Monday, December 18

Tag: upay

सोमवार को है ये खास तिथि, चाहते हैं अपनी किस्मत चमकाना तो इन 5 में से जरूर करेें एक उपाय

सोमवार को है ये खास तिथि, चाहते हैं अपनी किस्मत चमकाना तो इन 5 में से जरूर करेें एक उपाय

Religion
हम सभी के जीवन में कुछ क्षण ऐसे होते है, जो काफी सुखदायक होते है वहीँ कुछ ऐसे भी क्षण भी होते जो काफी कष्टकारी होते है। यह जीवन का एक क्रम है, जो हम सभी के जीवन में जरुर आता है, हम सभी के जीवन में उतराव चढाव होते ही रहते है लेकिन आप इन कष्टों को कुछ उपायों द्वारा दूर जरुर कर सकते है। पहले हम आपको यह बता दे कि यह सोमवार काफी खास है क्योकि 18 दिसम्बर को पौष मास की अमावस्या का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन स्नान का विशेष महत्व मना गया है और साथ ही दान-पुण्य और पूजा-पाठ करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। अमावस्या के दिन किये गये धार्मिक कार्यों का फल बहुत जल्दी मिलता है और देवी-देवता भी अति शीघ्र प्रसन्न हो जाते है। 18 दिसम्बर को दिन सोमवार पड़ने के कारण यह अमावस्या ‘सोमवती अमावस्या’ कहलाती है। तो चलिए आपको बतातें है, इस दिन किन-किन उपायों को करके आप देवी-देवताओं को अति शीघ्र प्रसन्न कर
इन उपायों को करेंगे तो चुटकी बजाते बदल जाएगी आपकी किस्मत, अशुभ ग्रह भी बनायेंगे मालामाल

इन उपायों को करेंगे तो चुटकी बजाते बदल जाएगी आपकी किस्मत, अशुभ ग्रह भी बनायेंगे मालामाल

Religion
ज्योतिष शास्त्र  के अनुसार व्यक्ति के शरीर का संचालन  सौरमंडल में मौजूद नव ग्रहों के अनुसार होता है और हमारे शास्त्रों में इन ग्रहों के दोष को दूर करने के लिए कई सारे उपाय भी बताये गये है लेकिन इन सबके अलावा कुछ सामान्य कारण भी है जो हमारे ग्रहों के अशुभ होने के कारण बनते है जिसके वजह से जातक की जिंदगी में धन की हानि,शारीरिक व मानसिक रोग ,संतान की प्राप्ति में बाधा ,नौकरी में परेशानी ,व्यापार में घाटा इत्यादि समस्याओ का सामना करना पड़ता है आज हम आपको ऐसी ही कुछ सामन्य कारणों के विषय में बताने जा रहे है  जिससे आपके ग्रहों की अशुभता को दूर किया जा सकता है | सबसे पहली चीज इस दुनिया में सभी प्राणी इश्वर का  रूप होते है इसीलिए किसी भी जीव को कभी कष्ट या हानि नहीं पहुंचानी चाहिए घर के बड़े बुजुर्गों को कभी ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए सदैव इनका सम्मान करना चाहिए क्योंकि इनके अपमान से सूर्य
आज सफला एकादशी की रात यहां रखें एक दीपक इतना आयेगा पैसा की संभाल नहीं पाओगे आप

आज सफला एकादशी की रात यहां रखें एक दीपक इतना आयेगा पैसा की संभाल नहीं पाओगे आप

News, Religion
हिन्दू धर्म  में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है।। पौषमास के कृष्णपक्ष में सफला नाम की एकादशी होती है। इस दिन भगवान नारायण की विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए, यह एकादशी कल्याण करने वाली है। एकादशी समस्त व्रतों में श्रेष्ठ है। पद्मपुराण में पौषमास के कृष्णपक्ष की एकादशी के विषय में युधिष्ठिर के पूछने पर भगवान श्रीकृष्ण बोले-बडे-बडे यज्ञों से भी मुझे उतना संतोष नहीं होता, जितना एकादशी व्रत के अनुष्ठान से होता है। इसलिए एकादशी-व्रत अवश्य करना चाहिए, इस बार सफला एकादशी बुधवार यानि 13 दिसम्बर को मनाई जाएगी। सफल एकादशी का पूजन विधि सफला एकादशी की सुबह स्नान करने के बाद माथे पर चंदन लगाकर कमल अथवा अन्य कोई फूल, फल, गंगा जल, पंचामृत व धूप-दीप से भगवान लक्ष्मीनारायण की पूजा एवं आरती कर
रविवार को कर लें इनमें से कोई भी 1 उपाय, हनुमान जी हर मुश्किल करेंगे आसान

