Tag: religiion

अगर आपको भी बार-बार सहना पड़ता है अपमान, तो रविवार के दिन जरूर करें ये उपाय

अगर आपको भी बार-बार सहना पड़ता है अपमान, तो रविवार के दिन जरूर करें ये उपाय

Religion
इस धरती पर आने के बाद हम जो भी कार्य करते है भला या बुरा उसका परिणाम हमे इसी जीवन में भोगना पड़ता है। यदि कोई अच्छा काम करता है तो उसे अपने जीवन में सफलता मिलता है और वहीँ कोई बुरा काम करता है तो उसे अपने जीवन में कई कष्टों का सामना करना पड़ता है। लेकिन कभी कभी कुछ लोगो के साथ ऐसा होता है कि अच्छे काम व कड़ी मेहनत करने के बावजूद भी उन्हें समाज से वो मान, सम्मान व प्रतिष्ठा नहीं मिलती है जो उन्हें मिलना चाहिए। यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा ही होता है तो आज हम आपके लिए कुछ उपाय लेकर आये है, जिन्हें करके आप अपने बुरे कर्मों से मुक्ति और अपने मेहनत के अनुरूप ही समाज में सम्मान प्राप्त कर सकते है। यह उपाय आपको रविवार के दिन करना है, जिससे आपके ऊपर सूर्य देव की कृपा बन सके। तो चलिए आपको बताते है रविवार के कुछ ऐसे उपाय जिनसे आपको समाज में मान-सम्मान व प्रतिष्ठता मिलेगी। यह भी पढ़े : रविवार को करेंगे ये
शरीर के किस अंग पर काला धागा बांधने से क्‍या होता है, आइए विस्‍तार से जानेंं

शरीर के किस अंग पर काला धागा बांधने से क्‍या होता है, आइए विस्‍तार से जानेंं

Interesting, Religion
कुछ लोगो को आपने काला धागा पहने हुए तो देखा ही होगा। कुछ लोग काले धागे को गले में, तो कुछ लोग हाथ में और कुछ लोग पैर में भी पहनते है। लेकिन आपने यह कभी सोचा है कि आखिर लोग काले धागे क्यों पहनते है? शायद आपने यह कभी सोचा नहीं होगा। वैसे अगर देखा जाए तो काला रंग नाकारात्मक उर्जा उत्पन्न करता है, जिसके कारण किसी भी शुभ कार्य में काला धागा या काले रंग के कपडे का प्रयोग करना वर्जित है। लेकिन हम आपको यह बता दें कि काले रंग का धागा यदि आप अपने शरीर पर धारण करते है तो इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह किसी भी प्रकार की उर्जा को आपके शरीर से बाहर नहीं निकलने देती है। यह भी पढ़े :- आखिरकार मिल ही गया पीएम मोदी के हाथ में बंधे इस “काले धागे” का राज, आप भी जानें जी हां, ज्योतिष की माने तो काले रंग का धागा बांधने के पीछे काफी राज होते हैं लेकिन वैज्ञानिक रूप से भी काले रंग के धागे को बांधना काफी फा
इस राशि वाले लोग होते हैं भगवान शिव के सबसे “करीब”, जानिए कौन कौन सी है वो राशि

इस राशि वाले लोग होते हैं भगवान शिव के सबसे “करीब”, जानिए कौन कौन सी है वो राशि

Religion
यह तो आप भी जानते है कि ज्योतिष में 12 राशियाँ होती है और हर राशि का अपना एक अलग जातक होता है। ज्योतिष के अनुसार हमारें जीवन में होने वाली सभी घटनाएं इन्ही राशियों के द्वारा पता लगायी जा सकती है, जो घटनाएं ग्रहों की दशा व चाल पर निर्भर करती है। आप अपने आस यह तो देखते ही होगे कि हिन्दू धर्म के लोग ज्योतिष पर काफी विश्वास रखते है और किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले वो ज्योतिषाचार्य से परामर्श जरुर लेते है, ताकि उन्हें आगे चलकर कम से कम परेशानियों का सामना करना पड़े। हम अपने जीवन को आनन्दमय व शान्तिमय बनाये रखने के लिए प्रतिदिन ईश्वर की पूजा करते है। लेकिन हमारे समाज में काफी लोग ऐसे भी होते है, जो विशेष रूप से अपने ऊपर भगवान की कृपा बनाये रखना चाहते है, जिससे उनकी मनोकामनाएँ पूरी हो सके। भगवान की विशेष कृपा पाने के लिए ये लोग अथक प्रयास भी करते है, जो कभी-कभी सफल नहीं हो पाते है। ऐसे लोग
अपनी राशि के अनुसार चुने उस रंग का पर्स, आपके लिए होगा शुभ

