गया है। गैटन एक कैनेडियन फ़्लाइट अटेंडेंट था। जिसने अमेरिका के कई लोगो को जानबूझ इस वायरस से को फैलाया और ऐसा करने के लिए उसने कई लोगो के साथ सम्बन्ध भी बनाया था। इन्ही कारणों के चलते इस व्यक्ति को ‘पेशेंट जीरो’ का नाम दिया गया था। इस वायरस की सबसे पहले जानकारी अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को के डॉक्टर्स ने की और सबसे पहले इस वायरस पर ध्यान भी उन्होंने ही दिया था।

Share this on

Leave a Reply