Monday, January 22

Tag: child

घर में दो नन्ही बच्चियों के पास लगाया था रूम हीटर, कुछ देर बाद आकर देखा तो…

घर में दो नन्ही बच्चियों के पास लगाया था रूम हीटर, कुछ देर बाद आकर देखा तो…

News, OffBeat
आज हम आपको एक ऐसी खबर से रूबरू कराने जा रहे है, जिसे जानने के बाद आप की रूह कांप जाएँगी। जैसा कि आप जानते ही है कि आज कल सर्दियों का मौसम चल रहा है जिसके चलते आपको हर घर में ठंड से बचाव करने के लिए हीटर का प्रयोग आम तौर पर देखने को मिल ही जाएगा। लेकिन आज जो हम आपके लिए खबर लाए है वो हीटर से ही जुड़ा हुआ है। यह खबर उत्तर प्रदेश में एटा के अलीगंज की है, जहाँ एक तीन मंजिला इमारत में आग लग गई और जिसमें पांच महीने की दो मासूम जुड़वां बच्चियां जल कर राख हो गईं। आस पास के लोगो का कहना है कि बच्चियों के बिस्तर पर रूम हीटर लगा हुआ था, जिससे आग लग गई और आग ने भयानक रूप लेकर दोनों बच्चियों की जिंदगी छीन ली। आपको हम बता दे कि इस आग में लगभग 6 लोग फंस गए थे, जिनको स्थानीय लोगों ने बाद में बचा लिया था। दोनों मासूम बच्चियां पांच महीने की और जुड़वां थी। जैसा कि नए साल की सभी खुशियाँ सभी मना रहे थ
जानें आखिर हिन्दू धर्म में क्यों किया जाता है नवजात शिशु का मुंडन, क्‍या है इसके पीछे का रहस्‍य

जानें आखिर हिन्दू धर्म में क्यों किया जाता है नवजात शिशु का मुंडन, क्‍या है इसके पीछे का रहस्‍य

Religion
सदियों से हिन्दू धर्म को परम्पराओ से भरा हुआ धर्म माना जाता है और इस धर्म में व्यक्ति के जन्म से लेकर मृत्यु तक तमाम तरह की परम्पराओ का पालन करना पड़ता है। उन्ही परम्पराओ में से एक है व्यक्ति के जन्म के कुछ समय बाद में मुंडन संस्कार की परंपरा, जो बेहद अहम मानी जाती है। सदियों से चली आ रही इस परंपरा को पहले हमारे पूर्वज मानते थे और अब हम मानते है। करीब-करीब हर हिन्दू परिवार इस परंपरा का वर्षों से पालन करता आ रहा है, शायद इसलिए भी क्योंकि हमारे जीवन में इनका अपना विशेष महत्व रहा है। शास्त्रों के अनुसार मुंडन संस्कार में शिशु के सिर के सारे बाल उतारे जाते हैं, जिसे हिन्दुओं में बहुत ही पवित्र संस्कार माना जाता है। अक्सर इस तरह के संस्कारों को निभाने के लिए एक विशेष मुहूर्त का होना अनिवार्य होता है। बताना चाहेंगे की हिन्दू धर्म में इसे चूड़ाकर्म संस्कार भी कहा जाता है, क्योंकि अगर आपने