अपशगुन मानी जाती हैं ऐसी 10 घटनाएं, भूल से भी न करें इन्हें नजरअंदाज

आपने अपने घर-परिवार में कुछ टूट जाने या दूध के बह जाने पर अपने बड़ों को अपशगुन का नाम बोलते सुना होगा। हिन्दू धर्म में बहुत सी मान्यतायें प्रचलित जिनके अनुसार कुछ बातों और चीज़ों को अपशगुन माना जाता है। भारत अंधविश्वास और पवित्र अनुष्ठानों का देश है और यहाँ लोग अपशगुनों को बहुतायत में मानते हैं। रात में पीपल के पेड़ के नीचे बैठने से लेकर अपना रास्ता पार करने वाली बिल्ली तक या उत्तर दिशा की ओर सिर करके सोने से भी अपशगुन को जोड़कर देखा जाता है। लेकिन इससे पहले कि आप विज्ञान के नाम पर इन अपशगुनों पर बहस करें, आपको यह समझ लेना चाहिए कि इनके पीछे कोई वैगनिक तर्क नहीं दिया जा सकता है। आइए कुछ ऐसे अपशगुनों पर नज़र डालते हैं जो आज केसमय में समाज में प्रचलित हैं।

1. बिल्लियों से जुड़ा अपशगुन:

घर पर बिल्लियों का रोना या फिर आपस में झगड़ा करना अच्छा संकेत नहीं माना जाता है। इसे अपशगुन से जोड़कर देखा जाता है। माना जाता है कि यह भविष्य में घर में होने वाली अप्रिय घटनाओ का संकेत माना जाता है। यह भी माना जाता है कि यदि आप किसी ज़रूरी काम से कहीं जा रहे हो और काली बिल्ली आपका रास्ता काट दे वह कार्य पूर्ण नहीं होता।

2. झाडू से जुड़ा अपशगुन:

हिन्दू धर्म में मान्यता है कि शाम के समय झाडू नहीं लगाना चाहिए और कभी भी झाड़ू पर पाँव भी नहीं रखना चाहिये इससे अपशगुन माना जाता है। ऐसा करने से लक्ष्मी माता रूठ जाती हैं और घर में पैसों की तंगी आ सकती है। इसके कारण है कि झाड़ू में लक्ष्मी माता का वास माना जाता है।

3.पैसे से जुड़ा अपशगुन:

यह माना जाता है कि आपको अपनी जेब या पर्स को कभी खाली नहीं रखनी चाहिए। आप अपने पर्स में कुछ न कुछ पैसे ज़रूर रखें, इसे पूर्णतः खाली कभी नहीं करना चाहिए।

4. पक्षियों से जुड़ा हुआ अपशगुन:

यह कहा जाता है कि घर के ऊपर उल्लू का साक्षी होना बर्बादी और विनाश के करीब पहुंचने का एक निश्चित संकेत है। इसके साथ ही घर पर मकड़ी के जाले का होना, और चमगादड़ो का घर पर डेरा डालना बड़ी अपशकुन माना जाता है। घर पर चमगादड़ का आने का मतलब है यह परिवार में होने वाली मृत्यू का संकेत है।

5. छींक से जुड़ा अपशगुन:

घर से काम पर जाते समय अगर छींक आ जाए तो इसे भी बहुत अपशगुन माना जाता है। भारत के उत्तरी हिस्सों, घर से बाहर निकलने से पहले या किसी नए कार्य या यात्रा की शुरुआत में छींकने को दुर्भाग्य माना जाता है। जबकि, भारत के पश्चिमी हिस्सों में, छींकने का मतलब है कि कोई आपके बारे में सोच रहा है। घर से निकलते वक्त अगर छींक आएं तो वापस घर के अंदर चले जाना चाहिए और पानी पीकर ही दोबारा निकलना चाहिए।

6. चाक़ू से जुड़ा अपशकुन:

चाक़ू से जुड़े अपशगुन के कारण घर के सदस्यों के बीच में झगड़ा और कलह बढ़ती है। इसके अलावा मेज से चाकू का नीचे गिरना भी अशुभ माना जाता है। यदि आप खाना खाने के बाद कांटे-छुरी को क्रॉस करके रख दें तो घर में बुराई का आगमन हो जाता है।

7. बाल्टी से जुड़ा अपशगुन:

आपको घर पर हमेशा बाल्टी को पानी भरकर रखना चाहिए क्यूंकि खाली बाल्टी देखना अपशगुन माना जाता है। यदि आप सुबह उठकर खाली बाल्टी देखते हैं तो आपके दिन भर के सारे काम अधूरे होते है और इसमें काफी अड़चन आती है।

8. शीशे से जुड़ा अपशगुन:

माना जाता है कि घर पर शीशा टूट जाने से लम्बे समय तक घर पर अभाग्य आ जाता है। दर्पण या फिर शीशे से बनी हुए चीजें का टूटना बहुत ही अशुभ माना जाता है। कहते हैं कि नवजात बच्चों को शीशा नहीं दिखाना चाहिए और सुहागन महिलाओं को टूटे शीशों में श्रृंगार नहीं करना चाहिए।

9. दूध से जुड़ा अपशगुन:

दूध का हिन्दू धर्म की मान्यताओं में बहुत महत्व है। दूध का जमीन पर गिरना अशुभ माना जाता है। जमीन पर दूध के गिरने से किसी बड़ी दुर्घटना या हानि होने का संकेत माना जाता है।

10. लोहे की चीजों से जुड़ा अपशगुन:

यह माना जाता है कि यदि आपको बुरे सपने आते हैं तो आप अपने तकिये के नीचे लोहे की कोई वास्तु रख कर सोएं। इसके साथ ही घर पर लोहे से बनी हुई चीजे रखने से बुरी आत्माएं नहीं भटकती। लेकिन कभी भी जंग लगी हुए लोहे की चीजें को घर पर नही रखनी चाहिए क्यूंकि इसे अपशगुन माना जाता है।

Share this on