योगी के सीएम बनते ही लखनऊ के मशहूर ‘टुंडे कबाबी’ पर मंडराने लगा खतरा

यूपी में योगी सरकार आने के बाद अवैध बूचड़खाने बंद कराने का काम जोर-शोर से चल रहा है, जिसके चलते मीट और बीफ की सप्लाई में भारी गिरावट आ गई है। इस वजह से लखनऊ की मशहूर ‘टुंडे कबाबी’ दुकान 110 सालों में पहली बार बुधवार को बंद रही। माल खत्म होने के कारण बंद हुई दुकान की वजह से इस दुकान के कबाब पसंद करने वालों को मायूसी हाथ लगी। हालांकि कुछ समय के बाद दुकान फिर से खुल गई।

 

टुंडे कबाबी के मालिक अबू बकर ने गुरुवार को कहा, ‘बूचड़खाने बंद होने की वजह से मटन और भैंसे के मीट की जबरदस्त कमी हो गई है, जिसकी वजह से मेरी दुकान पर अब सिर्फ चिकन ही बिक रहा है।’

हालांकि लखनऊ की इस मशहूर दुकान के मालिक ने यह भी कहा कि अवैध बूचड़खानों को बंद करने का सीएम का फैसला बहुत अच्छा है, लेकिन उन्होंने सीएम से अनुरोध किया कि वह लीगल और लाइसेंस वाले बूचड़खानों पर पाबंदी न लगाएं।

1905 में लखनऊ के अकबरी गेट इलाके में शुरू हुई इस दुकान का कबाब और पराठा पूरी दुनिया में मशहूर है। लेकिन भैंसे के मीट की कमी की वजह से अब इस दुकान पर चिकन के कबाब ही मिल रहे हैं। दुकान के एक कर्मचारी ने कहा कि अगर ऐसी ही हालत रही तो शायद इस दुकान को बंद भी करना पड़े।

Share this on

Leave a Reply