Tag: result

जानें आखिर बच्चों के लिए कितने खतरनाक साबित हो रहे हैं इतने ज्यादा नंबर, आगे बढ़ना है तो अंधी दौड़ में न भागें

जानें आखिर बच्चों के लिए कितने खतरनाक साबित हो रहे हैं इतने ज्यादा नंबर, आगे बढ़ना है तो अंधी दौड़ में न भागें

Interesting, News
29 मई 2018 दिन मंगलवार को सीबीएससी के 10वीं बोर्ड के रिजल्ट आ गए हैं। इसमें से 1,31,493 स्टूडेंट्स को 90% से ज्यादा तो 27,476 स्टूडेंट्स को 95% से ज्यादा नंबर आए हैं। वहीं पर रिजल्ट आने के तुरंत बाद उम्मीद से कम नंबर आने पर तीन बच्चों ने सुसाइड कर लिया। रिजल्ट आने के बाद इस तरह की घटनाएँ होती  हैं| सवाल उठता हैं की आखिर सीबीएसई बोर्ड के एग्जाम में स्टूडेंट्स को इतने नंबर क्यों मिल रहे हैं? नंबरों की इस भागम-भाग वाली प्रतिस्पर्धा ने हमारे पूरे शिक्षा नीति पर सवाल खड़े कर दिए है। इस सवाल को लेकर सीबीएसई के पूर्व चेयरमैन अशोक गांगुली, एनसीईआरटी के पूर्व डायरेक्टर व शिक्षाविद् जेएस राजपूत, सीबीएसई में काउंसलर एंड साइकोलॉजिस्ट डॉ. शिखा रस्तोगी और शिक्षा क्षेत्र से जुड़े अन्य जानकार लोगों और टीचर्स ने इस बात पर क्या कहा आइए जानते हैं... नंबर्स की बाढ़ से बढ़ेंगी ये 3 प्रॉब्लम (1) अनावश्
UPSC 2017 : जानें सिविल सेवा परीक्षा के टॉपर दुरिशेट्टी अनुदीप और अनु कुमारी का सक्सेस मंत्र

UPSC 2017 : जानें सिविल सेवा परीक्षा के टॉपर दुरिशेट्टी अनुदीप और अनु कुमारी का सक्सेस मंत्र

News
जैसा की हम सभी जानते है की हमारे देश में सरकारी नौकरी पाने की सभी मे काफी ललक होती है और सभी छात्र-छात्राएँ इसके लिए काफी मेहनत से तैयारी भी करते है। बता दें की अभी संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की सिविल सेवा परीक्षा-2017 का परिणाम घोषित कर दिया गया है जिसमे भारतीय राजस्व सेवा अधिकारी दुरिशेट्टी अनुदीप ने देश में पहला स्थान प्राप्त कर परिकसा में टॉप किया है और इस तरह से देखा जाए तो लगातार पिछले तीन वर्षों से लगातार महिला अभ्यर्थियों के इस प्रतिष्ठित परीक्षा में टॉप करने का सिलसिला भी टूट गया। यह भी पढ़ें : बड़ी खबर: सरकार ने लिया फैसला, चंडीगढ़ बनने वाला है सौर ऊर्जा पर निर्भर रहने वाला देश का पहला शहर जानकारी के लिए बता दें की जून महीने में हुई इस परीक्षा के अंतिम नतीजे आज घोषित कर दिये गए हैं जिसमे अनु कुमारी और सचिन गुप्ता को क्रमश: दूसरी और तीसरी रैंक मिली है। अपनी सफलता का श्रेय उन सभ
अब XXX नहीं बल्कि दिन-रात इस वेबसाइट पर लगे रहते हैं भारतीय

अब XXX नहीं बल्कि दिन-रात इस वेबसाइट पर लगे रहते हैं भारतीय

Interesting, OffBeat
आज के इस टाइम में इंटरनेट एक ऐसा माध्यम बन चूका है जिसके जरिये हमारी जिंदगी काफी सुलभ बन गयी है और हमे देश और दुनिया में घटित होने वाली हर घटना की जानकारी तुरंत मिल जाती है और सबसे बड़ी बात इसके जरिये हम आपने ज्ञान को भी विकसित कर सकते हैं क्योंकि इसमें देश और दुनिया से जुडी तमाम तरह की जानकारी हमे आसानी से प्राप्त हो जाती है जिन्हें पहले हम किताबो में घंटों सर्च किया करते थे वो अब केवल एक सर्च के जरिये हमे प्राप्त हो जाता है इसीलिए आज के समय में इन्टरनेट एक ज्ञान का भंडार है  जिसको यदि आपने इस्तेमाल करना सीख लिया है तो यह आपके लिए काफी महत्वपूर्ण चीज साबित हो सकता है और यही कारण है कि इंटरनेट आज इतनी इज्जत से देखा जाता है। यह भी पढ़े :बड़ी खबर: अब पूरे 8 महीने तक जियो ग्राहकों को मिल रहा है फ्री इंटरनेट यह बात तो बिलकुल सही है की इन्टरनेट हमारे लिए हर तरह से लाभदायक है लेकिन कहा जाता ह
अगर आप भी जलाते है LED बल्ब तो आपके लिए ये खबर पढ़ना है जरूरी,  हुआ है चौंका देने वाला खुलासा

अगर आप भी जलाते है LED बल्ब तो आपके लिए ये खबर पढ़ना है जरूरी, हुआ है चौंका देने वाला खुलासा

Business, News
एल.ई.डी. जिसका पूरा नाम "लाइट-एमिटिंग डायोड" है, एक सफेद रंग का बल्ब होता है। जैसा की हम जानते है एलईडी बल्ब काफी लंबे वक्त तक चलता है और बिजली की कम खपत करता है साथ ही यह अन्य बल्ब्स की तुलना में कई गुना बेहतर और सक्षम होता है। एलईडी बल्ब बहुत अच्छी रोशनी देते हैं और इन्हें जलने में ट्यूबलाइट जितना वक्त नहीं लगता है। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिजली के बिल को कम करने के लिए एल.ई.डी. बल्ब लगाने की सलाह दी है। एल.ई.डी. बल्ब लगाने से बिजली की खपत कम होगी और ऊर्जा बचेगी। मगर क्या आप जानते हैं एक सर्वेक्षण के दौरान ये पाया गया है कि घरेलु बाजार में बिकने वाले 76 फीसदी एलईडी बल्ब सुरक्षा मानकों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। देश की जानी मानी सर्वेक्षण ऐजेंसी नीलसन के द्वारा तैयार की गई इस रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि भारत में अधिकतर नकली और सुरक्षा के लिहाज से खतरनाक एलईडी बल्ब