Tuesday, December 12

निर्भया दुष्कर्म कांडः दरिंदों की फांसी पर सुप्रीमकोर्ट ने लगाई मुहर

दिल्ली ही नहीं बल्कि देश को हिला देने वाले 16 दिसंबर 2012 के दिल्ली गैंगरेप मामले में चार दोषियों की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर मुहर लगाते हुए फांसी की सजा को बरकरार रखा है। फैसले के दौरान निर्भया के माता-पिता कोर्ट में मौजूद थे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा-सेक्स और हिंसा की भूख के चलते बड़ी वारदात को अंजाम दिया। 16 दिसंबर 2012 की रात मृतक राम सिंह और उस समय नाबालिग रहे आरोपी ने चार और लोगों के साथ मिलकर चलती बस में अपने दोस्त के साथ घर जा रही युवती के साथ सामूहिक बलात्कार किया था। इतना ही नहीं बलात्कार के बाद इन वहशियों ने युवती और उसके दोस्त के साथ अमानवीय व्यवहार किया और दोनों को चलती बस से नीचे फेंक कर उन्हे कुचलने की भी कोशिश की।

16 दिसंबर 2012 की रात चलती बस में निर्भया के साथ हुए गैंगरेप मामले में आज सुप्रीम कोर्ट अपना आखिरी फैसला सुना सकती है। जानकारी के मुताबिक आपको बता दें की हाई कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप और मर्डर मामले में दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है। जिसके बाद चारों आरोपी अक्षय ठाकुर, विनय शर्मा, पवन गुप्ता और मुकेश की ओर से हाई कोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। आज सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर अपना आखिरी फैसला सुना सकती है। सुप्रीम कोर्ट में चली सुनवाई के बाद 27 मार्च को इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था। आज देश और दुनिया की जनता को  सुप्रीम कोर्ट से ये पूरी उम्मीद है कि वो दोषियों की सजा को बरकरार रखेगा।

और आपको बता दे की सुप्रीम कोर्ट ने चारों दोषियों की फांसी की सजा को रखा बरकरार का अपना अंतिम फैसला सुना दिया है।

आगे पढ़े अगले पेज पर…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: