Sunday, November 19News That Matters

मंगलदोष से पाना है छुटकारा तो मंगलवार के दिन कर लें इनमें से कोई भी एक काम

अक्सर देखा गया है कि जब बच्चों को नजर लग जाती है तो उनकी नजर विशेष रूप से मंगलवार या शनिवार के दिन उतारी जाती है। ऐसा क्यों? इसका सीधा अर्थ यही है कि प्रत्येक वार का अपना अलग महत्व है। सप्ताह के इन वारों का सीधा संबंध विभिन्न ग्रहों से है, इसलिए जिस ग्रह को शांत करना हो, उससे संबंधित उपाय विशेष वार को किए जाते हैं। शास्‍त्रों में भी माना गया है कि अगर आपकी कुंडली में कोई ऐसा ग्रह है, जो आपको कष्ट पहुंचा रहा है, तो आपको उस ग्रह से संबंधित देवी-देवता की आराधना करके उन ग्रहों को और अधिक शक्ति प्रदान नहीं करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: शाम के समय भूल से भी ना करें ये 5 काम आती है दरिद्रता

क्योंकि कष्टदाई ग्रह की शक्ति बढ़ने से आपके कष्ट में इजाफा ही होगा। हां, उस ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान करने से उस ग्रह की दुष्टता कम होगी और आप का कष्ट कम होगा। मंगल उग्र ग्रह है और इनका वर्ण लाल माना जाता है। जिसके कारण मंगल देव को लाल पुष्प, कुमकुम और अन्य रक्त वर्णित तत्व चढ़ाए जाते हैं। जन्मकुंडली में यदि मांगलिक दोष होता है तो व्यक्ति को विवाह संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

मंगलदेव को प्रसन्न करने के उपाय

मंगल एक उग्र ग्रह है। इसका रंग लाल होता है। लाल ग्रह की आराधना और शांति के लिए लाल रंग का विशेष महत्व है। ऐसे में श्री मंगल यंत्र की विधिवत स्थापना और पूजन करना शुभ फलदायी होता है।

मंगलनाथ के दर्शन और साथ ही मंगलयंत्र पर लाल पुष्प अर्पित करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।

मंगलवार के दिन लाल वस्त्र दान करने से विवाह में आ रही बाधाएं दूर होती हैं।

मंगलवार का व्रत करने और उपासना के बाद लाल रंग की खाद्य सामग्री बनाकर उसका दान करने से मंगलदेव प्रसन्न होते हैं।

मंगल देव को प्रसन्न करने के लिए ऊं भौमाय नमः का मंत्र जाप बहुत ही उत्तम होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: