अब यहां बन रही है दुनिया की सबसे ऊंची शिव मूर्ति, 20 KM दूर से भी कर सकेंगे दर्शन

अभी हाल ही में सरदार वल्लभ भाई पटेल की विशाल प्रतिमा का अनावरण किया गया हैं और यह प्रतिमा गुजरात में नर्मदा नदी के पट पर स्थित हैं| अब इसके बाद राजस्थान के नाथद्वारा में शिव भगवान की अद्भुत मूर्ति का निर्माण किया जा रहा हैं| ऐसा माना जा रहा हैं कि यह मूर्ति दुनिया में अपने तरह की सबसे ऊंची शिव मूर्ति होगी| इसलिए आज हम आपको इस मूर्ति की खास बातों के बारे में आपको बताने वाले हैं|

यह भी पढ़ें : इतना बड़ा की अंतरिक्ष से भी साफ नजर आता है स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, अब तक लाख पर्यटकों ने देखा

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह मूर्ति 351 फुट की होगी और यह अगले साल मार्च तक बनकर तैयार हो जाएगी| बता दें कि उदयपुर से 50 किलोमीटर की दूरी पर नाथद्वारा के गणेश टेकरी में सीमेंट कंकरीट से बनी दुनिया की सबसे ऊंची शिव मूर्ति का 85 प्रतिशत निर्माण कार्य पूरा हो गया हैं| यह शिव मूर्ति दुनिया की चौथे नंबर की और भारत में दूसरे नंबर की सबसे ऊंची मूर्ति होगी|

यह विशालकाय शिव मूर्ति पिछले चार सालों से बन रही हैं और इसमें सीमेंट के लगभग तीन लाख बोरे, 2500 टन एंगल, 2500 टन सरिया इस्तेमाल किए जा चुके हैं और इसे बनाने में 750 कारीगर और श्रमिक प्रतिदिन काम कर रहे है| भगवान शिव की यह मूर्ति ध्यान और आराम की मुद्रा में हैं| इस मूर्ति में चार लिफ्ट पर्यटकों की सुविधा के लिये लगाए गए हैं और तीन सीढ़ियों का प्रावधान भी रखा गया है|

बता दें कि इस शिव मूर्ति को देखने के लिए पयर्टक 280 फुट की ऊंचाई तक ही जा सकेंगे| इसके अलावा इस प्रतिमा को 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कांकरोली फ्लाईओवर से देखा भी जा सकता है| इस विशालकाय शिव मूर्ति को रात में देखने के लिए विशेष लाइट भी लगाई जा रही है और इस लाइट को अमेरिका से आयात किया गया हैं| हवा के वेग और रूख के बारे में आस्ट्रेलिया की एक कंपनी से तकनीकी जानकारी ली गई|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on