तस्वीरों में देखें कैसे मुंबई 1993 धमाकों की याद दिलाते हैं श्रीलंका के ये बम धमाके

साल 2019 ने मानवता को हिला कर रख दिया है, एक के बाद एक हो रहे आतंकवादी हमले ये दर्शाते है कि कुछ लोगो में इंसानियत किस हद तक ख़तम हो चुकी है। इस साल की शुरुआत से ही आतंकी हमलों ने सभी को दहला कर रखा है, अभी 4 महीने ही बीते हैं और 3 बड़े आतंकवादी हमले दुनिया देख चुकी है। फरवरी में भारत ने आतंकी हमले में जवानों को खोया फिर मार्च में न्यूजीलैण्ड में मस्जिद में हमले में सैकड़ों लोग मारे गए और अब श्रीलंका में हुए बम धमाकों में भी भारी संख्या में लोगो की मौत हुई।

21 अप्रैल 2019 की दर्दनाक यादें श्रीलंका के लोगो के दिलों शायद ही कभी निकल पाएंगी। वे लोग जिन्होंने अपने किसी परिवार के सदस्य को खोया है उनके लिए तो यह काला दिन है। श्रीलंका में 21 अप्रैल की सुबह ईस्टर के दिन लोगो को आतंक निशाना बनाया गया, जब लोग त्यौहार मानाने की तैयारी कर रहे थे। हमले उद्देश्य ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को निशाना बनाना था और उसे इसी तरह प्लान किया गया था।

श्रीलंका में पहला बम धमाका सुबह 8 बजे चर्च में किया गया उसके बाद 8:45 तक 6 और सिलसिलेवार धमाके हुए जिसके बाद एक धमाके को समय रहते रोक लिया गया। इन धमकों में ईसाईयों को नेगोमबो और बत्तीकोला में ईस्टर संडे चर्च सेवाओं और कोलोंबो के तीन लक्जरी होटलों में रुके हुए लोगो को निशाना बनाया गया । इस हमले में मरे हुए लोगो की संख्या 310 पहुँच चुकी है और 500 से अधिक घायल हुए हैं , किसी भी समूह ने अभी तक हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन श्रीलंकाई अधिकारियों ने कहा है कि इन हमलों के पीछे एक छोटे-से कट्टरपंथी इस्लामी समूह नेशनल थोहेथ जमाथ का हाथ है।

श्रीलंका में हुए इस दर्दनाक आतंकी हमले ने भारत में हुए 1993 बम धमाकों की याद दिला दी, कुछ चीज़ें ऐसी हुयी इन दोनों घटनाओं में जो समानता दर्शाती हैं।

  1.  मुंबई और श्रीलंका में किये गए दोनों बम धमाके सिलसिलवार थे। उस दिन मुंबई में 12 सिलसिलेवार बम धमाकों हुए थे और श्रीलंका में 8 बेम धमाके हुए हैं और 9वें बेम धमाके को रोक लिया गया जब कोलंबो के अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से एक IED को डिफ्यूज किया गया.
  2. मुंबई बम धमाकों में पहला ब्लास्ट 1.30 बजे बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में किया गया था और अंतिम ब्लास्ट 3.40 मिनट पर हुआ था और उसी तरह श्रीलंका में भी सुबह 8 बजे से लेकर 8.45 तक 6 धमाके हो चुके थे और दो बेम धमको को दोहपर 3 बजे के आस-पास किया गया।
  3. मुंबई धमाकों में घायलों की संख्या 700 से अधिक लोग घायल थे और लगभग 307 लोगों की मौत हुयी थी और श्रीलंका धमाकों में घायलों की संख्या 500 का आंकड़ा पार कर गई है और अब तक 310 लोगो की मौत दर्ज करी जा चुकी है।
  4. मुंबई बम धमाकों में तीन होटलों को निशाना बनाया गया था, होटल सी-रॉक, होटल जूहू सेन्टॉर और होटल एयरपोर्ट सेन्टॉर और ठीक इसी तरह श्रीलंका हमले में भी तीन होटल शांग्री-ला, सिनामोन ग्रैंड और किंग्सबरी को निशाना बनाया गया।
  5. श्रीलंका में हुए बम धमाकों को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में हुई मुसलमानों की हत्या का बदला माना जा रहा है और मन जा रहा चर्च को निशाना चुनने के पीछे यही वजह थी और इसी तरह मुंबई में हुए बम धमाकों को गुजरात दंगों में मुसलमानों की हत्या का बदला माना गया था।
Share this on