Thursday, January 18

News

बॉलीवुड की इस मशहूर अभिनेत्री के अचानक निधन से फिल्‍म जगत में छाया सन्‍नाटा

बॉलीवुड की इस मशहूर अभिनेत्री के अचानक निधन से फिल्‍म जगत में छाया सन्‍नाटा

News
बॉलीवुड में तो जैसे शोक को लहर ही दौड़ पड़ी है जो रुकने का नाम ही नहीं ले रही है देखा जाये तो कोई ऐसा दिन नहीं जा रहा है जब बॉलीवुड से बुरी खबर सुने को ना मिले अभी एक और मौत की खबर आ गयी है |अभी हाल ही में 15  जनवरी को वेटरन एक्ट्रेस अवा मुखर्जी का देहांत हो गया है आपको याद होगा की साल 2002 में रिलीज हुई संजय लीला भंसाली की फिल्म 'देवदास' में शाहरुख खान की दादी का किरदार निभाने वाली वेटरन एक्ट्रेस अवा मुखर्जी का निधन हो गया है।अवा मुखेर्जी अपने उम्र के 88 साल में  15 जनवरी को मुंबई में अंतिम सांस ली जिसके बाद उनका निधन हो गया | आपको बता दे की अवा मुख़र्जी  ने अपना  करियर बंगाली फिल्म 'राम ढाका' से शुरू किया था ।ये फिल्म  तारु मुख़र्जी के डायरेक्शन में बनी थी और उनकी ये फिल्म 1963 में रिलीज  हुई थी |अवा मुखर्जी ने अपने करियर में कई फिल्म और टीवी सीरियल में अभिनय किया है और इसेक साथ ही अव
‘हज सब्सिडी’ खत्‍म करने के बावजूद पीएम मोदी की तारीफ कर रह हैं मुस्‍लमान, जानें क्‍यों

‘हज सब्सिडी’ खत्‍म करने के बावजूद पीएम मोदी की तारीफ कर रह हैं मुस्‍लमान, जानें क्‍यों

News
मोदी सरकार ने जहाँ नोट बंदी, जीएसटी जैसे कई बड़े व अहम फैसले लिए है, वहीँ ऐसे में उन्होंने मुसलमानों की हज यात्रा के लिए दी जाने वाली सब्सिडी को खत्म करने का अहम फैसला लिया है। मुसलमानों को हज यात्रा के लिए सरकार की ओर से हर साल लगभग 700 करोड़ रुपये खर्च किये जाते है। वहीँ सरकार का यह कहना है कि यह फैसला जो लिया गया है, वो अल्पसंख्यक वर्गो के लोगो को तुष्टिकरण के लिए नहीं किया गया है। वहीं इस फैसले पर दिल्ली के मुसलमानो का कहना है कि सब्सिडी नहीं रोजगार चाहिए। उन लोगो का कहना है कि सरकार जो पैसा बचाकर सिर्फ मुसलमान की लड़कियों के पढाई व लिखाई पर खर्च करने की बात कर रही है, वो ऐसा करने के बजाए देश की तमाम लड़कियों की बात करें नहीं तो यह तुष्टिकरण ही होगा। यह भी पढ़े:-12 वीं पास युवाओं को सरकार ने दिया इतना बड़ा तोहफा, हर महीने मिलेंगे इतने पैसे वहीँ इस मुद्दे पर जब लोगों से बात क
सप्‍ताह के इन तीन दिनों में भूल से भी ना करें ये काम वरना शनिदेव हो जाएंगे आपसे नाराज

सप्‍ताह के इन तीन दिनों में भूल से भी ना करें ये काम वरना शनिदेव हो जाएंगे आपसे नाराज