अपनी राशि के अनुसार चुने उस रंग का पर्स, आपके लिए होगा शुभ

Interesting, Religion
आजकल महिलाऐं अपने कपड़ो के रंग से मिलती-जुलती ही कोई भी चीज खरीदना पसंद करती हैं। ऐसे में वो अपने कपड़ो से मैचिंग करती हुई पर्स भी खरीद लेती है लेकिन क्या आप यह जानती है कि ज्योतिष के अनुसार इन पर्सो का रंगो आपके जीवन में काफी गहरा प्रभाव पड़ता है। ज्योतिषशास्त्र की माने तो हमारे जीवन में हर चीज़ अपना एक अलग महत्व रखती है। ऐसे में आपको यह जानना काफी जरुरी हो जाता है कि आपको किस रंग के पर्स रखना शुभ होगा, जिससे आपको कभी धन की कमी नहीं हो और इसके साथ ही आपकी आमदनी अच्छी हो जाए। यह भी पढ़े:-पुरुष भी घुटने टेक देते है इन तीन राशि वाली महिलाओं के आगे, जानें कहीं आपकी राशि भी तो इनमें से एक नहीं तो चलिए आज हम आपको यह बताते हैं कि आपको अपनी राशि के अनुसार किस रंग के पर्स रखना चाहिए- मेष, सिंह और धनु राशि – इन राशि की लड़कियों को लाल या नारंगी रंग का पर्स रखना शुभ होता है। यदि आप इस रंग के पर्स र
मकर संक्रांति के दिन दान करें ये 5 चीजें, कंगाल भी बन जाएंगे मालामाल

मकर संक्रांति के दिन दान करें ये 5 चीजें, कंगाल भी बन जाएंगे मालामाल

Religion
हर साल जब पोष मास में सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता हैं, तो मकर संक्रांति का त्यौहार मनाया जाता हैं, जो इस वर्ष 14 जनवरी 2018 को मनाया जाएगा। यदि आप ध्यान दे तो आपको यह पता चलेगा कि हिन्दू धर्म के इस पर्व को छोड़कर अन्य पर्वो के लिए कोई भी तारीख पहले से निश्चित नहीं होती लेकिन यह पर्व हर साल 14 जनवरी को ही मनायी जाती हैं। ये पर्व हिन्दू धर्म के लिए बहुत ही खास हैं, इस दिन दान-दक्षिणा का काफी महत्व भी होता है। इस ख़ास दिन यदि आप चाहे तो अपनी कंगाली को भी ख़त्म कर सकते हैं। जी हाँ, इस दिन आप कुछ विशेष चीजों को दान करके धन लाभ पा सकते हैं तो चलिए आज हम आपको बताते है, वो 5 चीजें जिन्हें यदि आप दान करें तो आपको काफी धन लाभ मिलेगा। तिल:- मकर संक्रांति के दिन तिल का बहुत ज्यादा महत्व होता हैं। इस दिन कई महिलाऐं अपने घर में तिल के बने व्यंजन बनाती हैं और बाजारों में भी तिल के लड्डू और गज़क की क
शास्‍त्रों के अनुसार, अगर इस दिन पति-पत्नी बनाते हैं संबंध तो जन्‍म लेगा किन्‍नर

शास्‍त्रों के अनुसार, अगर इस दिन पति-पत्नी बनाते हैं संबंध तो जन्‍म लेगा किन्‍नर

Religion
यदि हम अपने समाज में देखे तो स्‍त्री व पुरूष को छोड़कर एक और अन्य भी वर्ग है, जो ना ही पुरूष है और ना ही स्‍त्री जिन्हें हमारा समाज किन्‍नर के नाम से जानता है। हम सभी के मन में कहीं न कहीं यह जानने कि इच्छा होती है कि किन्‍नरों का जन्‍म क्‍यों और कैसे होता है? जिस प्रश्न का उत्तर विज्ञान के पास भी नहीं है लेकिन आज हम आपको इस प्रश्न का उत्तर बताने वाले है जो हमारे हिन्दू शास्त्रों में बताया गया है। हमारे शास्त्रों में हर व्यक्ति के जन्‍म से लेकर उसकी मृत्यु तक की सभी बातों का उल्लेख होता है। वहीँ शास्‍त्रों में कुछ ऐसे राज छुपे हुए है, जिसे बहुत से लोग नहीं जानते हैं। यह भी उन्हीं में से एक रहस्य है। हमारे शास्त्रों के गर्भ उपनिषद में इस बारे में पुरी बात बताई गयी है, जिसमें स्त्री-पुरुष के संबंध, माँ के गर्भ में शिशु का जन्म, शि
सोमवार को है ये खास तिथि, चाहते हैं अपनी किस्मत चमकाना तो इन 5 में से जरूर करेें एक उपाय

सोमवार को है ये खास तिथि, चाहते हैं अपनी किस्मत चमकाना तो इन 5 में से जरूर करेें एक उपाय

Religion
हम सभी के जीवन में कुछ क्षण ऐसे होते है, जो काफी सुखदायक होते है वहीँ कुछ ऐसे भी क्षण भी होते जो काफी कष्टकारी होते है। यह जीवन का एक क्रम है, जो हम सभी के जीवन में जरुर आता है, हम सभी के जीवन में उतराव चढाव होते ही रहते है लेकिन आप इन कष्टों को कुछ उपायों द्वारा दूर जरुर कर सकते है। पहले हम आपको यह बता दे कि यह सोमवार काफी खास है क्योकि 18 दिसम्बर को पौष मास की अमावस्या का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन स्नान का विशेष महत्व मना गया है और साथ ही दान-पुण्य और पूजा-पाठ करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। अमावस्या के दिन किये गये धार्मिक कार्यों का फल बहुत जल्दी मिलता है और देवी-देवता भी अति शीघ्र प्रसन्न हो जाते है। 18 दिसम्बर को दिन सोमवार पड़ने के कारण यह अमावस्या ‘सोमवती अमावस्या’ कहलाती है। तो चलिए आपको बतातें है, इस दिन किन-किन उपायों को करके आप देवी-देवताओं को अति शीघ्र प्रसन्न कर