बर्फीले तूफान BOMB के कहर से सहमा अमेरिका, 133 साल बाद पड़ी ऐसी ठंड

जैसा कि हम सभी जान रहे है कि इन दिनों भारत में सर्दियाँ काफी बढ़ चुकी है। ऐसे में यदि अमेरिका की बात कि जाए तो पिछले दस दिनों से अमेरिका भी काफी ठण्ड से गुजर रहा है। इतना ही नहीं पिछले दो दिनों से अमेरिका में बर्फीले तूफान भी आ रहे है। इस भारी बर्फबारी ने अमेरिका के कई शहरों को बर्फ की चादर से ढक दिया है। अमेरिका में 133 सालो के बाद ऐसी कड़ाके की ठण्ड पड़ रही है। साथ फ्लोरिडा में बर्फबारी भी हुई। इस भयानक ठण्ड के कारण अमेरिका में 12 लोगो की मौत भी हो गई है। अमेरिका के 90 फीसदी ऐसे शहर है, जहाँ का तापमान शून्य या उससे निचे जा चुका है। साथ ही अमेरिका में और ठण्ड बढ़ने का का अनुमान लगाया जा रहा है। बिगड़ते हालातों को देखकर अमेरिका में इमरजेंसी की घोषित भी कर दी गयी है।

बर्फबारी का सबसे ज्यादा असर जहाजों के उड़ानों पर पड़ा है, कल से अब तक लगभग 4500 उड़ाने रद्द कर दी गई हैं। न्यूयॉर्क और मैसाचुसेट्स के बोस्टन में 15 फीट तक पानी कई जगहों पर पहुँच चुका है। बोस्टन में तेज हवाओं के साथ ही साथ जोरदार बर्फबारी हो रही है।

यह भी पढ़े :-सिर्फ सेहत के लिए ही नहीं ‘एंटीबॉयोटिक्स’ पर्यावरण के लिए भी है खतरनाक

यहां करीब एक फुट तक बर्फ जम गई है, सड़कों से बर्फ हटाने के लिए जेसीबी मशीने लगाई गई हैं और छोटी मशीनों से भी बर्फ हटाने का काम चल रहा है। मौसम विभाग की माने तो अमेरिका के न्यूयार्क शहर में 6 से 10 इंच मोटी बर्फ पड़ेगी। प्रशासन की ओर से बर्फ हटाने वाले ट्रक लगातार काम कर रहे है। अमेरिका के पूर्वी राज्य यानी फ्लोरिडा, जॉर्जिया, साऊथ कैरोलिना, नार्थ कैरोलिना, वर्जीनिया, मैरीलैंड, न्यूजर्सी, न्यूयोर्क आदि इस में बर्फबारी के कारण परेशान है। इस तूफान को लोग बोम साइक्लोंन कह कर बुला रहे है क्योकि यह एक प्रकार का चक्रवात है, जो ठण्डी और गर्म हवा के मिलने से बनता है जिसका असर काफी विस्फोटक है।

यह भी पढ़े :-इस नए साल में आजमाते हैं ये 5 असरदार टोटके, तो लड़की, नौकरी, पैसा सब कुछ मिलेगा

इसी तूफान के चलते अमेरिका और कनाडा के सीमा पर नाइग्रा झील का पानी भी बर्फ में परिवर्तित होने लगा है। अमेरिका के ज्यादातर शहरों में स्कूल व ऑफिस बंद कर दिए गये है। अमेरिकी सरकार भी लोगो से अपील कर रहा है कि जितना हो सके वो लोग घरों से बाहर न निकले। जो लोग रोड पर काम कर रहे है, वो भी जल्दी काम खत्म कर निकल जाए।

बर्फ़बारी का असर दक्षिण अमेरिका में भी देखा जा सकता है, वहां पर भी फाउंटेन के पानी बर्फ बन चुके है। सडको पर बर्फ हटाने के लिए बड़ी बड़ी मशीने लगाई गई है। शिकागो में में भी इस तूफान के कारण नदी जम चुकी है। अमेरिका में हाईवे बंद, एयरपोर्ट बंद और साथ ही समुंद्र का पानी बर्फ बन रहा है। ऐसे बर्फ 1884 के बाद अब पहली बार पड़ रही है।
Share this on

Leave a Reply