News, Religion
हिन्दू धर्म में ऐसी कई सारी मान्यताएं प्रचलित है जिनका पालन करना हमारे जीवन के लिए शुभ माना जाता है और इसी तरह से  हिन्दू धर्म में एक ऐसी मान्यता है जिसके अनुसार सप्ताह के कुछ दिन महिलाओं का बाल धोना वर्जित है और ऐसा घर के बड़े बुजुर्ग भी हमे बताते हैं। आपको बता दे मंगलवार, गुरुवार, शनिवार इन तीनों दिन स्त्रियों को बाल नहीं धोने चाहिए ऐसा कहा जाता है लेकिन आपने कभी सोचा है की क्यों इन दिनों महिलाओं को बाल धोने के लिए मनाही होती है तो आज हम आपको इसी धर्मिक कारण के बारे में बताने वाले है। सप्ताह में मंगलवार, गुरुवार, शनिवार इन तीनों दिन बालों का धोना बहुत ही अशुभ माना जाता है, ग्रहों की दृष्टि से भी इस तीन दिन में बालों का धोना होता है अशुभ शास्त्रों के अनुसार इन तीन दिन बाल धोने से आप बन सकते हैं इन तीन देवताओं के प्रकोप के पात्र। मंगलवार का दिन शास्त्रों और धार्म‌िक दृष्ट‌िकोण
गजब: कोई नहीं तोड़ पाया हनुमान जी के इस चमत्कारी मंदिर को, टूट गईं सारी जेसीबी मशीनें

गजब: कोई नहीं तोड़ पाया हनुमान जी के इस चमत्कारी मंदिर को, टूट गईं सारी जेसीबी मशीनें

News, Religion
हमारा हिंदुस्तान धार्मिक स्थलों के लिए काफी प्रचलित है और यहाँ पर एक से रहस्यमई मंदिर है जो हम सबको हैरान कर देते हैं आज हम आपको ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताने वाले है जिसकी शक्ति के बारे में जानकर आप भी दंग रह जायेंगे। आज हम आपको एक ऐसे हनुमान मंदिर के बारे में बताने वाले है जो शनल हाईवे-24 के पास मौजूद है। ये जो मंदिर है वो  दरअसल तिलहर थाना क्षेत्र के नेशनल हाईवे 24 के कचियानी खेड़ा के पास स्थित है जहाँ नेशनल हाईवे 24 पर फोर लेन बनाने का कार्य चल रहा है लेकिन  इस रोड के  बनाने के बीच मे ये मंदिर आ गया है जिसकी वजह से  कंपनी के लोग इसे तोडना चाहते थे। लेकिन उनकी ओर से जब इस मंदिर को तोड़ने के लिए मशीने मंगाई गयी तो कभी मशीन खराब हो जाती थी तो कभी जनरेटर खराब हो जाता था लेकिन ये मंदिर टूटने का नाम नहीं ले रहा था जिसे देखके वहाँ के स्थानीय लोगों के मन में इस मंदिर के प्रति और भी अ
…तो ये है शिल्‍पा शिंदे के बिगबॉस विनर बनने के पीछे की बड़ी वजह, जानें

…तो ये है शिल्‍पा शिंदे के बिगबॉस विनर बनने के पीछे की बड़ी वजह, जानें

Entertainment, News
चाहे वो किसी भी चीज़ का मंच हो विजेता तो कोई एक ही होता है|  'बिग बॉस सीजन 11'की सबसे मजबूत दावेदार शिल्पा शिंदे  विनर घोषित हो चुकी हैं। शिल्पा शिंदे आखिरकार लोगों की उम्मीदों पर खरी उतरते हुए 'बिग बॉस 11' सीजन का खिताब जीत लिया है। इस शो में कई कलाकारों ने हिस्सा लिया लेकिन  आखिर तक शिल्पा और हिना खान के बीच कड़ा मुकाबला हुआ लेकिन शिल्पा शिंदे के सिर सजा बिग बॉस 11 का ताज और  वहीं हिना खान रनर अप रहीं| जीत के ऐलान के बाद शिल्पा शिंदे को 44 लाख रूपए का चेक और एक ट्रॉफी भी दी गई| इस मौके पर शिल्पा शिंदे के चेहरे की रौनक तो देखते बन रही थी और यह देखकर हिना खान की तो आंखे तक भर आई थीं| शिल्पा ने अपनी मेहनत से 18 कंटेस्टेंट को पीछे करते हुए इस शो की विनर बनी है। आप को ये भी बता दे की शिल्पा शिंदे और हिना खान जब घर से बाहर निकल रही थीं तब हिना खान काफी भावुक हो गई थीं और शिल्पा शिंदे को तो ज
बचपन के दिनों में कुछ ऐसी दिखती थीं शिल्‍पा शिंदे, भाई बैंकर तो पापा थें जज, ऐसी है इनकी फैमिली

बचपन के दिनों में कुछ ऐसी दिखती थीं शिल्‍पा शिंदे, भाई बैंकर तो पापा थें जज, ऐसी है इनकी फैमिली

Entertainment, News
बिग बॉस सीजन 11 की विजेता शिल्पा शिंदे हो गई है, जिसके लिए उन्हें 44 लाख रुपए की धनराशि दी गयी है। बिग बॉस में शिल्पा शिंदे ने सभी बिग बॉस के घर के सदस्यों को टक्कर देते हुए उनकी आखरी हिना खान से हुई। इन दोनों के बीच हुए वोटिंग में ऑडियंस ने सबसे ज्यादा वोट शिल्पा शिंदे को दी और उन्हें बिग बॉस सीजन 11 का विनर बना दी। ऐसे में शिल्पा शिंदे फैंस और उनके उनके घर वाले उनकी इस जीत पर काफी खुश नजर आये। ऐसे में उनके जितने की ख़ुशी में सोशल मीडिया पर शिल्पा शिंदे की कुछ यंग तस्वीरें भी देखने को मिली। इन तस्वीरों को शिल्पा शिंदे के भाई आशुतोष ने लोगो के साथ शेयर की। तो चलिए आज हम आपको शिल्पा शिंदे की इन्हीं तस्वीरों को आपको दिखाते है, जो इस समय काफी तेजी से वायरल हो रही है क्योंकि इन तस्वीरों में शिल्पा को पहली नजर में ही पहचान लेना काफी मुश्किल का काम है। यह भी पढ़े :-अगर आप भी चाहती हैैं कि
हाथ में मौली का धागा बांधने से बदल जाती है किस्मत, जानें इसके वैज्ञानिक फायदे

हाथ में मौली का धागा बांधने से बदल जाती है किस्मत, जानें इसके वैज्ञानिक फायदे

News, Religion
हिन्दू  धर्म के विभिन्न संस्कारों में से एक है कलाई पर ‘मौलि’ बांधना, कच्चे सूत से तैयार किया गया  धागा कलावा और मौली आदि नामों से जाना जाता है जिसका वैदिक नाम उप मणिबंध भी है जो की किसी भी शुभ कार्य से पहले, हवन करते समय या फिर किसी विशेष पूजन के दौरान हिन्दू धर्म में कलाई पर मौलि बांधने का रिवाज़ है। यह संस्कार बेहद खास माना जाता है। इसीलिए प्रत्येक मांगलिक कार्य में इन शुभ रंगों को संजोए कलावे का प्रयोग आवश्यक माना जाता है। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि यह मौलि आखिर क्यों बांधी जाती है? इसे बांधने के पीछे क्या कारण हैं, तो आइये हम आपको बताते है मौली से जुड़ी कुछ विशेष बाते। हिन्दू शास्त्रों में मौलि बांधने का महत्व बताया गया है, जिसके अनुसार मौलि बांधने से त्रिदेवों और तीनों महादेवियों की कृपा प्राप्त होती है। ये महादेवियां इस प्रकार हैं- पहली महालक्ष्मी, जिनकी कृपा से धन-सम्पत्ति
12 वीं पास युवाओं को सरकार ने दिया इतना बड़ा तोहफा, हर महीने मिलेंगे इतने पैसे

