Monday, January 22

Religion

इस वजह से होता है किन्नरों का जन्म, जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

इस वजह से होता है किन्नरों का जन्म, जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

Interesting, Religion
प्रकृत‌ि में नर नारी के अलावा एक अन्य वर्ग भी है जो न तो पूरी तरह नर होता है और न नारी। जिसे लोग हिजड़ा या किन्नर या फिर ट्रांसजेंडर के नाम से संबोधित करते हैं। जी हां हिजड़ा जिसके बारे में जानने की उत्सुकता हमेशा से लोगों के जेहन में रहती है। आपको शायद पता नहा हो कि किन्नरों का जननांग जन्म से लेकर मृत्यु परांत एक जैसा ही रहता है। यूं कहें कि इनके जननांग कभी विकसित नहीं होते। किन्नरों के अंदर एक अलग गुण पाए जाते हैं। इनमे पुरुष और स्त्री दोनों के गुण एक साथ पाए जाते हैं। आज हम आपको बताएँगे किन्नरों के जन्म से जुड़े कई सवाल उठते है हमारे दिमाग में, क्या मकसद होता है इनके जन्म का। आपने गौर किया होगा की जब भी हमारे घर के आस पास कोई ख़ुशी का माहौल होता है तो अक्सर किन्नर जुट जाते है। ऐसा खासतौर पर तब ज्यादा होता है जब किसी के घर में बच्चा पैदा होता है। इस तरह के जश्न में वे ढेर सारे दुवाओं औ
शाम के समय भूल से भी ना करें ये 5 काम आती है दरिद्रता

शाम के समय भूल से भी ना करें ये 5 काम आती है दरिद्रता

Religion
शाम के वक्त भूलसे भी ना करे ये 5 काम दरिद्रता आती है। शास्त्रार्थ में ये काम शाम के समय नहीं करने चाहिए। शास्त्रों में बताये हुए ऐसे पांच कामों के बारे में बताने जा रहा हुॅँ जिन्हें श्याम के वक्त नहीं करना चाहिए ऐसा करने पर दरिद्र आता है। भोजन करना शाम के समय कभी भोजन नहीं करना चाहिए,इसे शास्‍त्रों की दृष्टी में गलत मन गया है, ऐसा करने से धन का नाश हो सकता है और इस समय भोजन करने पर आपका पेट भी खराब हो सकता है। अगर आपको बहोत भूख लगी हो तो आप फल आहार ले सकते है। झाड़ू मारना शाम के समय झाड़ू कभी नहीं चलाना चाहिए, इससे घरकी सारी सकारात्मक उर्जा बाहर चली जाती है और इस कारण से घर में दरिद्रता आ सकती है। शाम के समय अच्‍छे मन से लक्ष्‍मी जी की पूजा करनी चाहिए, इससे धन की प्राप्ति होती है इसीलिए ध्यान रखे शाम होने से पहले ही घर को अच्‍छे तरह से साफ़ करले। प्रेम संबंध शास्त्रों के
इस जगह रखेंगे नमक की पोटली तो रातों रात बन जाएंगे करोड़पति

इस जगह रखेंगे नमक की पोटली तो रातों रात बन जाएंगे करोड़पति

Religion
नमक का इस्तेमाल ज‌िस तरह से खाने को लजीज बना देता है उसी तरह नमक अपके जीवन को भी मजेदार बना सकता है, ऐसा वास्‍तु व‌िज्ञान का मत है। वास्तु व‌िज्ञान के अनुसार नमक में गजब की शक्त‌ि होती है जो न स‌िर्फ आपके घर को सकारात्मक ऊर्जा से भर देती है बल्क‌ि आपके घर में सुख समृद्ध‌ि भी बढ़ाने का काम करती है। लेक‌िन इसके ल‌िए स‌िर्फ खाने में नमक नहीं कई दूसरे कामों में भी नमक का प्रयोग करना होगा। हम आपको बताने जा रहे हैं नमक के उपाय जो आपके घर की नकारात्‍मक ऊर्जा को नष्‍ट कर मालामाल कर देंगे। डली वाला नमक लाल रंग के कपड़े में बांधकर घर के मुख्य द्वार पर लटकाने से घर में किसी बुरी ताकत का प्रवेश नहीं होता है। कारोबर में उन्नति के लिए अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर और तिजोरी के ऊपर लटकाना लाभप्रद माना गया है।  यह भी पढ़ें: अपनी लम्बाई का धागा लेकर चुपचाप करें ये उपाय फिर होगा गजब
अपनी लम्बाई का धागा लेकर चुपचाप करें ये उपाय फिर होगा गजब का चमत्‍कार