रविवार को कर लें इनमें से कोई भी 1 उपाय, हनुमान जी हर मुश्किल करेंगे आसान

News, Religion
हनुमान अष्टमी पर्व जोकि हर पौस मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता है। वह पर्व इस साल के 10 दिसंबर दिन रविवार को पढ़ रही है। जो लोग इस समय काफी कष्ट, परेशानी और आर्थिक तंगी से परेशान है। तो वो इस पर्व के अवसर पर इस दिन इस विशेष उपाय को करके वह अपनी सारी परेशानीयों का निवारण कर सकते है। तो चलिए आपको बताते है। क्या है? वो उपाय जिसे करने मात्र से आप पर से सारे संकटों के बादल छट जाएंगे। तो आइये जानते हैं। ऐसे चढाएं हनुमान जी को चोला हनुमान अष्टमी जो कि 10 दिसंबर दिन रविवार को पढ़ रहा है। इस दिन आप हनुमान जी की विशेष कृपा पाने के लिए हनुमान जो को चोला चढ़ाएं। हनुमान जी को चोला चढ़ाने से पहले आप स्नान करके शुद्ध हो जाए और साफ वस्त्र धारण करें। यदि आप स्नान के बाद केवल लाल रंग की धोती पहने तो यह काफी शुभ होगा। चोला चढ़ाने के लिए आप चमेली के तेल का प्रयोग करें और चोला चढ़ाते वक्त आप एक दीपक
इस रविवार कुत्तो को कराएँ भोजन ,जीवन में होगा शुभता का संचार

इस रविवार कुत्तो को कराएँ भोजन ,जीवन में होगा शुभता का संचार

News, Religion
कालाष्टमी का त्यौहार हर माह की कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है, इस दिन कालभैरव की पूजा की जाती है जिन्हें शिवजी का एक अवतार माना जाता है। इसे कालाष्टमी, भैरवाष्टमी आदि नामों से जाना जाता है। आज के दिन मां दुर्गा की पूजा और व्रत का भी विधान माना गया है। इस बार काल भैरव अष्टमी रविवार को दिनांक 10.12.2017 को मनाया जायेगा। कालाष्टमी की व्रत कथा पौराणिक कथा के अनुसार एक दिन भगवान ब्रह्मा और विष्णु के बीच श्रेष्ठ होने का विवाद उत्पन्न हुआ, विवाद के समाधान के लिए सभी देवता और मुनि देवो के देव महादेव जी के पास पहुंचे, सभी देवताओं और मुनि की सहमति से शिव जी को सबसे श्रेष्ठतम माना गया परंतु ब्रह्मा जी इससे सहमत नहीं हुए और ब्रह्मा जी, शिव जी का अपमान करने लगे। ब्रह्म देव की अपमान जनक बातें सुनकर शिव जी को क्रोध आ गया जिससे कालभैरव का जन्म हुआ। उसी दिन से कालाष्टमी का पर्व शिव
शनिवार की रात चुपचाप सेे करेंगे ये उपाय तो तुरंत मिलेगी शनिदेव की कृपा पाएं

शनिवार की रात चुपचाप सेे करेंगे ये उपाय तो तुरंत मिलेगी शनिदेव की कृपा पाएं

News, Religion
जनसामान्य में फैली मान्यता के अनुसार नवग्रह परिवार  में सूर्य को राजा व शनिदेव को मृत्यु कहा गया है  हैं लेकिन महर्षि कश्यप नेशनि स्त्रोत  के एक मंत्र में सूर्य पुत्र शनिदेव को महाबली और ग्रहों का राजा कहा है- ‘सौरिग्रहराजो महाबलः।’ प्राचीन ग्रंथों के अनुसार शनिदेव ने शिव भगवान की भक्ति व तपस्या से नवग्रहों में सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त किया है| शास्त्रों के अनुसार शनिदेव को इंसाफ का देवता माना गया है क्यूकि शनिदेव हर व्यक्ति को उसके कर्मो के अनुसार ही फल देते है कुछ लोग शनिदेव को भाग्य सवारने वाला देवता भी मानते है तो वही कुछ लोग  शनिदेव की बुरी दृष्टि से डरते है भी है| शास्त्रों के अनुसार शनिदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए कुछ उपाय भी बताये गए है और इन उपायों को करने से व्यक्ति अपने जीवन के सभी कष्ट दूर कर सकता है इसके साथ ही आज हम आपको कुछ ऐसे उपाय भी बताएंगे जिन्हे अगर आप
सफ़र के दौरान होती है उल्टी की समस्या, तो अपनाइए ये आसान सा उपाय

सफ़र के दौरान होती है उल्टी की समस्या, तो अपनाइए ये आसान सा उपाय

Health & Fitness
हम सभी को सैर करना काफी अच्छा लगता है। सैर करने के लिए लोग काफी दूर दूर तक जाते है, जिससे सफ़र करने वाले को नई नई चीजे देखने को मिलती है। जहाँ सैर करने से हमे नई- नई चीजें देखने को तो मिलती है, वहीँ सैर करने से हमारा मन भी खुश रहता है। सैर करना हम सभी के लिए बहुत लाभदायक है लेकिन ऐसे कई लोग होते है। जिन्हें सफर करने के दौरान अक्सर उल्टी हो जाती है। जिससे उन्हें सफ़र के दौरान काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और यदि उनके साथ कई लोग हो तो सफ़र करने में काफी अडचने आती है। ऐसे में अक्सर उनका और उनके साथ सफ़र करने वालो का सारा मज़ा खराब हो जाता है। अगर आप भी इस समस्या से परेशान है, तो आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे है। जिसे करने से आप की उल्टी करने की समस्या ख़त्म हो जाएगी और आप सफ़र का पूरा मजा भी ले पाएंगे। यह भी पढ़े :- आपके नाम में ही छिपा होता है आपका भविष्‍य, जानें कैसे अ
आज मार्ग शीर्ष पूर्णिमा में करेंगे ये उपाय तो परिवार में आएगी सुख-समृद्धि

