Saturday, February 24

Tag: religious

101 साल बाद बन रहा हैं ऐसा महासंयोग, होली के पहले इन 6 राशियों के भाग्य खोलेंगे शनिदेव

101 साल बाद बन रहा हैं ऐसा महासंयोग, होली के पहले इन 6 राशियों के भाग्य खोलेंगे शनिदेव

Religion
हिन्दू धर्म में ज्योतिष का एक महत्वपूर्ण स्थान है। हिन्दू धर्म में कोई भी शुभ कार्य ज्योतिष के द्वारा पंचांग शुद्धि देखकर शुभ मुहूर्त में किया जाता है क्योकि लोगो की मान्यता है कि ज्योतिष में ग्रह-नक्षत्रों की दशा देखकर किसी भी शुभ मुहूर्त में किया गया कोई भी कार्य सफल होता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार हर साल ग्रहों की स्थिति में कुछ ना कुछ परिवर्तन होते ही रहते हैं। जब इन ग्रहों की स्थितियां बदलती हैं तो इसका सीधा असर राशियों पर पड़ता हैं। ग्रहों के इन्ही परिवर्तन के चलते इस वर्ष 2 मार्च को यानि होली वाले दिन एक अदभुत संयोग बन रहा हैं। ज्योतिष के अनुसार ऐसा अदभुत संयोग पुरे 101 वर्षों के बन रहा है। इससे पहले ख़ास महूर्त वाली होली आज से करीब 101 साल पहले बनी थी। होली एक ऐसा त्योहार है, जो हमारे देश में सबसे अनोखा और प्रिय त्योहार है। इस दिन पूरा देश रंगों में डूब जाता हैं। इस दिन को हिन
2 मार्च को होली पर बन रहा है विशेष संयोग, इन 5 राशि के लोगों को होगा भारी धन लाभ

2 मार्च को होली पर बन रहा है विशेष संयोग, इन 5 राशि के लोगों को होगा भारी धन लाभ

Interesting, Religion
जल्द ही रंगों का त्योहार होली आने ही वाला है, जिसका हम सभी को बेसबरी से इंतजार रहता है। इस दिन सभी लोग काफी उत्साह और उमंग के संग यह पर्व मनाते है। यही एक ऐसा त्योहार है, जो सभी भारतीय को बहुत प्रिय है। जैसा की हम सभी जानते है कि इस साल यह पर्व मार्च महीने के शुरुआत के दिनों में ही पड़ रहा है। ऐसे में ज्योतिष की माने तो इस बार की होली पांच राशियों के लिए बेहद खास रहने वाली है, जो उनके जीवन को खुशियों के रंगों से भर देगी। क्योंकि ज्योतिष के अनुसार होली के पर्व पर ऐसा महासंयोग बन रहा है, जिसके चलते पांच राशियों पर कुबेर धन की वर्षा होगी। यह भी पढ़े :- 15 दिनों के अंदर ही एक बार फिर लगेगा ग्रहण, इन 7 राशियों की बदलेगी किस्मत और 5 को होगा भयंकर नुकसान शास्त्रों की माने तो हर महीने के सभी दिनो में सभी राशियां अपना गृह परिवर्तन करते है और होली के दिन भी सभी राशियां अपना गृह परिवर्तन करेंगे।
14 फरवरी को इन 6 राशियों को मिल जायेगा प्यार, जानें क्या कहती है आपकी राशि

14 फरवरी को इन 6 राशियों को मिल जायेगा प्यार, जानें क्या कहती है आपकी राशि

Lifestyle, Religion
जिसे एक बार किसी से प्यार हो जाता है, तो वह उससे एक पल की भी दुरी सहन नहीं कर पाते है। प्यार में इतनी सच्चाई होनी चाहिए कि कपल एक-दुसरे की भावनाओं को बिन बोले ही समझ लें। लेकिन आज के दौरे समय में ऐसा प्यार देखने को बहुत मिलता है। आज कल के लोगो के लिए प्यार के मायने ही बदल चुके है। जहाँ सच्चे प्यार में लोग सात जन्मों का साथ और साथ जीने मरने के वादे निभाते है, वहीँ आज के यूथ के लिए यह सिर्फ साथ में बिताये हुए कुछ लम्हे जैसा हो गया है। प्यार एक ऐसा एहसास है जो हर कोई महसूस करना चाहता है। वो लोग बहुत ही खुशनसीब होते हैं, जिन्हें उनकी जिंदगी में सच्चा प्यार नसीब होता है नहीं तो अक्सर लोग प्यार में धोखा ही खाते है। अगर एक बार प्यार में धोखा मिल जाये तो दुबारा किसी के प्यार पर यकीन कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। लेकिन इस बार 14 फरवरी को 6 राशि वाले लोगों को उनका सच्चा प्यार मिलने वाला है। तो
इस राशि वाले लोग होते हैं भगवान शिव के सबसे “करीब”, जानिए कौन कौन सी है वो राशि

