Tag: today

नवग्रह का चाहते हैं साथ तो आज ही करें ये काम

नवग्रह का चाहते हैं साथ तो आज ही करें ये काम

Religion
आज का दिन वैशाख माह के कृष्णपक्ष की चतुर्दशी पर रेवती नक्षत्र चतुष्पादकरण व वैधृति योग है| शास्त्रो के अनुसार कृष्णपक्ष की चतुर्दशी तिथि महादेव को समर्पित हैं| इस योग में महादेव के मातंग रुद्रावतार का पूजन श्रेष्ठ रहेगा| शिव जी का मातंग रुद्रवतार का शारीरिक वर्ण गहरे हरे-नीले रंग का हैं| ये अपने मस्तक पर अर्ध चन्द्र धारण करते हैं| शिव जी का ये स्वरूप भी तीन नेत्रों से युक्त हैं| इस बात को शास्त्रो में बताया गया हैं की मातंग रुद्रावतार को शवासन पर विराजमान बताया गया हैं| मातंग रुद्रावतार गुंजा के बीजों की माला धारण करते हैं| इनका प्रिय रंग लाल हैं| इसके साथ ही इंका शारीरिक गठन एक नवयुवक की भांति मनमोहक हैं| इस रूप में वे त्रिशूल, नर कंकाल, खड़ग व अभय मुद्रा धरण करते हैं| यह भी पड़े : सारे अधूरे काम हो जाएंगे पूरे, बस कर लें ये आसान-सा उपाय महादेव को उनके मातंग रुद्रावतार में इन्हें पशु-
आज मौनी अमावस्या के दिन गंगा में डुबकी लगाने का है विशेष महत्व

आज मौनी अमावस्या के दिन गंगा में डुबकी लगाने का है विशेष महत्व

Religion
माघ मेले के सबसे महत्वपूर्ण स्नान पर्व मौनी अमावस्या पर करीब डेढ़ करोड़ श्रद्धालु गंगा और यमुना के पवित्र संगम में आज डुबकी लगा रहे हैं। आपको बताना चाहेंगे की मौनी अमावस्या का स्नान संगम और आसपास के 19 घाटों पर हो रहा है जो आज सोमवार की शाम तक चलेगा। वैसे देखा जाए तो माघ मास का हर दिन पवित्र माना जाता है मगर इस महीने में मौनी अमावस्या का महासंयोग काफी विशेष महत्व है। बता दे की अमावस्या का दिन सोमवार होने की वजह से मौनी व सोमवती अमावस्या का यह महासंयोग और भी भाग्यशाली हो गया है। तीन-चार साल में एक बार ही मौनी व सोमवती अमावस्या का यह महासंयोग होता है। बताना चाहेंगे की अगर यह स्नान सोमवार को पङता है तो इसका महत्व कई गुना बढ़ जाता है। मौनी अमावस्या के दिन भगवान विष्णु और शिव की पूजा की जाती हैं, स्वयं भगवान ने इस बात का उल्लेख किया है कि भगवान शिव और विष्णु वास्तव में एक ही है जिन्हाेंने