12 वीं पास युवाओं को सरकार ने दिया इतना बड़ा तोहफा, हर महीने मिलेंगे इतने पैसे

Interesting, News
हमारे देश में जहाँ बढती जनसंख्या एक बड़ी परेशानी का कारण है, वहीँ दूसरी ओर हमारे देश में रोजगार भी सबसे बड़ी परेशानी का कारण है। हमारे देश में ऐसे कई लोग है, जो अच्छे से प्रशिक्षित होने के बावजूद उनके शिक्षा के अनुसार उन्हें रोजगार नहीं मिल पा रहा है। वह अब भी बेरोजगार घूम रहे है। ऐसे में सरकार ने 12वीं पास युवाओं को एक हजार रूपये मासिक भत्ता देना का विचार किया है। जी हाँ, माननीय मुख्यमंत्री के सात निश्चय के अंतर्गत 'आर्थिक हल युवाओं को बल' कार्यक्रम के अंतर्गत 12वीं कक्षा के पास छात्रों को जो बेरोजगार है, ऐसे युवाओं को सरकार की ओर से एक हजार रुपए प्रति माह भत्ते के तौर पर दिया जाएगा। इस सन्दर्भ में सभी बातों की जानकारी गुरुवार के दिन सदर प्रखंड के जलकौड़ा पंचायत भवन में आयोजित हुए शिविर में जिला निबंधन और परामर्श केन्द्र के सहायक प्रबंधक विद्या कुमारी के द्वारा दिया गया। बड़ी खबर : प
शास्‍त्रों में बताया गया ये छोटा सा उपाय रोज करने से घर मेंं कभी नहीं आती है गरीबी

शास्‍त्रों में बताया गया ये छोटा सा उपाय रोज करने से घर मेंं कभी नहीं आती है गरीबी

News, Religion
जब भी हम किसी देवालय में जाते हैं या किसी भी पूजा पाठ में जाते हैं तो हमे चरणामृत का प्रसाद अवश्य दिया जाता है क्योकि शास्त्रों के अनुसार सभी प्रसादों से सबसे श्रेष्ठ माना जाता है चरणामृत का प्रसाद चरणामृत का वास्तविक अर्थ होता भगवान के चरणों का अमृत और पंचामृत का अर्थ पांच अमृत यानि पांच पवित्र वस्तुओं से बना हुआ अमृत। पौराणिक मान्यताओं में ऐसे कई उदाहरण मिलते हैं। जिनमें देवताओं के चरणों से जलधाराएं प्रकट हुई हैं। ये धाराएं नदियों के रूप में धरती पर आईं और प्यास बुझाने में इनके जल का उपयोग किया गया। जल ही जीवन है, इसलिए इसे अमृत कहा गया, क्योंकि इसके पान से हम मरते नहीं।भगवान के चरण स्पर्श करने की परंपरा प्राचीन है। जिस जल से भगवान को स्नान कराया जाता है, वह जल उनकी प्रतिमा से होता हुआ चरण तक आता है और फिर नीचे बहता है। इसी जल को चरणामृत कहा जाता है यानी भगवान का स्पर्श किया हु
बड़ी खबर: प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए आ गई बड़ी खबर, तैयार रखें ये कागज वरना बाद में पछताएंगे आप

बड़ी खबर: प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए आ गई बड़ी खबर, तैयार रखें ये कागज वरना बाद में पछताएंगे आप

News
हमारे देश में ऐसे कई लोग है, जिनकी अच्छी–खासी कमाई होती है लेकिन वो टैक्स भरने में कतराते है। कई लोग ऐसे होते है, जो जान-बूझकर टैक्स नहीं भरते है या कई लोग ऐसे होते है, जो सरकार को टैक्स रिटर्न के मामले में गलत जानकारी देते हैं। कई अन्य लोग ऐसे भी है, जो टैक्स से बचने के लिए कई हथकंडे भी अपनाते हैं। अब उन लोगो के खिलाफ आयकर विभाग ने इस साल और तेजी से कड़े कदम उठाना शुरू कर दिए है। इस शुक्रवार को केंद्रीय वित्त मंत्रालय की ओर से इसके बारे में कई सूचनाएं दी गई। वित्त मंत्रालय ने कहा कि चालू वित्त वर्ष 2017-18 के पहले 8 महीने यानि अप्रैल से नवंबर 2017 के दौरान इस तरह के लोगों जो अपना टैक्स सही तरीके से नहीं भरते है, उनके खिलाफ शिकायतों में लगभग 3 गुना की बढ़ोतरी हुई है। यह भी पढ़े : जानें, क्‍या है GPS और यह कैसे करता है काम केंद्रीय वित्त मंत्रालय के अनुसार आयकर विभाग ने अप