इस राशि वाले लोग होते हैं भगवान शिव के सबसे “करीब”, जानिए कौन कौन सी है वो राशि

Religion
यह तो आप भी जानते है कि ज्योतिष में 12 राशियाँ होती है और हर राशि का अपना एक अलग जातक होता है। ज्योतिष के अनुसार हमारें जीवन में होने वाली सभी घटनाएं इन्ही राशियों के द्वारा पता लगायी जा सकती है, जो घटनाएं ग्रहों की दशा व चाल पर निर्भर करती है। आप अपने आस यह तो देखते ही होगे कि हिन्दू धर्म के लोग ज्योतिष पर काफी विश्वास रखते है और किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले वो ज्योतिषाचार्य से परामर्श जरुर लेते है, ताकि उन्हें आगे चलकर कम से कम परेशानियों का सामना करना पड़े। हम अपने जीवन को आनन्दमय व शान्तिमय बनाये रखने के लिए प्रतिदिन ईश्वर की पूजा करते है। लेकिन हमारे समाज में काफी लोग ऐसे भी होते है, जो विशेष रूप से अपने ऊपर भगवान की कृपा बनाये रखना चाहते है, जिससे उनकी मनोकामनाएँ पूरी हो सके। भगवान की विशेष कृपा पाने के लिए ये लोग अथक प्रयास भी करते है, जो कभी-कभी सफल नहीं हो पाते है। ऐसे लोग
31 जनवरी को है खग्रास चंद्रग्रहण इन 4 राशि वालों की लगने वाली है लॉटरी

31 जनवरी को है खग्रास चंद्रग्रहण इन 4 राशि वालों की लगने वाली है लॉटरी

Religion
इस नए साल का सबसे पहला और सबसे बड़ा चंद्रग्रहण 31 जनवरी 2018 को बुधवार के दिन हो रहा है। यह चंद्रग्रहण माघ पूर्णिमा के दिन सायंकाल से पुरे भारतवर्ष में दिखाई देगा। इस ग्रहण की शुरुवात शाम 05 बजकर 18 मिनट से होगा। तो वहीँ इस ग्रहण की समाप्ति रात को 08 बजकर 42 मिनट पर होगा। इस चन्द्रग्रहण की कुल अवधि 03 घंटे 24 मिनट तक होगी। ग्रस्तोदय होने के कारण इस ग्रहण का सूतक 12 घंटे पूर्व यानि सुबह पांच बजे से ग्रहण का सूतक प्रारम्भ हो जाएगा। यह ग्रहण पुष्य-अश्लेषा नक्षत्र और कर्क राशि में होगा। इस कारण जिन लोगो जन्म कर्क राशि या कर्क लग्न में हुआ है। उन लोगो के लिए यह ग्रहण काफी कष्टकारी होगा। लेकिन वहीँ कुछ ऐसी भी राशियां है, जिस राशि के जातको को इस ग्रहण का काफी लाभ मिल सकता है। तो चलिए हम आपको बताते है कि आखिर वो कौन-कौन सी राशियां है, जिन पर खग्रास चंद्रग्रहण का काफी बुरा प्रभाव रहेगा और वो कौन-
जन्म से ही शापित होते हैं ये लोग, चैन की जीना तो दूर सांस लेना भी हो जाता है दुश्वार

जन्म से ही शापित होते हैं ये लोग, चैन की जीना तो दूर सांस लेना भी हो जाता है दुश्वार

Religion
क्या आपने कभी ऐसे व्यक्ति को देखा है, जो हमेशा किसी न किसी वजह से डाट सुनता रहता है। कभी कुछ अच्छा करने जाये तो उसके साथ बुरा ही होता है। जी हाँ, ऐसे कई लोग होते है जिनकी वजह से उनका ही नही उनके आस पास के लोगो का भी बुरा होता है। कुछ लोग इन्हें शापित व ऐसे ही अन्य नामो से बुलाते है। कभी कभी शापित लोगो की उनके आस-पास के लोग कुटाई भी कर देते है। ऐसा मानना है कि शापों की वजह से उस व्यक्ति की कभी प्रगति नही हो पाती है और ना ही उसके पुरुषार्थ की। इनके संतानों ज्यदा उम्र तक जीवित नही रह पाते है ऐसी ही और भी काफी बाते कही जाती है।      इनके बुरे प्रभावों के कारण इनकी शापित कुंडलियां होती है। ज्योतिष में इन शापित कुंडलियों में त्रिशूल योग के आधार पर कालसर्प योग बताया है। इन कुंडलियों में राहु अष्टम स्थान में और केतु द्वितीय स्थान में हो तो ज्योतिष के अनुशार ऐसी स्थिति में ‘कालसर्प योग’ बने त
आज मौनी अमावस्या के दिन गंगा में डुबकी लगाने का है विशेष महत्व

आज मौनी अमावस्या के दिन गंगा में डुबकी लगाने का है विशेष महत्व

Religion
माघ मेले के सबसे महत्वपूर्ण स्नान पर्व मौनी अमावस्या पर करीब डेढ़ करोड़ श्रद्धालु गंगा और यमुना के पवित्र संगम में आज डुबकी लगा रहे हैं। आपको बताना चाहेंगे की मौनी अमावस्या का स्नान संगम और आसपास के 19 घाटों पर हो रहा है जो आज सोमवार की शाम तक चलेगा। वैसे देखा जाए तो माघ मास का हर दिन पवित्र माना जाता है मगर इस महीने में मौनी अमावस्या का महासंयोग काफी विशेष महत्व है। बता दे की अमावस्या का दिन सोमवार होने की वजह से मौनी व सोमवती अमावस्या का यह महासंयोग और भी भाग्यशाली हो गया है। तीन-चार साल में एक बार ही मौनी व सोमवती अमावस्या का यह महासंयोग होता है। बताना चाहेंगे की अगर यह स्नान सोमवार को पङता है तो इसका महत्व कई गुना बढ़ जाता है। मौनी अमावस्या के दिन भगवान विष्णु और शिव की पूजा की जाती हैं, स्वयं भगवान ने इस बात का उल्लेख किया है कि भगवान शिव और विष्णु वास्तव में एक ही है जिन्हाेंने