एक-दूसरे पर जान छिड़कते थे ये दोनों, मोहल्ले के प्यार से लेकर मौत तक, ऐसी है लव स्टोरी

वैसे तो आपने प्यार के कई किस्से देखे और सुने होंगे। इन प्यार के किस्सों में कुछ तो काल्पनिक होंते है, तो कुछ सच्ची घटाओं पर आधारित होंते है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी घटना से रूबरू करवाने वाले है, जो अभी हाल ही में घटित हुई है और इस लव स्टोरी में दोनों एक दुसरे से जान से भी ज्यादा बढ़कर चाहते थे। लेकिन इस लव स्टोरी में कुछ ऐसा हुआ जिसके कारण दोनों की जान चली गयी। आज हम आपको जिस लव स्टोरी के बारे में बताने जा रहे है, उसे जानने के बाद आप के भी होश उड़ जाएंगे।

यह लव स्टोरी झारखंड के धनबाद में योगेश और खुशबू की है, जो एक दूसरे के पड़ोसी थे।  दोनों एक दुसरे से बहुत प्यार करते थे, उनकी लव स्टोरी उनके इलाके में काफी ज्यादा चर्चित थी। दोनों तीन सालों तक रिलेशनशिप में रहे और अपने प्यार को समाज से छुपा कर रखा। बस दोनों की नजरों ही नजरों में बात होती थी। दोनों को एक दुसरे का दीदार खिड़की पर किया करते थे और खिड़की पर आने का बस उन्हें बहाना चाहिये होता था। एक दिन के लिए भी दोनों एक दूसरे के दीदार के लिये तड़पते जाते थे।

यह भी पढ़े :-पहले-पहले प्यार में अक्सर कपल्स कर देते हैं ये 15 गलतियां, बाद में झेलनी पड़ता है इतना कुछ

खुशबू को लेकर वो अपने कुछ ही मित्रो से बात करता था, इसी कारण वश उसके करीबी दोस्तों ही उसके लव स्टोरी के बारे में जानते थे। लेकिन 15 नवंबर 2017 को दोनों ने सबके सामने अपने प्यार का जिक्र कर दिया। जिसके बाद दोनों के परिवार में विरोध होने लगा। जिस बात से योगेश और खुशबू नाराज होकर घर छोड़ भाग गये।  दोनों भागकर रांची चले गये लेकिन दो ही दिनों के अन्दर खुशबू के घर वाले ने दोनों को ढूंढ निकाला और खुशबू को लेकर घर वापस धनबाद आ गये।

उसके बाद दिनांक 16 नवंबर 2017 को योगेश की मौत की खबर ने सबको हिला कर रख दिया। योगेश लाश दुग्धा स्थित रेलवे लाइन पर पड़ा हुआ मिला, जिसके बाद योगेश के परिवार वालो ने खुशबू के घर वालों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया। इस मामले में खुशबू के पिता, चाचा और फुफेरा भाई जेल में बंद है। इस पूरी घटना में लड़की की गवाही काफी महत्वपूर्ण रखती थी लेकिन उसकी भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई।

यह भी पढ़े :-20 साल की मन्नतों के बाद मिली थी बेटी, कफन में लिपटा देख थम नहीं रहे माँ के आँसू

योगेश के मौत की खबर सुनकर वो अन्दर से बिल्कुल टूट चुकी थी और योगेश के जाने के बाद खुशबू खुद को बिल्कुल अकेली महसूस कर रही थी। उसके पास अब योगेश की यादों के सिवा और कुछ भी न था। जब वो अपने घर की खिड़की से झाकती तो उसे योगेश नजर नहीं आता था। खुशबू के घर वालों ने यह देखकर उसका मन बदलने के लिये उसे उसके मामा के घर भेज दिया। योगेश की मौत के मामले में पुलिस के लिए खुशबू की गवाही बहुत मायने रखती थी लेकिन ऐसा ना हो सका क्योकि 8 जनवरी 2017 की रात को संदिग्ध हालत में मामा के घर ही उसकी मौत हो गई।

इस लव स्टोरी में योगेश और खुशबू के दोस्तों का कहना है कि दोनों एक दूसरे पर जान छिड़कते थे। सुबह की शुरुवात दोनों की मिलन से ही होती थी। हम सारे दोस्त उनकी दोस्ती की मिसाले दिया करते थे क्योंकि वो दोनों एक दूसरे को बहुत अच्छी तरह से समझते थे।

यह भी पढ़े :-बाहुबली फिल्म के कटप्पा की बेटी है बेहद ही खुबसुरत, तस्वीरें देखकर आप भी हो जाएंगे दीवाने

खुशबू की माँ फूल देवी ने पुलिस को यह जानकारी दी कि 16 नवंबर को उनकी बेटी पड़ोस के देवन महतो के बेटे योगेश कुमार के साथ भाग गयी। फिर तीन दिनो के बाद दोनों चंद्रपुरा स्टेशन पर उनके भगिना बंधू लाल महतो को मिले और उसी दिन योगेश की लाश चंद्रपुरा के पास ही रेलवे ट्रैक पर मिली। इसी घटना के बाद उन्होने अपनी बेटी खुसबू को लेकर मायके भूली बस्ती पिपरा टोला चली गई।

फिर उसके बाद सोमवार की रात करीब साढे नौ बजे सभी ने खाना खाया और लगभग 11 बजे तक सोने चले गये। सुबह 5 बजे जब उनकी चाची नीलम देवी रसोइघर में माचिस लाने गई तो उन्होने देखा कि किचन का दरवाजा अंदर से बंद है और कुछ जलने की बदबू आ रही है। जब उन्होंने अंदर झांककर देखा तो उनकी बेटी खुशबू ने मिट्टी का तेल डालकर आत्मदाह कर ली थी।

मृतक युवक योगेश के पिता देवन महतो ने कहा कि खुशबू की मौत एक साजिश है क्योकि वो योगेश के हत्या की मुख्य गवाह थी। वो कोर्ट में गवाही देने को भी तैयार थी कि योगेश को कौन लोग अपने साथ ले गये थे। लेकिन  परिवार के लोग लगातार उस पर दबाव बना रहे थे कि वो गवाही देने से मुकर जाए लेकिन वो तैयार नहीं हुई तो उसके घर वालों ने ही खुशबू को मार डाला ताकि पिता, चाचा और फुफेरे भाई को बचाया जा सके।
Share this on

Leave a Reply