Thursday, December 14

चाहें शरीर के किसी भी हिस्‍से में हो पथरी, इस दवा के सिर्फ 15 बूंद से हमेशा के लिए हो जाएगा खत्‍म

पथरी होना आजकल एक आम समस्या बन गयी है अगर किसी को पथरी हो जाये तो उसको बहुत तकलीफ झेलनी पढ़ती है इसीलिए आज हम आपको इस पोस्ट में पथरी के इलाज के बारे में बताएँगे जो एकदम सरल और प्रभावी भी है पथरी औरतों की अपेक्षा मर्दों में तीन गुना अधिक पाई जाते है और ज़्यादातर पथरी 20 से लेकर 30 साल तक के लोगों में देखने को मिलते है। आइए जानते हैं पथरी के लक्षण क्या होते हैं और इसका इलाज कैसे संभव है। आज हम एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसके लिए न आपको हॉस्पिटल जाने की जरूरत होगी और न ही हजारों रूपए खर्च करने की क्‍योंकि पथरी का इलाज हमारे घर के आंगन में ही मौजूद है।

पेट के निचले हिस्से में आपको पथरी के लक्षण देखने को मिलते हैं मतलब टुंडी से नीचे और गुप्तांग के ठीक ऊपर के हिस्से में इसका दर्द होता है और ये दर्द कभी बहुत तेज़ होता है तो कभी धीरे धीरे और ये दर्द कभी कुछ देर के लिए होता है और कभी कभी बहुत लम्बे समय तक लगातार बन रहता है बीच बीच में इस दर्द में थोड़ी रहत भी रोगी को मिलती रहती है। पथरी के लक्षण का एक और रूप देखने को मिलता है जिसमे रोगी को उल्टी होनेकी शिकायत या जी मचलाने लगता है।

इलाज

पत्थरचट्टा यह एक प्रकार का पौधा होता है। ये पौधा गाल ब्लैडर यानी किड़नी में पथरी की समस्या को जड़ से खत्म कर देता है। इस पौधे को आयुर्वेद में भष्मपथरी, पाषाणभेद और पणपुट्टी के नाम से भी जाना जाता है। मेडिकल साइंस में इसे bryophyllum pinnatum कहा जाता है। पत्थर चट्टा का पौधा खाने में खट्टा और नमकीन होता है। यह स्वाद में भी स्वादिष्ट भी है। पत्थरचट्टा के दो पत्तों का तोड़कर उसे अच्छ से पानी में साफ कर लें। और सुबह-सुबह खाली पेट गरम पानी के साथ इसका सेवन करें। नियमित इस्तेमाल करने से थोड़े ही दिनों में पथरी टूट कर शरीर से बाहर निकल जाएगी। अगर आपको यह पौधा नहीं मिल पाता है तो आप होमियोपैथी उपचार कर सकते हैं।

होमियोपेथी इलाज

होमियोपेथी मे एक दवा है जिसका नाम है BERBERIS VULGARIS ये दवा के आगे लिखना है MOTHER TINCHER। ये उसकी पोटेंसी है। ये आपको किसी भी होमियोपेथी दुकान पर मिल जाएगी। ये दवा भी पथरचट नाम के पोधे से बनी है।

अब आपको बताते हैं कि इसका प्रयोग कैसे करें

इस दवा की 10-15 बूंदों को एक चौथाई कप गुनगुने पानी में मिलाकर दिन मे चार बार लेना है। इसे रोज एक से डेढ़ महीने तक प्रयोग करने के बाद तुरंत आपको असर समझ आने लगेगा। बता दें कि इस दवा का कोई साइड डिफ्ेक्‍ट नहीं होता।

इस दवा से शरीर के सारे Stone को पिघलाकर निकाल देता है। हम आपको बता दें कि इस दवा से 99 % मरीज डेढ़ से दो महिने के अंदर एक दम सही हो गए है। और अगर आपको जरा भी आसमंजस हो तो इस दवा के प्रयोग के दो महिने बाद आप सोनोग्राफी करवा लीजिए ताकि आपको पता चल जायेगा कितना स्‍टोन रह गया है।

अगर आपका स्‍टोन एक बार टूट के निकल गया हो और आप चाहते हैं कि ये अब कभी दोबारा न हो तो इसके लिए एक और होमियोपेथी मे दवा है जिसका नाम CHINA 1000 है। इस दवा को सीधे एक ही दिन मे तीन बार ले लीजिए फिर भविष्य मे कभी भी स्टोन नहीं बनेगा।

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: