पद्मावती को मिल गई हरी झंडी, लेकिन लीड रोल ही हो गया OUT

रजवाड़े इतिहास पर आधारित संजय लीला भंसाली निर्मित फिल्म पद्मावती जो की तीखे विवादों की वजह अटकी पड़ी थी अब उसके रिलीज का रास्ता फिलहाल साफ हो गया है। हालांकि रिलीज से पहले सेन्सर बोर्ड ने फिल्म निर्माता के सामने कुछ शर्तें रखी है जिन्हे मानना एक तरह से अनिवार्य है। बताया जा रहा है की सेंसर बोर्ड ने सीबीएफसी रिव्यू कमेटी और एडवाइजरी पैनल की आपत्तियों को मानते हुए फिल्म को UA सर्टिफिकेट देने का फैसला किया है मगर आपको बता दे की फिलहाल अभी तक भंसाली की तरफ से इसे लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। बता दे की सुनने में आ रह है की सेंसर बोर्ड के इस फैसले के बाद फिल्म के 25 से ज्यादा सीन हटाने के लिए कहा है।

जानकारों के अनुसार बताना चाहेंगे की फिल्म निर्माता यदि सेंसर बोर्ड के दिये गए सुझावों के मुताबिक फिल्म में जरूरी बदलाव करते हैं तो फिल्म को रिलीज के लिए पास कर दिया जाएगा। हालांकि इसी बीच यह भी खबर आ रही है की फिल्म का नाम पद्मावती से बदलकर पद्मावत कर दिया जाएगा। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि फिल्म में गाना घूमर और डिस्क्लेमर में भी कुछ बदलाव होने के संकेत है। आपको बता दे की अभी तक इस सब की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पायी है, मगर अनुयान लगाया जा रहा है की जितनी भी बातें सुनने मे आ रही है वो सभी सैट प्रतिशीत सही है।

यह भी पढ़ें : पद्मावती फिल्म की तीन सबसे बड़ी गलतियाँ, जिसकी वजह से हो रहा है इतना बवाल

बताना चाहेंगे की 28 दिसंबर को सेंसर बोर्ड की हुई बैठक में इस फिल्म के बारें में काफी चर्चा हुई जिसके बाद तय किया गया कि फिल्म को UA सर्टिफिकेट दिया जाएगा साथ ही आवश्यक बदलाव भी किया जाएगा ताकि लंबे समय से विवादों में चली रही फिल्म को रीलीज़ किया जा सके। इस बैठक में सेंसर बोर्ड के चीफ प्रसून जोशी, इतिहासकार अरविंद सिंह, डॉ. चंद्रमणि सिंह और डॉ. के के सिंह मौजूद थे।

हालांकि इसी बीच करणी सेना जो की शुरुवात से ही इस फिल्म का कडा विरोध कर रही है ने सरकार को चेतवानी तक दे डाली है की यदि यह फिल्म किसी भी हालत में रिलीज की जाती है तो उसके बाद जो भी कुछ होता है उसके लिए पूरी तरह से केवल और केवल सरकार ज़िम्मेदार होगी, और हम इस रानी पद्मावती के चरित्र को इस तरह से नहीं उछलने देंगे और फिल्म रिलीज होती है तो सीनेमाघरों की खैरियत नहीं।
Share this on

Leave a Reply