Tag: way

बिल्ली का हर बार रास्ता काटना नहीं होता अशुभ, जाने किन कारणों से माना जाता है अपशगुनी

बिल्ली का हर बार रास्ता काटना नहीं होता अशुभ, जाने किन कारणों से माना जाता है अपशगुनी

Interesting, Religion
बिल्ली जो की एक पालतू जानवर है और आजकल कई घरों में बिल्लियों को पालतू जानवर के रूप में पाला जाता है, लेकिन यह कितना अशुभ है या शुभ इसके बारे में कई धारणाएँ हैं। नारद पुराण के मुताबिक बिल्ली का घर में बार-बार आना अशुभ माना गया है। यदि बिल्ली घर में आती है तो जरूर कुछ अशुभ होने वाला है क्योंकि इसें नकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना गया है। शास्त्रों में बताया गया है कि जहां-जहां बिल्ली जाती वहां सकारात्मक ऊर्जा की हानि होती है। इसलिए तंत्र-मंत्र की साधना करने वाले बिल्ली को काली शक्ति के प्रतीक के रूप में मानते हैं। आइये आज हम विस्तार से जानते है बिल्ली के शगुन और अपशगुन  होने की वजह नारद पुराण के मुताबिक यदि किसी घर में बिल्ली बार-बार आती है तो उस घर में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव बना रहता है। दो बिल्लियों का आपस में लड़ाई करना घर में  धन-हानि या  परिवार में किसी से लड़ाई
भूल से भी नहीं करना चाहिए इस तरह से गायत्री मंत्र का जाप, घर में आती है दरिद्रता

भूल से भी नहीं करना चाहिए इस तरह से गायत्री मंत्र का जाप, घर में आती है दरिद्रता

Religion
ज्योतिष और शास्त्रों के अनुसार किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले हमेशा गायत्री मंत्र का ही जाप किया जाता है क्योंकि इसे ब्रह्मांड का महामंत्र माना गया है। बताना चाहेंगे की गायत्री मंत्र की महत्ता से तो तकरीबन हर कोई बेहतर वाकिफ होगा, बचपन में अधिकतर स्कूलों में भी प्रार्थना के समय गायत्री मंत्र का जाप कराया जाता था ताकि हर किसी में इसकी पवित्रता आती रहे। आपको बता दे की गायत्री मंत्र पूरी तरह से एक सिद्ध वैदिक मंत्र है, ऐसा कहा जाता है की इस मंत्र की साधना से किसी भी प्राणी को मोक्ष की प्राप्ति होती है। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि ऐसा माना जाता है की इस मंत्र का जाप जिस किसी भी उदेश्य से किया जाता है वह कार्य अवश्य पूरा हो जाता है। प्राचीन समय से आज तक इस मंत्र की बहुत महत्ता रही है और गायत्री साधना सदा ही मनुष्य को सांसारिक मोह-माया से बचा कर रखता है। यह भी पढ़ें : शास्त्रों के अनुसार