अपनी लम्बाई का धागा लेकर चुपचाप करें ये उपाय फिर होगा गजब का चमत्‍कार

Religion
हिन्दू धर्म में शनि देव को मनुष्यों के कर्मो का दंड देने वाले न्यायाधीश कहा जाता हैं। वे सभी मनुष्य के अच्छे और बुरे कर्मो का फल देते हैं। अगर आपको शनि दोष हैं और आप शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं? तो आज हम आपको शनी देव को मनाने के लिए ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं, जिन्हें अपनाने पर शनि देव आप पर प्रसन्न हो जायेंगे और आपके आपके जीवन से दुःख, कलेश, असफलता आदि को दूर करेंगे और अपनी कृपा आप पर बरसाएंगे। शनिदेव के प्रसन्‍न होने से आपका जीवन सफल हो जाएगा। तो आइए जानते हैं उन उपायों को अगर आप शनि को प्रसन्न करना चाहते हैं तो शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष के नीचे दीपक जलाएं और दोनों हाथों से पीपल के पेड़ को स्‍पर्श करें। इस दौरान पीपल के पेड़ की परिक्रमा करें और शनि मंत्र 'ऊं शं शनैश्‍चराय नम:' का जाप करते रहना चाहिए, यह आपकी साढ़ेसाती की सभी परेशानियों को दूर ले जाता ह
स्त्री के पूरे जीवनचक्र का बिम्ब है नवदुर्गा के नौ स्वरूप

स्त्री के पूरे जीवनचक्र का बिम्ब है नवदुर्गा के नौ स्वरूप

Religion
नवरात्रि शुरु हो गई है। इस दौरान मां दुर्गा के नौ रुपों की पूजा की जाती है। देवी दुर्गा के नौ रूप हैं शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंधमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री। इन नौ रातों में तीन देवी पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के नौ रुपों की पूजा होती है जिन्हें नवदुर्गा कहते हैं। नवदुर्गा के नौ स्वरूप स्त्री के जीवनचक्र को दर्शाते है।     1. जन्म ग्रहण करती हुई कन्या "शैलपुत्री" स्वरूप है। 2. स्त्री का कौमार्य अवस्था तक "ब्रह्मचारिणी" का रूप है। 3. विवाह से पूर्व तक चंद्रमा के समान निर्मल होने से वह "चंद्रघंटा" समान है। 4. नए जीव को जन्म देने के लिए गर्भ धारण करने पर वह "कूष्मांडा" स्वरूप में है। 5. संतान को जन्म देने के बाद वही स्त्री "स्कन्दमाता" हो जाती है। 6. संयम व साधना को धारण करने वाली स्त्री "कात्यायनी" रूप है। 7. अपने
किसी से मनचाहा काम लेने में कारगर हैं ये चमत्कारी जड़ी-बूटियां

किसी से मनचाहा काम लेने में कारगर हैं ये चमत्कारी जड़ी-बूटियां

Religion
भारत में अति प्राचीन काल में तंत्र-मंत्र तथा यंत्र विद्या से सम्मोहित करने की कला का आविष्कार कर लिया गया था। लेकिन इस विधा को जब सालों बाद यूरोप ने वैज्ञानिक रूप दिया तो यह माना जाने लगा कि यूरोप ही इस विद्या का जन्मदाता है। माना जाता है कि दुनिया में इस विधा की जानकारी भले ही यूरोप के माध्यम से हुई हो, लेकिन इसका मूल प्रेरणास्त्रोत भारत ही रहा है। इसके अलावा किसी के मन पर अपना असर छोड़ने के लिए वशीकरण का इस्तेमाल किया जाता है। किंतु लोगों को वशीकरण और सम्मोहन को एक मानने की भूल नहीं करनी चाहिए क्योंकि दोनों में मूलभूत फ़र्क हैं। वशीकरण की मदद से एक इंसान दूसरे इंसान को अपने वश में कर लेता है यानी कि उसके तन, मन, बुद्धि और शरीर पर पूरा नियंत्रण पा लेता है। परंतु वशीकरण और सम्मोहन में एक अंतर है जो इन्हें एक-दूसरे से भिन्न बनाता है। दरअसल वशीकरण केवल तंत्र-मंत्र-यंत्र की मदद से ही किया
यदि घर के इस दिशा में होगा तुलसी का पौधा तो छा जाती है कंगाली

यदि घर के इस दिशा में होगा तुलसी का पौधा तो छा जाती है कंगाली

Religion
वैसे तो इस दुनिया में हर व्यक्ति यही चाहता है की उसके पास ढेर सारा पैसा हो ऐशो आराम की जिंदगी हो और शायद ही इस दुनिया में कोई ऐसा व्यक्ति हो जो धन दौलत की इक्षा ना रखता हो और इसीलिए धन प्राप्ति के लिए लोग हर संभव प्रयास करते हैं |आमतौर पर लोग धन प्राप्ति के लिए शास्त्रीय उपायों का सहारा लेते हैं लेकिन आज हम आपको इन उपायों से हटकर कुछ अन्य उपायों के बारे में बताने वाले हैं जिसे करके आप अपने जीवन में धन की प्राप्ति कर सकते है साथ ही आपकी बंद किस्मत भी इन उप्यों के करने से खुल जाएगी जैसा की हम जानते है की प्रकृति ने हमारे जीवन को सुगम और सरल बनाने के लिए हमे अनगिनत चीजे दी है जिसके उपयोग से हम अपने जीवन को काफी सुखमय बना सकते जैसे की जड़ी बूटियाँ, खनन, धातुओं, पेड़ पौधे आदि बहुत सी चीजे जो हमारे जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है और ये हमारे जीवन के कई समस्याओ से भी हमे आजादी दिला सकती है जैस
बदरीनाथ धाम में उगे चमत्कारिक पौधे, वैज्ञानिक भी देखकर हैं हैरान

बदरीनाथ धाम में उगे चमत्कारिक पौधे, वैज्ञानिक भी देखकर हैं हैरान

Religion
जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों से जड़ी-बूटियों के संरक्षण के लिए तैयार किए जा रहे डाटा बेस के तहत पहली बार विज्ञानियों ने बदरी तुलसी पर परीक्षण किया। इस देसी हिमालयी जड़ी के अंदर जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने की अद्भुत क्षमता पाई गई। वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआई) की इकोलॉजी, जलवायु परिवर्तन तथा फॉरेस्ट इन्फ्सुएंस डिवीजन ने अपने ओपन शीर्ष चैंबर में इस पर परीक्षण किया। इसमें पाया गया कि, सामान्य तुलसी और अन्य पौधों से इसमें कार्बन सोखने की क्षमता 12 प्रतिशत अधिक है। तापमान अधिक बढ़ने पर इसकी क्षमता 22 प्रतिशत और बढ़ जाएगी। इसका पौधा 5-6 फीट लंबा हो जाता है। पौधे एक कै नोपी की शक्ल बना लेते हैं, जिससे यह अधिक कार्बन सोख लेती है। चारधाम आने वाले सैलानी और श्रद्धालु बदरी तुलसी को प्रसाद के रूप में अपने घर ले जाते हैं। क्षेत्रीय लोगों ने इसे भगवान बदरी विशाल को समर्पित कर दिया है। कोई भी
भगवान करें किसी के हाथ में न हो ऐसी रेखा, कहीं आपके हाथ में तो नहीं

भगवान करें किसी के हाथ में न हो ऐसी रेखा, कहीं आपके हाथ में तो नहीं

Religion
हमारे ज्योतिष शास्त्र की कई शाखाऐ है, जिनके द्वारा हम विभिन्न प्रकार के तरीकों से अपने भविष्य के बारे में पता लगा सकते है। ज्योतिष शास्त्र में लोगो का भविष्य जानने के लिए एक ‘हस्तरेखा शास्त्र’ का निर्माण किया गया है, जिसके द्वारा हम अपने हाथ की रेखाओं को देखकर हम अपने भविष्य के बारे में पता लगा सकते है। हमारे हथेली में कई प्रकार की रेखाएं होती हैं, जो ज्योतिष के अनुशार हमारे भाग्य, जीवन और विवाह जैसी आदि प्रमुख जानकारी का पूर्व संकेत देती हैं। इसके साथ ही साथ हथेली पर कुछ शुभ और अशुभ चिह्न भी होते है। हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हमारी हथेली पर ऐसे कई निशान होते हैं, जो छोटी छोटी रेखाओं के मिलने या टकराने से बनते हैं। इनमें कुछ निशान हमें शुभ फल प्रदान करते हैं तो वहीँ कुछ बेहद अशुभ होते हैं। यह भी पढ़ें : आपके हाथो की रेखाएं बताएँगी आपकी सरकारी नौकरी की सम्भावनायेँ ‘एम’ अक्षर का निश
ये चीजें जल्‍दी किसी को नहीं देती किन्‍नर अगर मिल जाए तो समझ जाएं खुल गई आपकी किस्‍मत

ये चीजें जल्‍दी किसी को नहीं देती किन्‍नर अगर मिल जाए तो समझ जाएं खुल गई आपकी किस्‍मत

Religion
आज के समय में हर कोई पैसा चाहता है अमीर, गरीब, बच्चा, बूढ़ा या जवान सभी पैसों से अपनी मुठ्ठी भरी रखना चाहते हैं। हर कोई चाहता है कि उसका पर्स हमेशा पैसों से भरा रहे और कभी खाली न हो। लेकिन कई बार ऐसे हालात आ जाते हैं कि आपका पर्स खाली हो जाता है या महीने के आखिरी में आपको पैसों की तंगी का सामना करना पड़ता है। अगर आप सभी चाहते हैं कि आपके साथ ऐसा न हो तो आप इन बातों का जरूर ध्यान रखें। इससे आपका पर्स हमेशा पैसों से भरा रहेगा। ऐसी मान्यता है कि किन्नर को किया गया दान अक्षय पुण्य देता है, इनकी दुआएं व्यक्ति को हर विपत्ति से बचाती है। यदि आप पैसों की समस्याओं से मुक्ति चाहते हैं तो आप किसी भी किन्नर से उसकी मर्ज़ी से मात्र एक रुपया मांग लीजिये, अगर वो अपनी खुशी से आपको सिक्का देता है तो यह आपके लिए बहुत ही सौभाग्य की बता होगी। बताया जाता है की उस सिक्के को हरे कपड़े में लपेट कर अपने पर्