Monday, December 18

आज है मार्गशीर्ष मंगलवार, शत्रुओं पर काबू पाकर शान से जीने के लिए करें ये उपाय

मार्गशीर्ष हिंदू पंचांग का 9वां महीना होता है। हिंदू शास्त्रों में इसे सबसे पवित्र महीना माना जाता है। इस बार मार्गशीर्ष का महीना 15 नवंबर से 13 दिसंबर तक रहेगा। इस माह को ‘अगहन’ भी कहा जाता है। मार्गशीर्ष का सम्पूर्ण मास अत्यन्त पवित्र माना जाता है। मास भर प्रात:काल भजन मण्डलियाँ भजन तथा कीर्तन करती हुई निकलती हैं। सत युग में देवों ने मार्गशीर्ष मास की प्रथम तिथि को ही वर्ष प्रारम्भ किया था। इसी मास में कश्यप ऋषि ने सुन्दर कश्मीर प्रदेश की रचना की थी। इसलिए इसी मास में महोत्सवों का आयोजन होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: अपनी राशि के अनुसार जानें किस खूबी के लिए आप हैं मशहूर, इस एक राशि के लोग हमेशा कर देते हैं इरिटेट

भागवत के अनुसार, भगवान श्रीकृष्ण ने भी कहा था कि- “सभी माह में मार्गशीर्ष श्रीकृष्ण का ही स्वरूप है।” मार्गशीर्ष मास में श्रद्धा और भक्ति से प्राप्त पुण्य के बल पर सभी सुखों की प्राप्ति होती है। इस माह में नदी में स्नान और दान-पुण्य का विशेष महत्व है। श्रीकृष्ण ने मार्गशीर्ष मास की महत्ता गोपियों को भी बताई थी।

उन्होंने कहा था कि- मार्गशीर्ष माह में यमुना में स्नान से मैं सहज ही सभी को प्राप्त हो जाऊंगा। तभी से इस माह में नदी स्नान का खास महत्व माना गया है। मार्गशीर्ष माह में नदी स्नान के लिए तुलसी की जड़ की मिट्टी व तुलसी के पत्तों से स्नान करना चाहिए। स्नान के समय ‘ॐ नमो नारायणाय’ या ‘गायत्री मंत्र’ का जप करना चाहिए।

ये हैं वो उपाय

मार्गशीर्ष शुक्ल द्वादशी को उपवास प्रारम्भ कर प्रतिमास की द्वादशी को उपवास करते हुए कार्तिक की द्वादशी को पूरा करना चाहिए।
इस दिन गौओं का नमक दिया जाए तथा माता, बहिन, पुत्री और परिवार की अन्य स्त्रियों को एक-एक जोड़ा वस्त्र प्रदान कर सम्मानित करना चाहिए।

मार्गशीर्ष की पूर्णिमा को चन्द्रमा की अवश्य ही पूजा की जानी चाहिए, क्योंकि इसी दिन चन्द्रमा को सुधा से सिंचित किया गया था।

साहस में वृद्धि हेतु देवी रक्तदंतिका पर चढ़े सिंदूर से नित्य तिलक करें।

आज का एनिवर्सरी गुडलक: दुर्भाग्य से मुक्ति हेतु देवी रक्तदंतिका पर चढ़ा लाल वस्त्र किसी सुहागन को भेंट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *