Thursday, December 14

भगवान करें किसी के हाथ में न हो ऐसी रेखा, कहीं आपके हाथ में तो नहीं

ज्योतिष शास्त्र की विभिन्न शाखाओं में एक ‘हस्तरेखा शास्त्र’ हमें हाथ की रेखाओं का ज्ञान बताता है। इसके माध्यम से हाथ की रेखाओं को पढ़कर भविष्य के संकेत जाने जा सकते हैं। हथेली में कई प्रकार की रेखाएं होती हैं जिनमें भाग्य रेखा, हृदय रेखा, जीवन रेखा, विवाह की रेखा आदि प्रमुख हैं। इसके अलावा हथेली पर कुछ शुभ-अशुभ चिह्न भी होते है।

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हमारी हथेली पर ऐसे कई निशान होते हैं जो छोटी-छोटी रेखाओं के मिलने या टकराने से बनते हैं। इनमें कुछ निशान हमें शुभ फल प्रदान करते हैं, किंतु कुछ बेहद अशुभ होते हैं।

यह भी पढ़ें : आपके हाथो की रेखाएं बताएँगी आपकी सरकारी नौकरी की सम्भावनायेँ

‘एम’ अक्षर का निशान या ‘स्टार’ और कुछ खास स्थितियों में ‘चक्र’ का निशान जहां हथेली के कुछ शुभ निशानों में माने जाते हैं, वहीं कुछ ऐसे निशान भी हैं जो हर परिस्थिति में बेहद अशुभ स्थितियां लाते हैं। आज हम आपको हथेली के एक ऐसे अशुभ निशान ‘क्रॉस’ के बारे में बताने जा रहे हैं।

कई बार दो रेखाएं जब आकर एक-दूजे के साथ कटती हैं, तब यह निशान बनता है। यूं तो हमारे हाथ में अनगिनत रेखाएं होती हैं जो क्रॉस का निशान बनाती हैं, लेकिन असल में अशुभ क्रॉस निशान कौन सा है और किस स्थान पर बनता है, आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे।

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली पर बना क्रॉस का निशान मुसीबत, निराशा, खतरा और कभी-कभी जीवन में संकट का संकेत देता है। क्रॉस के लक्षण विभिन्न पर्वतों और रेखाओं की स्थिति पर निर्भर करते हैं।

यह भी पढ़ें : अगर आपकी उंगलियों का भी हो जाता है ऐसा हाल तो एक बार जरूर पढ़ लें ये खबर

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सिकंदर महान के हाथों में इस तरह के चिन्ह देखे गए थे। सिकंदर की हथेली के अलावा यह चिन्ह शायद ही किसी की हथेली में पाया गया। अनुमान लगाया गया है कि दुनियाभर में केवल 3 प्रतिशत लोगों के हाथों में ये चिन्ह पाया जा सकता है। जिन व्यक्तियों के दोनों हाथों में ये रेखाएं होती हैं वे बड़े काम करने वाले प्रसिद्ध व्यक्ति होते हैं। ये उन लोगों में से होते हैं जिन्हें मरने के बाद भी याद किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: