PNG का प्रयोग करने वाले लोगों को मिल सकता है सब्सिडी का तोहफा, सरकार ने की तैयारी

सरकार रसोई गैस और किरोसीन तेल पर सब्सिडी दिया करती थी। इसके बाद अब केंद्र सरकार ने पीएनजी कनेक्शन धारकों को भी सब्सिडी देने का विचार किया है। इसका नीति प्रस्ताव तैयार हो चुका है अब केवल लागू करना बाकी है और इसके लिए भी काफी जल्दी ही घोषणा हो जाएगी। आइए जानते हैं कि कैसे लोगों को इससे फायदा होने वाला है।

सभी को मिलेगा फायदा

अगर बात करें फायदे कि तो रसोई गैस और किरोसीन के मुकाबले पाईप नेचुरल गैस काफी सस्ती होती है तो आप इसका उपयोग कर फायदे में रह सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सरकार अभी इन पर हो रहे खर्चों का आकलन कर रही है।पिछले ही साल नीति आयोग की तरफ से पेट्रोलियम मंत्रालय में ये लिखित दिया गया था कि रसोई में जिस भी प्रकार की ईंधन इस्तेमाल कि जा रही है उस पर सब्सिडी देने के बारे में एक बार विचार किया जाए। फिलहाल केंद्र सरकार केवल किरोसीन और एलपीजी गैस पर ही सब्सिडी देती है।

यह भी पढ़ें-‘हज सब्सिडी’ खत्‍म करने के बावजूद पीएम मोदी की तारीफ कर रह हैं मुस्‍लमान, जानें क्‍यों

24500 करोड़ की सब्सिडी

केंद्र सरकार ने 2018 से 2019 तक में एलपीजी पर 20 हजार करोड़ रुपए और किरोसीन तेल पर 4500 करोड़ रुपए की सब्सिडी देने का प्रावधान बताया था। नए प्रस्ताव के लागू हो जाने के बाद लोगों को सब्सिडी का पैसा उनके खाते में दिया जाएगा। नीति आयोग का ये विचार है कि जहां सरकार अलग अलग ईंधन पर सब्सिडी दे रही है वहीं उन्हें एक ही सब्सिडी देने पर विचार करना चाहिए।

छोटे शहरों व गांवों में पहुंचेगा पीएनजी का दायरा

नीति आयोग के अनुसार टियर दो , तिन और बड़े गांवों के लोगों को भी पीएनजी का फायदा मिलना चाहिए। फिलहाल एलपीजी गैस का उपयोग करने वाले लोगों को 14.2 किलो का सिलिंडर बाज़ार के भाव पर मिल रहा है। साल में 12 सिलिंडरों के उपयोग पर सरकार उनके बैंक खाते में सब्सिडी ट्रांसफर कर देती है। अगर आप इससे ज्यादा सिलिंडर लेते हैं तो आपको बाज़ार के भाव पर ही पैसे खर्च कर सिलिंडर लेने पड़ते हैं।

Share this on