आज मार्ग शीर्ष पूर्णिमा में करेंगे ये उपाय तो परिवार में आएगी सुख-समृद्धि

News, Religion
रविवार 3 दिसंबर 2017  को अगहन मास की पूर्णिमा है और श्री मदभागवद गीता के उपदेश में स्वयं भगवान श्री कृष्ण जी ने कहा,महीनो में मैं पवित्र महीना मार्गशीर्ष हूँ। अतः मार्गशीर्ष या अगहन माह अति पावन माह है। मार्गशीर्ष माह की पूर्णिमा को मार्गशीर्ष पूर्णिमा मनाई जाती है। धार्मिक मान्यता है की कार्तिक पूर्णिमा की तरह मार्गशीर्ष पूर्णिमा का भी विशेष महत्व है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन अनेक पवित्र स्थानो जैसे हरिद्वार, बनारस,  मथुरा आदि जगह पर लोग पवित्र नदियों, सरोवर में आस्था की डुबकी लगाते है। मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन स्नान-दान से  अमोघ फल प्राप्त होता है। भगवान श्री कृष्ण जी के अनुसार, इस माह प्रतिदिन स्नान -दान पूजा पाठ करने से भक्तो के पाप कटते है  एवं भक्त की सारी मनोकामनाएँ पूर्ण होती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस पवित्र दिन में अगर कुछ आसान उपाय किए जाएं तो परिवार में हमेशा सुख-सम
शनिवार को सूर्यास्त के समय करें ये उपाय, दूर हो जाएगा बुरा समय

शनिवार को सूर्यास्त के समय करें ये उपाय, दूर हो जाएगा बुरा समय

Religion
हम सभी के लाइफ में बुरा वक्त आता है जब सभी को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। हमारे ज्योतिष में कुछ ऐसी बाते बताई गयी है जिससे ये बुरा समय टल सकता है और दूर भी हो सकता है। कुछ लोगो का मनना है कि बुरे वक्त के लिए शनिदेव जिम्मेदार होते है जो हमारे पापों का दण्ड देते है। जिसे कुछ लोग साढ़े साती भी कहते है इसलिए बुरे वक्त के दौरान शनि देव की पूजा करनी चाहिए। जिससे बुरा समय दूर हो सके और हमारे पापों का नाश हो सके। ज्योतिष के अनुसार शनिदेव की कृपा पाने के लिए शनिवार श्रेष्ठ दिन माना गया  है। शनिवार के दिन किए गए उपायों और पूजा अर्चना से शनि के दोष शांत हो जाते है और बुरा समय भी दूर हो जाता है। बहुत सारे लोगो की मान्यता है कि हनुमान जी के भक्तों को शनि के अशुभ फलों से मुक्ति मिलती है। यही कारण है जिसके चलते कई लोग शनिवार को हनुमान जी की पूजा करते है। तो आइए आज हम आपको बताते शनिवार को
कार्तिक पूर्णिमा: स्नान से लेकर रात तक करे ये काम, लक्ष्मी प्रसन्न होकर बरसाएंगी धन

कार्तिक पूर्णिमा: स्नान से लेकर रात तक करे ये काम, लक्ष्मी प्रसन्न होकर बरसाएंगी धन

Religion
हिन्दू धर्म में पूर्णिमा  का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष 12 पूर्णिमाएं होती हैं।जिसमे कार्तिक पूर्णिमा का शास्त्रों में बहुत अधिक महत्व दिया गया है |इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा 4 नवम्बर यानि की शनिवार को मनाई जाएगी | ऐसी मान्यता है की जो भी व्यक्ति कार्तिक पूर्णिमा के दिन पुरे विधि विधान से गंगा स्नान  कर पूजा अर्चना करता है उसका जीवन सुख संपत्ति एवं धन धन्य से भर जाता है और उसे संसार की हर विपदा से मुक्ति मिल जाती है | यह भी पढ़ें: आज शनिवार के दिन बन रहा है ये खास संयोग, बुरा समय टालने के लिए कर सकतेे हैं ये उपाय कार्तिक पूर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा या गंगा स्नान के नाम से भी जाना जाता है। इस पुर्णिमा को त्रिपुरी पूर्णिमा की संज्ञा इसलिए दी गई है क्योंकि आज के दिन ही भगवान भोलेनाथ ने त्रिपुरासुर नामक महाभयानक असुर का अंत किया था और वे त्रिपुरारी के रूप में पूजित