Thursday, December 14

यही है वो शेरनी जिसने राम रहीम के समर्थकों को धूल चटाया, सलाम है ऐसी नारी शक्ति को

सिरसा डेरे के प्रमुख राम रहीम को 25 अगस्त को जैसे ही बलात्कार के केस में दोषी करार दिया गया वैसे ही डेरे के डेरा समर्थकों ने उत्पात मचाना शुरू कर दिया। इस पंचकूला हिंसा के दौरान हरियाणा पुलिस की मर्दाना छवि सभी देशवासियों के समक्ष स्पष्ट रूप से प्रदर्शित हुई क्योंकि सिरसा डेरा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम की सजा के बाद शहर के स्थानीय संरक्षक अपनी पीठ दिखाने वाले पहले सुरक्षाकर्मी ही थे।

प्रदेश में दंगे के दौरान 2009 बैच की आईएएस अधिकारी पंचकूला की उपायुक्त “गौरी पराशर जोशी” ने स्वयं घटनास्थल पर पहुँचकर स्थिति का ब्यौरा लिया। वहीं पुलिसकर्मी आंदोलनकारियों को शांत करने की कोशिश कर रहे थे परंतु जवाब में आंदोलनकारी लाठी व पत्थरों की सहायता से पुलिसकर्मियों को हानि पहुँचाकर आगे बढ़ने लगे।

जैसे-जैसे हिंसा बढ़ती गई, अकेले पीएसओ के साथ खड़ी महज 11-माह से बनी मां “गोरी पराशर जोशी” के चोट लगने के साथ कपड़े तक फट गए लेकिन वो जरा भी नहीं डरी। वह अपने कार्यालय में गई तथा स्थिति को स्थिर अवस्था में लाने के लिए सेना को आदेश दिया कि कहीं यह आंदोलनकारी एक विशालरूप न धारण कर ले और स्थिति बद से बदतर न हो जाए।

पंचकूला के स्थानीय निवासी का कहना है कि अगर उस दिन सेना को समय पर निर्देश नही मिलता तो आवासीय क्षेत्र में अभूतपूर्व विनाश होता। पिछले कुछ दिनों से स्थानीय लोग पुलिस की चाय और बिस्कुट के साथ सेवा कर रहे थे, परंतु जब डेरे के अनुयायियों ने उत्पात मचाना प्रारंभ किया तो सबसे पहले स्थानीय पुलिस ही दबे पाँव मैदान छोड़ कर भाग गई। मगर गोरी पराशर ने इस दौरान हिम्मत का परिचय दिया।

सुश्री गौरी पराशर जोशी ने शहर के हर जगह और कोने में स्वयं यह देखते हुए कि दंगे के बाद सब जगह स्थिति नियंत्रण में है, तब उन्होंने घर जाने का फैसला लिया। उस रात वह 3 बजे अपने घर पहुँची। बता दें कि उन्होंने ओडिशा के कालाहांडी के नक्सल प्रभावित जिले में काम किया हुआ है और उनके पति बालाजी जोशी भी एक नामी अधिकारी हैं। शायद उसी तजुर्बे की वजह से उन्हें हरियाणा के इस मामले से निपटने में मदद मिली हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: