12 दिसंबर से SBI बंद कर रहा अपनी एक और सर्विस, करोड़ो ग्राहकों पर पड़ेगा असर

अभी कुछ दिनों से बैंकिंग क्षेत्र में काफी कुछ परिवर्तन देखने को मिल रहा है, बता दें की अभी कुछ ही दिनों पहले ही देश की सबसे बड़ी बैंकिंग इकाई SBI यानी की स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने बैंक कि चार सेवाएं बंद कर दी थीं और अब ऐसा सुनने में आ रहा है की इसके बाद अब फिर से एसबीआई ने एक और बदलाव ला कर लोगों को सतर्क कर दिया है। ध्यान देने वाली बात ये है की ये बदलाव इसी साल 12 दिसंबर से ही लागू होने जा रहा है। जी हाँ, इसी वर्ष के आखिरी महीने यानी की दिसम्बर में ही ये बदलाव होने वाले है और ऐसे में देखना ये है की इन बदलाव का आम जनता पर कितना असर पड़ेगा।

 

अन्य बैंकों में 1 जनवरी से लागू होगा नियम

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस बदलाव का असर उन लोगों पर पड़ेगा जो लोग बैंक में ट्रांजैक्शन के लिए चेक का इस्तेमाल करते हैं।वैसे फिलहाल जैसा की बताया जा रहा है देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने इस नियम को लागू करने के लिए एक निश्चित समय दे दिया है जबकि अन्य सभी बैंकों में ये नियम नए वर्ष से लागू ओ सकते हैं। SBIकी तरफ से ये निर्देश मिली है कि 12 दिसंबर से ही नॉन CTS चेक को मान्य नहीं माना जाएगा। दिए गए समय के बाद से केवल CTS वाले चेक ही मान्य होंगे। इसके अलावा किसी दूसरे बैंको में यह नियम 1 जनवरी 2019 से लागू होने की सूचना मिल रही है।

 

 

यह भी पढ़ें : HDFC बैंक: ज्वाइंट होम लोन के होते हैं कई सारे जबरदस्‍त फायदे, जानकर आपको भी नहीं होगा यकीन

RBI ने तीन महीने पहले दिया निर्देश

इस नियम को लागू करने की सूचना आरबीआई ने तीन महीने पहले ही दे दी थी। SBI ने अपने ग्राहकों को मैसेज के जरिए सूचना पहुंचाना शुरू कर दिया है। मैसेज के द्वारा एसबीआई अपने ग्राहकों से ये अपील कर रही है कि वे अपना पुराना चेक बुक जमा कर नया चेक बुक जारी करवा लें। चेक ट्रांजैक्शन सिस्टम के तहत जो हम चेक बुक का प्रयोग करते हैं उसकी इलेक्ट्रॉनिक इमेज ले ली जाती है और फिजिकल चेक के क्लियर करने के लिए कहीं और भेजने कि कोई आवश्यकता नहीं होती है।

खर्च में कमी आएगी

इस नियम के लागू हो जाने से आपको चेक ले कर खुद जाने की कोई जरूरत नहीं तथा इसके साथ ही साथ चेक के क्लीयरेंस में भी बहुत कम समय लगेंगे। इसमें आपके समय के साथ साथ पैसे का भी खर्चा कम हो जाता है। आरबीआई ने बैंकों को पहले से निर्देश से दिया था कि वे सिर्फ CTS -2010 स्टैंडर्ड चेक वाली ही चेकबुक जारी करें।

Share this on